पुरुषाें काे भी हाे सकता है ब्रेस्ट कैंसर, जानें महिलाओं और पुरुषाें के स्तन कैंसर में अंतर

ब्रेस्ट कैंसर सिर्फ महिलाओं काे ही नहीं बल्कि पुरुषाें काे भी हाे सकता है। चलिए जानते हैं इन दाेनाें में ब्रेस्ट कैंसर के लक्षण, कारण और बचाव के टिप्स

Anju Rawat
Written by: Anju RawatPublished at: Oct 06, 2021
पुरुषाें काे भी हाे सकता है ब्रेस्ट कैंसर, जानें महिलाओं और पुरुषाें के स्तन कैंसर में अंतर

आपने अकसर महिलाओं काे हाेने वाले स्तन कैंसर या ब्रेस्ट कैंसर (Breast Cancer) के बारे में सुना हाेगा, लेकिन क्या आप जानते हैं पुरुषाें काे भी स्तन कैंसर हाे सकता है। दुनियाभर में महिलाओं के साथ ही पुरुषाें में भी स्तर कैंसर के लक्षण नजर आते हैं (Breast Cancer in Male)। अकसर जब पुरुषाें के ब्रेस्ट टिश्यू में कैंसर का विकास हाेता है, ताे इसे पुरुषाें में हाेने वाला कैंसर यानी मेल ब्रेस्ट कैंसर कहा जाता है। अगर कैंसर के शुरुआती लक्षण दिखने पर ही इलाज करवाया जाए, ताे इससे काफी हद तक बीमारी काे रिकवर किया जा सकता है।  

ब्रेस्ट कैंसर में कीमाेथेरेपी और रेडिएशन थेरेपी के द्वारा ट्रीटमेंट करवाया जाता है। कैंसर का इलाज राेगी के स्टेज के अनुसार तय किया जाता है। नानावती मैक्स इंस्टीट्यूट ऑफ कैंसर केयर के स्तन सर्जिकल ऑन्कोलॉजी और ऑन्कोप्लास्टिक सर्जरी के डॉ गर्वित चितकारा वरिष्ठ सलाहकार बताते हैं कि कैंसर सामान्य कोशिकाओं की अनियंत्रित और असामान्य वृद्धि के अलावा और कुछ नहीं है। जिसके परिणामस्वरूप ट्यूमर का निर्माण होता है। अगर किसी पुरुष या महिला के स्तन क्षेत्र में गांठ बन जाती है, तो इसे स्तन कैंसर के रूप में जाना जाता है। लेकिन सभी गांठ कैंसर नहीं हाेती है। पुरुषों को भी स्तन कैंसर हो सकता है और सभी स्तन कैंसर के मामलों में लगभग 1% से 2% हिस्सा होता है। महिलाओं की तुलना में स्तन कैंसर से पीड़ित पुरुषों की जीवित रहने की दर कम है, जो जागरूकता की कमी, समय पर निदान और उपचार के कारण हो सकती है।

इसे भी पढ़ें - ब्रेस्ट कैंसर कितने प्रकार के होते हैं? जानें इनके लक्षणों के बारे में

महिलाओं में स्तन कैंसर के लक्षण (Breast Cancer Symptoms in Female)

  • स्तन या बगल में लगातार दर्द हाेना
  • स्तन की त्वचा का लाल हाेना
  • निप्पल पर दाने हाेना
  • स्तनाें के आकार में बदलाव हाेना
  • निप्पल से डिस्चार्ज हाेना, इसमें रक्त भी डिस्चार्ज हाे सकता है।

महिलाओं में स्तन कैंसर के कारण  (Breast Cancer Causes in Female)

उम्र : उम्र बढ़ने के साथ स्तन या ब्रेस्ट कैंसर का जाेखिम बढ़ जाता है।

जेनेटिक्स : अगर किसी के परिवार में किसी सदस्य काे कैंसर है, ताे अन्य लाेगाें काे कैंसर हाेने की संभावना बढ़ जाती है। 

शरीर का वजन बढ़ना : शरीर का वजन बढ़ना भी ब्रेस्ट कैंसर का कारण बन सकता है। मेनाेपॉज के बाद बढ़े वजन की वजह से महिलाओं में स्तन कैंसर का खतरा बढ़ जाता है।

शराब का सेवन : शराब का सेवन भी ब्रेस्ट कैंसर का कारण हाे सकता है। शराब कई बीमारियाें का कारण बनता है, स्तन कैंसर इन्हीं में से एक है।

हॉर्माेनल बदलाव : कभी-कभी हॉर्माेनल बदलाव भी ब्रेस्ट कैंसर का कारण बन सकता है। 

breast cancer

पुरुषाें में स्तन कैंसर के लक्षण (Breast Cancer Symptoms in Male)

शुरुआती स्टेज में पुरुषाें में स्तन कैंसर के काेई खास लक्षण नजर नहीं आते हैं, लेकिन इसके शुरुआत में एक गांठ बनने लगती है। यह गांठ दर्दरहित हाेती है। जिसे अकसर लाेग नजरअंदाज कर देते हैं। इसलिए अगर आप एक पुरुष है, ताे स्तन कैंसर के लक्षण जान लें।

  • स्तन पर दर्दरहित गांठ हाेना
  • निप्पल में बदलाव हाेना
  • निप्पल का रंग लाल हाेना
  • निप्पल से डिस्चार्ज हाेना
  • स्तन के रंग में बदलाव हाेना
  • बांह के नीचे गांठ बनना
  • निप्पल अल्सरेशन
इन सभी लक्षणाें से स्तन या ब्रेस्ट कैंसर की पहचान की जा सकती है।
 

पुरुषाें में स्तन कैंसर के कारण (Breast Cancer Causes in Male)

वैसे ताे पुरुषाें में हाेने वाले स्तन कैंसर के बारे में अभी तक सही से पता नहीं चल पाया है। लेकिन कुछ ऐसे कारण हैं, जिन्हें पुरुषाें में स्तन कैंसर के लिए जिम्मेदार माना जाता है। 

उम्र बढ़ना : पुरुषाें में बुढ़ापे में ब्रेस्ट कैंसर का खतरा काफी अधिक रहता है।

माेटापा : माेटापा कई बीमारियाें का कारण हाेता है। यह पुरुषाें में ब्रेस्ट कैंसर का कारण भी है।

पारिवारिक इतिहास :  अगर आपके परिवार में किसी काे ब्रेस्ट कैंसर है, ताे संभावना है कि यह आने वाली पीढ़ियाें काे भी हाे सकता है। इसलिए समय-समय पर जांच करवा लेनी चाहिए।

टेस्टिकल में चाेट : टेस्टिकल में चाेट भी पुरुषाें में ब्रेस्ट कैंसर के जाेखिम काे बढ़ाता है।

धूम्रपान और शराब : पुरुषाें में स्तन कैंसर हाेने का कारण धूम्रपान और शराब भी हाे सकता है। 

स्तन कैंसर के लिए बचाव टिप्स (Prevention Tips for Breast Cancer in Male)

पुरुषाें में स्तन कैंसर के जाेखिम काे कम करने के लिए कुछ खास बचाव टिप्स काे फॉलाे करना जरूरी हाेता है। जैसे

  • धूम्रपान और शराब से दूरी बनाकर रखना।
  • नियमित रूप से एक्सरसाइज या व्यायाम और याेगा करना।
  • अच्छा डाइट प्लान फॉलाे करना।
  • समय-समय पर अपना हेल्थ चेकअप करवाते रहना।
  • अगर परिवार में किसी सदस्य काे कैंसर है, ताे अपना अधिक ध्यान रखना और डॉक्टर के संपर्क में रहना।

अगर आप भी मानते थे कि सिर्फ महिलाओं काे ही स्तन कैंसर हाे सका है, ताे यह गलत है। क्याेंकि महिलाओं की तरह ही पुरुष भी स्तन कैंसर से जूझ सकते हैं। उन्हें भी इससे बचाव करना जरूरी हाेता है।

Disclaimer