COVID 19: ATM कार्ड छूने पर कोरोना से हो सकती है मौत जैसे कई मिथ की हकीकत आई सामने, एक्सपर्ट से जानें सच्चाई

COVID 19: कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप ने लोगों का जीना मुहाल कर दिया है। ऐसे में तमाम मिथ भी लोगों को परेशान कर रहे हैं, जानें इनकी हकीकत। 

 

Jitendra Gupta
Written by: Jitendra GuptaPublished at: Mar 23, 2020Updated at: Mar 23, 2020
COVID 19: ATM कार्ड छूने पर कोरोना से हो सकती है मौत जैसे कई मिथ की हकीकत आई सामने, एक्सपर्ट से जानें सच्चाई

120 देशों को अपनी जद में ले चुके कोरोनावायरस का खौफ लोगों में इस कदर फैला हुआ है कि खुद को बचाने के लिए लोग तमाम तरह के हथकंडे अपना रहे हैं। हालांकि कोरोनावायरस से बचाने वाले इन दावों का कोई साइंटिफिक प्रूफ नहीं है लेकिन फिर भी लोग इन अंधविश्वास या यूं कहें की मिथ पर भरोसा कर रहे हैं। दुनिया भर के साइंटिस्ट ये बात कह चुके हैं कि इस वायरस से निपटने की दवा नहीं बनी है लेकिन लोग खुद को बचाने के लिए तमाम तरह के मिथ का सहारा ले रहे हैं। ऐसे में जरूरी हो जाता है कि इन मिथ की सच्चाई सामने लाई जाए और लोगों के बीच जागरूकता फैलाई जाए। यूनिवर्सिटी ऑफ मैरीलैंड यूसीएच के संक्रामक रोग के चीफ और चीफ क्वालिटी ऑफिसर डॉ. फहीम युनूस इन मिथ पर से पर्दा उठाने जा रहे हैं। इस लेख में आप अपनी रोजमर्या की चीजों से जुड़े खतरों की हकीकत के बारे में जानेंगे।

coronamyth 

मिथः शिप किए गए पैकेज / गैस पंप / शॉपिंग कार्ट / एटीएम को छूने से बचें नहीं तो मौत पक्की।

हकीकतः  कोरोनावायरस की सतह मायने रखती है। कोई भी सतह कोरोनावायरस का कारण बन सकती है लेकिन आप अपने हाथों को धकर इस संक्रमण को खत्म कर सकते हैं। इसलिए हाथ धोएं और अपनी जिंदगी जिएं। 

मिथः  आप टेकआउट फूड / चाइनीज फूड (खाने की पैकेजिंग) का ऑर्डर कर COVID -19 का शिकार हो सकते हैं।

हकीकतः कोरोना एक छोटी बूंद से संबंधित संक्रमण (जैसे फ्लू) है, न कि खाद्य-जनित संक्रमण (जैसे साल्मोनेला आदि)। टेक-आउट भोजन के साथ किसी भी प्रकार के संक्रमण का कोई सबूत नहीं मिला है और न ही इससे किसी प्रकार का खतरा।

इसे भी पढ़ेंः 4500 रुपये में देश की इन 116 जगहों पर हो रहा कोरोना टेस्ट, जानें स्क्रीनिंग से लेकर पुष्टि तक की जरूरी जानकारी

मिथः 20 मिनट तक गर्मी में बैठने  से 90% तक कई प्रकार के वायरस खत्म हो सकते हैं, जिसमें कोरोनावायरस भी शामिल है।

हकीकतः  इस दावे को  प्रमाणित करने वाला कोई वैज्ञानिक परीक्षण नहीं हैं। इसके विपरीत स्वाना निमोनिया, फॉलिकुलिटिस आदि का कारण बन सकता है।

मिथः  अगर आप किसी प्रकार की गंध नहीं आती तो आपको कोरोना हो सकता है।

हकीकतः कई वायरल संक्रमणों / एलर्जी के कारण आपको किसी गंध आना बंद हो सकता है, ऐसा सामान्य भी है। यह एक गैर-विशिष्ट लक्षण है जो COVID के साथ हो भी सकता है और नहीं भी।

इसे भी पढ़ेंः लॉकडाउन का असर 'बेअसर', डब्लूएचओ ने माना इससे खतरा टलेगा नहीं और बढ़ेगा, जानें क्या है इसके पीछे का असल कारण

मिथः  COVID को रोकने के लिए हाइड्रॉक्साइक्लोरोक्वीन और एज़िथ्रोमाइसिन लेना सही है।

हकीकतः कोरोनावायरस के लिए इन (प्रायोगिक) दवाओं का उपयोग केवल चयनित COVID रोगियों द्वारा किया जाना चाहिए। ये कभी-कभी घातक हृदय संबंधी समस्याओं और अन्य दुष्प्रभावों का कारण बन सकती हैं।

मिथः  कमरे में गर्म पानी / प्याज के साथ लहसुन / नींबू का उपयोग करने से COVID-19 को रोका या ठीक किया जा सकता है। 

हकीकतः नहीं, यह सिर्फ बनी बनाई बात है।  इनमें से किसी भी पदार्थ का COVID के खिलाफ वैज्ञानिक परीक्षण नहीं किया गया है। ऐसी पोस्ट साझा न करें; वे भ्रम पैदा करती हैं।

मिथः घर आने के बाद हमेशा अपने कपड़े बदलें और नहाएं नहीं तो आप अपने परिवार में कोरोनावायरस फैला देंगे। 

हकीकतः स्वच्छता एक आदत है कोई नियम नहीं। लोगों को डराएं नहीं। सबसे जरूरी बातें हैं हाथ धोना, 6 फिट की दूरी बनाना, भीड़ से बचना।

Read More Articles On Coronavirus In Hindi

Disclaimer