Doctor Verified

क्या मेनोपॉज बनता है 55-60 के बाद महिलाओं में वजन बढ़ने का कारण? डॉक्टर से जानें सच्चाई

55-60 की उम्र के बाद महिलाओं को मेनोपॉज हो जाता है। इसी उम्र में उनका वजन भी बढ़ने लगता है, तो क्या इन दोनों में कोई संबंध है?

Monika Agarwal
महिला स्‍वास्थ्‍यWritten by: Monika AgarwalPublished at: Jun 04, 2022Updated at: Jun 04, 2022
क्या मेनोपॉज बनता है 55-60 के बाद महिलाओं में वजन बढ़ने का कारण? डॉक्टर से जानें सच्चाई

बहुत सी महिलाएं जैसे-जैसे अपने मेनोपॉज फेज की ओर जाती हैं, उन्हें काफी डर लगने लगता है। उन्हें यह बात परेशान करती है कि जैसे ही उनके पीरियड्स आना बंद हो जायेंगे तो वह हर समय ब्लोटेड महसूस करेंगी और उनका वजन न चाहते हुए भी बढ़ने लग जाएगा। फिर वो अपनी मर्जी की टॉप्स और ड्रेसेज नहीं पहन पाएंगी। लेकिन आपको जान लेना चाहिए कि यह पूरा सच नहीं है। मेनोपॉज के समय आपके शरीर में काफी बदलाव होते हैं लेकिन यह बदलाव हमेशा के लिए नहीं रहते। मदरहुड हॉस्पिटल में सीनियर आब्सट्रिशियन एंड गायनेकोलॉजिस्ट डॉक्टर मनीषा रंजन के अनुसार पेरिमेनोपॉज व मेनोपॉज स्टेज पर महिलाओं का वजन बढ़ना बहुत ही आम बात है (Weight Gain During Menopause)। आपने जरूर इस बारे में सुना होगा कि जैसे ही हमारे रिप्रोडक्टिव सालों का अंत नजदीक आता है तो हमारा मेटाबॉलिज्म धीमा होने लगता है। इससे न चाहते हुए भी आपका वजन बढ़ने लगेगा। लेकिन यह बात गलत है। वजन बढ़ना मेनोपॉज से (Weight Gain During Menopause) किसी भी तरह नहीं जुड़ा हुआ है।

women health

कहीं बॉडी फैट तो नहीं कारण

आपको जानना चाहिए कि महिलाएं 50 साल के बाद या मेनोपॉज की उम्र के नजदीक आने के बाद ही वजन नहीं बढ़ातीं बल्कि 20 से 30 साल की उम्र में भी उनका वजन बढ़ता है। अगर मेनोपॉज के दौरान आपका थोड़ा बहुत वजन बढ़ा हुआ भी महसूस होता है तो यह आपकी उम्र बढ़ने के कारण होता है न कि आपके शरीर में मेनोपॉज की दस्तक के कारण। यह वजन आपके शरीर में फैट की मात्रा के बढ़ने के कारण हो सकता है, जिसका मेनोपॉज से दूर दूर तक कोई नाता नहीं होता है। हर व्यक्ति साल में दो तीन किलो वजन कम कर लेता है या बढ़ा लेता है। ऐसा उसके खान पान और लाइफस्टाइल के कारण भी हो सकता है। इसलिए यह धारणा बिलकुल ही गलत है कि मेनोपॉज के कारण आपका वजन बढ़ता है। मेनोपॉज के कारण आपका मेटाबॉलिज्म भी धीमा नहीं होता।

इसे भी पढ़ें- क्या प्रेगनेंसी में सीढ़ियां चढ़ना सुरक्षित है? जानें इसके फायदे, नुकसान और जरूरी सावधानियां

महिलाओं का मेटाबॉलिज्म 20 से 60 साल की उम्र तक रहता है स्थिर

मेनोपॉज के समय बहुत सी महिलाओं में यह धारणा भी होती है कि इस दौरान उनका मेटाबॉलिज्म धीमा होने लगता है। इस समय आपकी उम्र बढ़ने लगती है और आपका शरीर धीरे और कम एनर्जी के साथ काम करना शुरू कर देता है। अगर आप इस उम्र में एक आइस क्रीम खा लेती हैं तो आप उसकी कैलोरीज़ को इतनी जल्दी बर्न नहीं कर पाएंगी जितनी जल्दी आप 20 या 30 साल की उम्र में कर देती थी। महिलाओं का मेटाबॉलिज्म 20 से 55-60 साल की उम्र तक थोड़ा स्थिर रहता है। जब वह 60 तक पहुंचने लगती हैं तो मेटाबॉलिज्म भी धीमा होना शुरू हो जाता है। इसलिए इस बात का कारण भी आपकी उम्र हो सकती है आपके शरीर में होने वाले बदलाव नहीं।

पुरुषों में भी इस उम्र में वजन बढ़ता है

अगर आपको लग रहा है कि इस उम्र में आपका वजन मेनोपॉज के कारण ही बढ़ रहा है तो आपको अपने पति या अपनी उम्र के अन्य पुरुषों की सेहत की ओर भी देखना चाहिए। इस समय सभी जेंडर के लोगों का ही वजन बढ़ता है फिर चाहे वह महिला हो या फिर पुरुष। ऐसा उम्र बढ़ने के कारण शरीर में एनर्जी न बचने और ज्यादा एक्टिव न रहने के कारण भी हो सकता है। हालांकि अगर आप केवल खाने पीने और एक्सरसाइज आदि न करने पर ध्यान देंगी तो आपका इस उम्र में वजन अपने आप ही बढ़ सकता है।

कई बार मेनोपॉज के दौरान भी वजन बढ़ सकता है लेकिन वह तब होगा जब आपका लाइफस्टाइल हेल्दी नहीं होगा और आप इन बदलावों की वजह से अच्छा नहीं महसूस कर पाएंगी। लेकिन ऐसा काफी कम होता है। इसलिए मेनोपॉज को अपने वजन बढ़ने का कारण न माने।

Disclaimer