क्या है 'प्रोटीन वाटर' और कितना सेहतमंद है इसे पीना, जानें यहां

बाजार में 'प्रोटीन वॉटर' या बोतल में बंद पानी की बढ़ी मांग, जिसके प्रोटीन युक्त होने का दावा किया जा रहा है क्या वाकई में आपके लिए बेहतर है? और क्या वाकई में उसके भीतर उतनी मात्रा में प्रोटीन है? इस बात को लेकर लोगों के बीच भ्रम की स्थिति भी फैली

Jitendra Gupta
Written by: Jitendra GuptaPublished at: May 02, 2019
क्या है 'प्रोटीन वाटर' और कितना सेहतमंद है इसे पीना, जानें यहां

बाजार में 'प्रोटीन वॉटर' या बोतल में बंद पानी की बढ़ी मांग, जिसके प्रोटीन युक्त होने का दावा किया जा रहा है क्या वाकई में आपके लिए बेहतर है? और क्या वाकई में उसके भीतर उतनी मात्रा में प्रोटीन है? इस बात को लेकर लोगों के बीच भ्रम की स्थिति भी फैली हुई है कि आमतौर पर वर्कआउट के बाद या थकान होने पर इसके उपयोग से शरीर में जरूरी प्रोटीन की मात्रा पूरी हो जाती है जबकि ऐसा नहीं है क्योंकि इसमें वे नौ प्रकार के एमिनो एसिड नहीं पाए जाते हैं जो प्रोटीन में होने चाहिए।

एक बोतल में 15 से 20 ग्राम होता है प्रोटीन

प्रोटीन वॉटर में वेट प्रोटीन आइसोलेट होते हैं, जो कमजोर मांसपेशियों के विकास व उसके मास को बढ़ाने में योगदान देते हैं। आमतौर पर प्रोटीन वॉटर की एक लीटर वाली बोतल में 60 से 90 कैलोरी और 15 से 20 ग्राम प्रोटीन होता है।

इसे भी पढ़ेंः 30 की उम्र के बाद इन 6 आहारों का सेवन कर दें कम, होती हैं कई स्वास्थ्य समस्याएं

एक्सरसाइज के बाद रिकवरी में करता है मदद

अच्छी खबर यह है कि प्रोटीन वॉटर में प्रोटीन शेक की तुलना में आमतौर पर कम कैलोरी और कम शुगर की मात्रा होती है। कई लोग एक्सरसाइज के बाद तुरंत रिकवरी में मदद के लिए इसका प्रयोग करते हैं। वर्कआउट के बाद प्रोटीन को इस रूप में लेने से वर्कआउट के दौरान क्षतिग्रस्त हुई मांसपेशियों को फिर से बनाने में मदद मिल सकती है। अगर आप इसलिए इसका प्रयोग करते हैं तो आप ऐसा करना जारी रखें।

जरूरी एमिनो एसिड नहीं होते मौजूद

ऐसा कहा जाता है कि वर्कआउट के बाद असली खाना खाने की जरूरत होती है। इस तरह के पानी में मौजूद प्रोटीन पूर्ण प्रोटीन नहीं होता, जिसका मतलब है कि इसमें सभी प्रकार के 9 जरूरी एमिनो एसिड मौजूद नहीं होते हैं। मीट और बीन जैसे असल खाद्य उत्दापों से मिलने वाला प्रोटीन आपके अनुभव को और संतोषजनक बनाएगा और आपका पेट ज्यादा देर तक भरा रखेगा। दिन भर में मांसपेशियों के निर्माण के लिए आपको लक्षित बॉडी वेट के हिसाब से प्रति किलो 1.2 से 2 ग्राम प्रोटीन लेना चाहिए। इसलिए वर्कआउट के बाद एक बोतल प्रोटीन वॉटर से ज्यादा कुछ होने वाला नहीं है।

इसे भी पढ़ेंः क्‍या गर्मी के मौसम में अंडे का सेवन हानिकारक है? जानें एक्‍सपर्ट की राय

ये लोग रहे प्रोटीन वॉटर से दूर

इसके अलावा  प्रोटीन वॉटर में प्रोटीन शेक की तुलना में कम शुगर और सुक्रालोज या स्टीविया जैसे कृत्रिम मीठे की मात्रा कम होती है, जो कि मीठा खाने की इच्छा से जुड़ा हुआ है। अगर आप दुग्धशर्करा बर्दाश्त करने वालों में से नहीं हैं तो आपको प्रोटीन वॉटर से दूर रहना चाहिए।

रोजाना प्रयोग में लाने से बचें

प्रोटीन वॉटर की एक बोतल आपको नुकसान नहीं पहुंचाएगी लेकिन आप इसका प्रयोग रोजाना न करें। हालांकि इसमें प्रोटीन शेक या प्रोटीन बार की तुलना में कम कैलोरी हो सकती है लेकिन यह फिर भी पूर्ण रूप से शुगर फ्री या कैलोरी फ्री नहीं है।

प्रोटीन युक्त चीजों के साथ करें प्रयोग

सबसे जरूरी बात, प्रोटीन वॉटर एक्सरसाइज के बाद रिकवरी के लिए आवश्यक प्रोटीन और कार्बोहाइड्रेट की अनुशंसित मात्रा नहीं देता है और न ही लंबे समय तक किसी व्यक्ति को ताकत देता है। इसलिए अगर आप वास्तव में इसका प्रयोग करना चाहते हैं तो इसे अन्य प्रोटीन युक्त शेक जैसे दही, चीज के साथ लें।

Read More Articles On Diet & Nutrition In Hindi

Disclaimer