लगातार दूसरे दिन 2 हजार से ज्यादा आए कोरोना मामले, 3 महीने में पहली बार R-वैल्यू 1 से ऊपर, जानें इसके मायने

देश में कोरोना संक्रमण के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं, इसके बीच चेन्नई के गणितीय विज्ञान संस्थान के मुताबिक कि संक्रमण की R-Value 1 से ऊपर हो गयी है।

Prins Bahadur Singh
Written by: Prins Bahadur SinghPublished at: Apr 21, 2022Updated at: Apr 21, 2022
लगातार दूसरे दिन 2 हजार से ज्यादा आए कोरोना मामले, 3 महीने में पहली बार R-वैल्यू 1 से ऊपर, जानें इसके मायने

देश में बीते कुछ दिनों से कोरोना संक्रमण के मामलों में लगातार बढ़ोत्तरी देखने को मिल रही है, कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए कई राज्यों में फिर से संक्रमण को रोकने के लिए पाबंदियां लगाई जा रही हैं। देश में कोरोना से संक्रमित टॉप 5 राज्यों की स्थिति को देखते हुए केंद्र सरकार ने इन राज्यों को अलर्ट भी किया है। दुनियाभर के कई देशों के साथ भारत में बढ़ रहे कोरोना वायरस के मामलों को देखते हुए वैज्ञानिक चौथी लहर के खतरों को लेकर लोगों को आगाह कर रहे हैं। देश में बढ़ रहे कोरोना संक्रमण के मामलों के बीच एक और आंकड़े ने सरकार और डॉक्टर्स की चिंता बढ़ा दी है। चेन्नई के गणितीय विज्ञान संस्थान (IMS) के शोधकर्ता के मुताबिक देश में कोरोना संक्रमण की आर वैल्यू (R Value) तीन महीने के बाद फिर से 1 से ऊपर हो गयी है। आर वैल्यू दरअसल प्रभावी रीप्रोडक्शन नंबर (R) जिसके बढ़ने का मतलब यह है कि संक्रमण तेजी से फैल रहा है। तीसरी लहर के खत्म होने के बाद अब देश में कोरोना की चौथी लहर का खतरा मंडरा रहा है और लोगों में कोरोना के  XE वैरिएंट का खौफ भी देखने को मिल रहा है। आइये विस्तार से जानते हैं देश में कोरोना संक्रमण की स्थिति और आर वैल्यू के बढ़ने के मायने।

बीते 24 घंटे में सामने आये इतने नए मामले (Coronavirus Omicron Cases in India Update)

केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय के द्वारा जारी आंकड़ों के मुताबिक देश में कोरोना संक्रमण के मामले लगातार बढ़ रहे हैं। लगातार दो दिनों से रोजाना सामने आ रहे नए मामले 2 हजार के पार बने हुए हैं। सरकार द्वारा जारी आंकड़ों के मुताबिक देहस में बीते 24 घंटे में कोरोना के 2,380 नए मामले सामने आये हैं। नए मामलों के सामने आने के बाद भारत में कोरोना संक्रमण का डेली पॉजिटिविटी रेट 0.53% हो गया है। बीते 24 घंटे में कोरोना संक्रमण के चलते 56 लोगों की मौत भी हुई है और इस दौरान कोरोना संक्रमण से 1,231 लोग ठीक भी हुए हैं। आंकड़ों के मुताबिक देश में बीते 24 घंटे में 449114 सैंपल टेस्ट किये गए हैं। कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों को देखते हुए कई राज्यों में पाबंदियों का दौर फिर से शुरू हो गया है और माना ये जा रहा है कि आने वाले दिनों में कुछ और राज्यों में भी कोरोना संक्रमण के चलते पाबंदियां लागू कर दी जाएंगी।

Covid-R-Value-Updates

इसे भी पढ़ें : हाथ के ऊपरी हिस्से में ही क्यों लगती है कोरोना वैक्सीन? एक्सपर्ट से जानें जवाब

राजधानी दिल्ली में एक दिन में बढ़े 60% मामले (Coronavirus Update in Delhi)

देश की राजधानी दिल्ली में कोरोना संक्रमण लगातार गंभीर स्थिति में बना हुआ है। बीते 24 घंटे में कोरोना के 1,009 नए मामले सामने आये हैं और इस दौरान इलाज करा रहे 1 संक्रमित व्यक्ति की मौत होने की सूचना है। बीते कई दिनों से राजधानी में कोरोना के नए मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। दिल्ली में कोरोना का पॉजिटिविटी रेट बढ़कर 5.70% हो गया है। आकड़ों के मुताबिक राजधानी दिल्ली में 10 तीसरी लहर के दौरान इतने मामले देखने को मिले थे। 10 फरवरी के बाद अब दिल्ली में 1 हजार से ज्यादा कोरोना के नए मामले देखने को मिले हैं। दिल्ली में कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए सरकार की तरफ से कई पाबंदियां लगाई गयी हैं। दिल्ली सरकार ने एक अहम बैठक करते हुए यह फैसला लिया है कि सार्वजानिक स्थलों पर मास्क न पहनने वाले लोगों पर अब 500 रुपये का जुर्माना लगाया जायेगा।

इसे भी पढ़ें : कोरोना के नए XE, XD और XF स्ट्रेन कैसे हैं एक दूसरे से अलग? जानें कौन सा कॉम्बिनेशन है ज्यादा खतरनाक

दिल्ली के अलावा देश के कई अन्य राज्यों में भी कोरोना संक्रमण की स्थिति गंभीर बनी हुई है। उत्तर प्रदेश, हरियाणा और महाराष्ट्र जैसे राज्यों में भी कोरोना संक्रमण के मामले तेजी से सामने आ रहे हैं। हरियाणा में बीते 24 घंटे में कोरोना के 310 नए मामले सामने आये हैं जिनमें से 225 मामले सिर्फ गुरुग्राम से हैं। हरियाणा में भी कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए सख्त नियम लागू किये गए हैं। हरियाणा सरकार ने गुरुग्राम समेत प्रदेश के 4 प्रमुख जिलों में मास्क पहनना अनिवार्य कर दिया है। हरियाणा में कोरोना के कुल एक्टिव मामले बढ़कर 1252 हो गए हैं। वहीं ऊतर प्रदेश के नोएडा और गाजियाबाद में कोरोना संक्रमण की स्थिति गंभीर बनी हुई है। नोएडा में लगातार दो दिनों से कोरोना संक्रमण का आंकड़ा 100 से ऊपर बना हुआ है। कई स्कूलों में छात्रों और अध्यापकों में कोरोना संक्रमण की पुष्टि होने के बाद प्रशासन एक्टिव हो गया है।

जानें क्या हैं R वैल्यू बढ़ने के मायने? (Covid-19 R Value India in Hindi)

चेन्नई के गणितीय विज्ञान संस्थान (IMS) के शोधकर्ता सीताभ्र सिन्हा के मुताबिक कोरोना संक्रमण की आर वैल्यू यानी रिप्रोडक्शन वैल्यू पहली तीन महीने में पहली बार 1 से ऊपर हो गयी है। कोरोना की आर वैल्यू का बढ़ना चिंताजनक माना जा रहा है। बीते सप्ताह देश में आर वैल्यू 0.93 फीसदी थी और इससे पहले जनवरी महीने में R-Value 1 से ऊपर दर्ज की गयी थी। दरअसल आर वैल्यू जिसे रिप्रोडक्शन नंबर कहा जाता है यह संक्रमण की स्थिति को बताती है। आर वैल्यू का 1 से अधिक होना यह दर्शाता है कि कोरोना से संक्रमित एक व्यक्ति एक से अधिक व्यक्तियों को संक्रमित कर रहा है। आर वैल्यू कम होना यह संकेत देता है कि महामारी कंट्रोल में है।

इसे भी पढ़ें : सामने आया कोरोना वायरस का नया XE वैरिएंट, WHO ने बताया ओमिक्रोन से ज्यादा संक्रामक

सीताभ्र सिन्हा के मुताबिक आर वैल्यू में बढ़ोत्तरी सिर्फ दिल्ली ही नहीं बल्कि हरियाणा और उत्तर प्रदेश में बढ़ रहे मामलों से हो रही है। ऐसे में जब देश में संक्रमण तेजी से फैल रहा है एक्सपर्ट्स लोगों से कोविड गाइडलाइन का पालन करने की अपील कर रहे हैं इसके अलावा कोरोना की वैक्सीन का डोज लेने की सलह दे रहे हैं।

(All Image Source - Google.com)

Disclaimer