लॉकडाउन के बीच स्मार्टफोन यूजर्स में आ रहे हैं 'पिंकी सिंड्रोम' के मामले, जानें क्या है फोन से होने वाली ये सम

आप भी स्मार्टफोन का करते हैं ज्यादा इस्तेमाल, तो हो जाएं सावधान। मोबाइल यूजर्स के बीच बढ़ रहे हैं 'पिंकी सिंड्रोम' के मामले, जानें जरूरी सावधानियां।

Anurag Anubhav
Written by: Anurag AnubhavPublished at: Apr 07, 2020
लॉकडाउन के बीच स्मार्टफोन यूजर्स में आ रहे हैं 'पिंकी सिंड्रोम' के मामले, जानें क्या है फोन से होने वाली ये सम

21 दिनों के देशव्यापी लॉकडाउन की घोषणा के बाद सबसे ज्यादा बोझ मोबाइल फोन्स पर बढ़ा है। करोड़ों लोग जब अपने-अपने घरों में बंद हैं और उनके पास कोई काम नहीं है, तो ऐसे में मोबाइल फोन का इस्तेमाल बढ़ गया। इनमें स्मार्टफोन यूजर्स की संख्या 90% से भी ज्यादा है। ऐसे में स्मार्टफोन के ज्यादा इस्तेमाल से एक नए तरह की समस्या सामने आने लगी है, जिसे 'पिंकी सिंड्रोम' (Pinky Syndrome) कहा जा रहा है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक देश के कई हिस्सों से इस सिंड्रोम से प्रभावित लोगों के मामले सामने आए हैं।

क्या है ये स्मार्टफोन पिंकी सिंड्रोम?

Orthopaedic Associates Manhasset के अनुसार पिंकी सिंड्रोम मोबाइल के ज्यादा इस्तेमाल से होने वाली एक आम समस्या है, जिसमें देर तक हाथ में मोबाइल के पकड़े रहने के कारण उंगलियां टेढ़ी हो जाती हैं। आमतौर पर ये समस्या हाथ की सबसे छोटी उंगली में ज्यादा देखने को मिली है। इस उंगली को पिंकी फिंगर (pinky finger) भी कहते हैं, इसलिए इस सिंड्रोम को पिंकी सिंड्रोम नाम दिया गया है।

इसे भी पढ़ें:- सावधान! आपका मोबाइल फोन आपको दे सकता है ये 5 गंभीर बीमारियां

कुछ डॉक्टर्स मानते हैं कि पिंकी सिंड्रोम वाकई एक वास्तविक समस्या है, वहीं कुछ डॉक्टर्स का मानना है कि ये कोई वास्तविक समस्या नहीं है, बल्कि थोड़े समय में अपने आप ठीक हो जाने वाली समस्या है। हालांकि तमाम हैंड सर्जन्स ये मानते हैं कि अगर किसी व्यक्ति को पहले से ही हाथ में कोई समस्या रही है या हड्डियों से जुड़ा कोई रोग रहा है, तो उसे स्मार्टफोन पिंकी सिंड्रोम हो सकता है।

Loading...

लॉकडाउन में बढ़े इस सिंड्रोम के मामले

कुछ मेडिकल रिपोर्ट्स और डॉक्टर्स बताते हैं कि लॉकडाउन के दौरान उंगली के टेढ़ेपन के मामले कुछ बढ़े हैं। इसका मुख्य कारण यही समझ आ रहा है कि सामान्य दिनों में जहां एक व्यक्ति दिन के औसतन 5 घंटे स्मार्टफोन के इस्तेमाल में बिताता था, वही लॉकडाउन के दौरान लोग 10-14 घंटे मोबाइल फोन का इस्तेमाल कर रहे हैं। इसलिए स्मार्टफोन यूजर्स में ये समस्या सामने आ रही है।

स्मार्टफोन के ज्यादा इस्तेमाल से होने वाली समस्याएं

पिंकी सिंड्रोम अगर वास्तविक समस्या न भी हो, तो भी स्मार्टफोन का ज्यादा इस्तेमाल आपके हाथों और मस्तिष्क के लिए बहुत अच्छा नहीं है। इसके कारण आपको कई तरह की समस्याएं हो सकती हैं। जो लोग स्मार्टफोन्स का ज्यादा इस्तेमाल करते हैं, उनमें निम्न समस्याएं देखी गई हैं-

  • स्मार्टफोन्स को लगातार पकड़े रहने के कारण कलाइयों, कंधों और कोहनियों में दर्द की समस्या।
  • कुछ मामलों में देर तक फोन के इस्तेमाल के कारण नर्व्स के डैमेज होने के मामले भी देखे गए हैं। इससे व्यक्ति की हाथों को मोड़ने, सामान को पकड़ने और उठाने की क्षमता पर प्रभाव पड़ सकता है।
  • देर तक स्मार्टफोन्स के इस्तेमाल से आंखों पर असर पड़ता है और लंबे समय में धुंधला दिखने, आंखों में दर्द, ड्राई आई सिंड्रोम, आंखों से पानी निकलने आदि की समस्या हो सकती है।
  • बहुत सारे स्मार्टफोन यूजर्स में नींद की कमी की समस्या भी देखी गई है।

स्मार्टफोन पिंकी से बचाव के तरीके

  • इस सिंड्रोम से बचाव के लिए सबसे जरूरी यही है कि आप मोबाइल फोन का इस्तेमाल कम से कम करें।
  • मोबाइल फोन को हर समय अपने पास न रखें, बल्कि जरूरत पड़ने पर ही इसका इस्तेमाल करें, न कि सर्फिंग और देर तक चैटिंग के लिए।
  • अगर किसी व्यक्ति से देर तक फोन पर बात करनी है, तो बेहतर है कि ईयरप्लग्स का इस्तेमाल करें।
  • हाथों की स्ट्रेचिंग वाली एक्सरसाइज करें, जिससे ब्लड सर्कुलेशन बना रहे और समस्या न बढ़े।

Read More Articles on Other Diseases in Hindi

Disclaimer