फेस मास्क पर 7 दिन से ज्यादा समय तक जिंदा रह सकता है कोरोना वायरस, पहनने में बरतें सावधानियां

आप जो मास्क कोरोना वायरस से सुरक्षा के लिए पहन रहे हैं, उसकी सतह पर ये वायरस 7 दिन से ज्यादा जी सकता है, ऐसे में कई सावधानियां हैं बेहद जरूरी।

Anurag Anubhav
Written by: Anurag AnubhavPublished at: Apr 07, 2020
फेस मास्क पर 7 दिन से ज्यादा समय तक जिंदा रह सकता है कोरोना वायरस, पहनने में बरतें सावधानियां

कोरोना वायरस सभी तरह की ठोस सतह पर 2 घंटे से लेकर 9 दिन तक जीवित रह सकता है। यही कारण है कि कोरोना वायरस से बचाव के लिए सोशल डिस्टेंसिंग को अहम बताया जा रहा है। एक नए शोध के अनुसार आपके फेस मास्क पर भी कोरोना वायरस सप्ताह भर से ज्यादा समय तक जीवित रह सकता है। इस स्टडी के बाद इस बात की संभावना बढ़ गई है कि अगर कोई व्यक्ति किसी कोरोना वायरस संक्रमित के सीधे संपर्क में आता है, तो मास्क पहनने के बावजूद उसे कोरोना वायरस का खतरा तब तक है, जब तक कि वो तुरंत मास्क को डिस्पोज करके नया मास्क नहीं पहनता।

वैज्ञानिकों ने किया सावधान

आमतौर पर बाजार में मिलने वाले 2 लेयर या 3 लेयर सर्जिकल मास्क हों या बहुत सारे N95 मास्क, ये सभी सिंगल यूज मास्क हैं। 6 से 8 घंटे के इस्तेमाल के बाद इसे सावधानी पूर्वक डिस्पोज करना बहुत जरूरी है। मगर भारत में अभी भी लोग एक ही मास्क को कई सप्ताह या कई महीने तक इस्तेमाल कर रहे हैं। ऐसे में कोरोना वायरस से बचाव की जगह, उसका खतरा बढ़ता हुआ जान पड़ता है।

इसे भी पढ़ें:- आपके फोन पर 9 दिन तक रह सकते हैं कोरोना वायरस, बचाव के लिए ऐसे करें मोबाइल की सफाई

कोरोना वायरस किस तरह की सतह पर कितनी देर एक्विव रह सकता है, इस बारे में पहले भी कई शोध किए जा चुके हैं। हाल में ही University of Hong Kong (HKU) ने भी इस तरह का एक शोध किया, जिसमें उन्होंने मास्क को भी शामिल किया। ये रिसर्च 'द लैसेंट' नामक मेडिकल जर्नल में छापी गई है। इस रिसर्च में शोधकर्ताओं ने यह पता लगाने का प्रयास किया है कि कोरोना वायरस सामान्य तापमान (रूम टेंप्रेचर) पर किस तरह की सतह पर कितनी देर जीवित रह सकता है।

Loading...

किस सतह पर कितनी देर कोरोना वायरस रह सकता है?

  • अध्ययन में वैज्ञानिकों ने पाया कि टिश्यू पेपर और अखबार पर ये वायरस लगभग 3 घंटे तक एक्टिव रहता है।
  • कपड़ों और लकड़ी पर ये वायरस अगले दिन तक यानी लगभग 2 दिन तक एक्टिव रहता है।
  • फेस मास्क पर कोरोना वायरस 7 दिन के बाद भी एक्टिव पाया गया, यानी मास्क से खतरा ज्यादा है।
  • नोट्स (करेंसी) और कांच पर ये वायरस 2 से 4 दिन तक एक्टिव अवस्था में पाया गया है।
  • स्टील और प्लास्टिक की सतह पर ये वायरस 4 से 7 दिन तक एक्टिव रह सकता है।

मास्क पहन रहे हैं, तो बरतें ये सावधानियां

शोधकर्ता और क्लीनिकल एंड पब्लिक हेल्थ वायरोलॉजिस्ट Malik Peiris कहते हैं, "इस रिसर्च के बाद ये स्पष्ट है कि अगर आप सर्जिकल फेस मास्क पहन रहे हैं, तो मास्क की बाहरी सतह को न छुएं। इससे वायरस आपके हाथों में आ जाएंगे और फिर अगर आप अपनी आंख, नाक या मुंह छूते हैं, तो वायरस आपके शरीर में चला जाएगा।"
यहां यह बता देना जरूरी है कि कोरोना वायरस के अलग-अलग सतह पर एक्टिव रहने की ये समय सीमा लैब के टूल्स के आधार पर परखी गई है, न कि हाथ और उंगलियों के आधार पर। इसलिए वास्तविक खतरा इस समय सीमा से ज्यादा या कम भी हो सकता है।

इसे भी पढ़ें:- हाथ की घड़ी, अंगूठी और चूड़ियों पर भी जमा हो सकता है कोरोना वायरस, सिर्फ हाथ धोना नहीं पर्याप्त

फेस मास्क के इस्तेमाल का सही तरीका

  • नया फेस मास्क पहनने से पहले अपने हाथों को साबुन और पानी या एल्कोहल वाले सैनिटाइजर से अच्छी तरह साफ करें।
  • अब मास्क पहनें और नाक की जगह पर लगे स्ट्रैप को दबाकर इसे चेहरे पर फिट करें।
  • इस मास्क को 8 घंटे तक पहने रहें और इस दौरान न तो मास्क को उतारें, न बाहरी सतह को छुएं।
  • 8 घंटे बाद मास्क को डोरी या रबड़ से पकड़कर, बिना सामने का हिस्सा छुए हुए सावधानी से उतारें और सही से डिस्पोज करें।
  • इसके बाद वापस अपने हाथों को साबुन-पानी या सैनिटाइजर से साफ करें।
  • अगले इस्तेमाल के लिए नए मास्क का इस्तेमाल करें, न कि पहने हुए पुराने मास्क का।

Read More Articles on Miscellaneous in Hindi

Disclaimer