Drinking Water: आप पानी किस तरह से पीते हैं, गट-गट कर के या घूंट-घूंट कर? जानिए किस तरह से पानी पीना है सही

Drinking Water: पानी पीते रहने से शरीर हाइड्रेट रहता है। लेकिन, यदि सही तरीके से पानी नहीं पीने पर यह कई समस्‍याओं का कारण बन सकता है।  

Atul Modi
Written by: Atul ModiPublished at: Aug 07, 2020
Drinking Water: आप पानी किस तरह से पीते हैं, गट-गट कर के या घूंट-घूंट कर? जानिए किस तरह से पानी पीना है सही

ये बात हम अच्‍छी तरह से जानते हैं कि शरीर को सही तरीके से हाइड्रेट रखने के लिए पानी पीना सबसे महत्वपूर्ण होता है। साफ और शुद्ध पानी पोषक तत्‍वों युक्‍त होने के कारण यह शरीर में जरूरी खनिज पदार्थों की आपूर्ति करता है। पर्याप्‍त मात्रा में पानी पीने से मोटापा की समस्‍या नहीं होती है और न ही पेट संबंधी कोई रोग होते हैं। लेकिन एक सवाल है जो हर किसी के मन में घूमता रहता है वह यह है कि, पानी को कैसे पिएं जिससे शरीर हाइड्रेटेड रहे और जरूरी फायदा पहुंचाए।

क्योंकि बहुत लोग पानी पीने को लेकर तमाम तरह की गलतियां करते हैं, वहीं कुछ लोगों में पानी पीने को लेकर कई प्रकार के भ्रम हैं। कुछ लोगों का मानना है कि पानी गट-गट कर पीना चाहिए तो वहीं कुछ लोग घूंट-घूंट कर पीना फायदेमंद मानते हैं। अगर इस तरह के सवाल आपके मन में भी उठते हैं तो आइए जानते हैं कि पानी पीने को सही तरीका क्या है? और हमें प्रतिदिन कितने मात्रा में पानी पीना चाहिए।

drinking-water

गट गट कर के या घूंट-घूंट कर के पानी पीना चाहिए? 

आयुर्वेद के अनुसार, पानी कभी भी हमें गट-गट करके या एक हीं सांस में नहीं पीना चाहिए क्योंकि पानी पीने के दौरान हमारा लार पानी के साथ मिलकर हमारे शरीर के अंदर जाती है। लार ही हमारे पाचन तंत्र को मजबूत करने का कार्य करती है। लार में कई ऐसे हेल्‍दी बैक्‍टीरिया होते हैं तो पेट के लिए फायदेमंद होते हैं। इसीलिए पानी हमेशा धीरे-धीरे या घूंट-घूंट कर के पीना सही माना गया है। इससे शरीर के सभी अंगों को पर्याप्‍त मात्रा पानी और पोषण मिलता रहता है। इससे पानी पीने का पूरा फायदा मिलता है। 

इसे भी पढ़ें: पानी पीते समय ये 5 गलतियां पहुंचा सकती हैं से‍हत को नुकसान, जानें क्‍या है पानी पीने का सही तरीका?

खड़े होकर पानी पीना हो सकता है नुकसानदेह

आयुर्वेद व शोधर्तोओं के अनुसार पानी कभी भी खड़े होकर नहीं पीना चाहिए। अगर आप खड़े होकर पानी पीते हैं, तो पानी सीधे व तेजी से पेट के निचले हिस्से में चला जाता है। जिससे शरीर को पानी के पर्याप्त मात्रा में पोषक तत्व नहीं मिल पाते हैं। इस तरह पानी पीने से घुटनों में दर्द की समस्‍या हो सकती है। पाचन संबंधी समस्‍याएं हो सकती हैं। हाइड्रेटेड रहने में बाधा उत्‍पन्‍न हो सकती है।

इसे भी पढ़ें: आप पानी पीकर भी बढ़ा सकते हैं अपनी रोग प्रतिरोधक क्षमता (इम्‍यूनिटी), जानिए सेवन का तरीका

drinking-water

कैसा पानी है शरीर के लिए फायदेमंद

आयुर्वेद के अनुसार पानी हमेशा शरीर के तापमान से ठंडा नहीं होना चाहिए। जितना हमारे शरीर का तापमान होता है या गर्म रहता है उतना ही आपका पानी भी गर्म होना चाहिए। यानी आप नियमित रूप से गुनगुना पानी पी सकते हैं। दरअसल, गर्मियों में लोग फ्रीज का ठंडा पानी पीना पसंद करते है। लेकिन ये शरीर के लिए काफी नुकसानदेह होता है। बहुत ज्यादा ठंडा पानी पीना भी शरीर के लिए दिक्कतें पैदा करती हैं। ठंडा पानी पाचन संबंधी समस्‍याएं उत्‍पन्‍न कर सकता है। कब्‍ज की समस्‍या हो सकती है। इसलिए बहुत ज्यादा ठंडा या बर्फ वाले पानी पीने के बजाए नॉर्मल पानी या गुनगुना पानी ही पीना चाहिए।

Read More Articles On Healthy Diet In Hindi

Disclaimer