महीने भर शराब छोड़ने से लिवर सिरोसिस और दिल की बीमारियों का खतरा होता है कम, मिलते हैं ये 4 फायदे

अमेरिकन जर्नल ऑफ पब्लिक हेल्थट्रस्टेड सोर्स में प्रकाशित आंकड़ों की मानें, तो कैंसर से होने वाली लगभग 3.5 प्रतिशत मौतों का संबंध शराब से था।

Pallavi Kumari
Written by: Pallavi KumariPublished at: Jan 20, 2020Updated at: Jan 20, 2020
महीने भर शराब छोड़ने से लिवर सिरोसिस और दिल की बीमारियों का खतरा होता है कम, मिलते हैं ये 4 फायदे

जनवरी को कुछ लोग ड्राई डे के रूप में मना रहे हैं और अपने आप को शराब न पीने के लिए मोटिवेट कर रहे हैं। लेकिन एक महीने के लिए अल्कोहल से परहेज करते समय ये एक ट्रेंडी, अल्पकालिक नए साल के संकल्प की तरह लग सकता है, जिसके कई स्वास्थ्य लाभ हैं। अमेरिकन बोर्ड ऑफ ओबेसिटी मेडिसिन की मानें, तो बस 30 दिन के लिए शराब छोड़ दिया जाए, तो इससे शरीर को कई तरह के लाभ मिलते हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि यह उनके आधारभूत व्यवहार में पूरी तरह से बदलाव ला सकता है। शोधकर्ताओं की मानें, तो कोई व्यक्ति जो कम से कम पीता है, लेकिन एक महीने तक अगर वो शराब से दूर रहते हैं, तो अपने इस निर्धारित लक्ष्य को प्राप्त करने के बाद वो स्वस्थ्य महसूस कर सकता है। ये उनमें उपलब्धि की भावना डाल सकती है। एक निर्धारित लक्ष्य को प्राप्त करने के अलावा ये उनमें अधिक मानसिक स्पष्टता, बेहतर नींद, वजन कम करना और शरीर को 'डिटॉक्स' करमे में मदद कर सकता है। आइए जानते हैं इसके बारे में।

blush is not for the apples of your cheeks heres why

लगातार कुछ दिनों के लिए शराब छोड़ने के लाभ-

जो लोग अक्सर या रोज पीते हैं, उनके लिए ड्राई डे काफी फायदेमंद हो सकता है।

लिवर सिरोसिस

ज्यादा पीने वालों में समय के साथ लिवर का सिरोसिस हो सकता है। यह एक दिन में नहीं होता है, लेकिन जो लोग अधिक मात्रा में पीते हैं, उनके लिवर में फैटी लिवर से जुड़ी परेशानियां हो सकती हैं। इसलिए जब आप शराब पीना बंद कर देते हैं, तो परिवर्तन प्रतिवर्ती होते हैं और लीवर को इससे इतना आराम मिलता है कि वो फिर से अपने सही रूप में आ जाते हैं। ऐसा इसलिए भी क्योंकि लिवर एक सहिष्णु अंग है और शुष्क होने के हफ्तों के भीतर इसमें सकारात्मक परिवर्तन हो सकते हैं। शराब के अभाव में, लीवर अपने अन्य कामों पर ध्यान केंद्रित कर सकता है, जैसे कि शरीर द्वारा उत्पादित अन्य विषाक्त पदार्थों को तोड़ना, फैट और अतिरिक्त हार्मोन का चयापचय को ठीक करना।

इसे भी पढ़ें: महिलाएं इस 1 काम को छोड़कर सुधार सकती हैं अपना मानसिक स्वास्थ्य, करना है बेहद आसान

हृदय रोग का जोखिम 

अल्कोहल को डीहाइड्रोजेनेसिस नामक एक एंजाइम द्वारा पचाया जा सकता है। हालांकि, जब आप अधिक मात्रा में शराब में पीते हैं, तो एंजाइम संतृप्त हो जाता है और एक अलग एंजाइम द्वारा चयापचय होता है। जब यह अलग-अलग मार्ग से मेटाबोलाइज होता है, तो यह बहुत सारे फ्री रेडिकल्स को उत्पन्न करता है, जो खराब कोलेस्ट्रॉल (एलडीएल) को ऑक्सीडाइज करने के लिए जाना जाता है। वहीं ये एलडीएल के ऑक्सीकरण होने पर यह कैरोटिड धमनियों पर भी जाकार जमा हो जाता है। दूसरी ओर अगर आप मॉडरेशन में पीते हैं, तो एलडीएल पर अल्कोहल का कोई प्रभाव नहीं पड़ता है, और इसके बजाय अच्छे कोलेस्ट्रॉल (एचडीआर) में वृद्धि होती है।

सप्ताह में एक या दो बार एक या दो गिलास वाइन पीने से कुछ स्वास्थ्य लाभ होते हैं, खासकर 40 से अधिक उम्र के पुरुषों के लिए जिनमें यह हृदय रोग के जोखिम को कम करता है। हालांकि, ध्यान देने वाली बात ये है कि चीनी और भारतीय मूल के लोगों को जेनेटिक कारण से शराब पीने का लाभ नहीं मिलता है, जिसके कई कारण हैं। अल्कोहल की कम मात्रा से दिल के लिए फायदेमंद है, लेकिन अधिक मात्रा में शराब से हृदय रोग का खतरा और बढ़ सकता है।

कैंसर का खतरा 

अमेरिका के स्वास्थ्य और मानव सेवा विभाग के राष्ट्रीय विष विज्ञान कार्यक्रम कार्सिनोजेन्स पर अपनी रिपोर्ट में एक मानव कार्सिनोजेन के रूप में शराब को सूचीबद्ध किया है। रिपोर्ट में कहा गया है कि एक व्यक्ति के अल्कोहल से जुड़े कैंसर विकसित होने का जोखिम अधिक शराब के साथ बढ़ता है, खासकर जो नियमित रूप से इसे उसी समय पर पीते हैं। वहीं लगातार शरीब पीना और अधिक मात्रा में पीना कई तरह के कैंसर का कारण हो सकते हैं। जैसे-

  • सर और गर्दन से जुड़ा कैंसर
  • एसोफेगल कैंसर (esophageal)
  • लिवर से जुड़ा कैंसर
  • स्तन कैंसर
  • कोलोरेक्टल

वजन घटाना

शराब में अधिक कैलोरीज होते हैं और इनमें अधिक मात्रा में चीनी भी होता है। वहीं शराब पीना बंद करने से यह वजन कम करने में मदद कर सकता है। ये शरीर की संरचना में सुधार, पेट की चर्बी कम होना, ट्राइग्लिसराइड्स में सुधार (रक्त में वसा कणों में से एक) के आधार पर दिखाई दे सकता है। वजन घटाने के लिए शराब पूरी तरह से बंद करना, आहार, व्यायाम को संतुलित करने और नींद व तनाव को ठीक करने में मदद कर सकती है।

Read more articles on Miscellaneous in Hindi

Disclaimer