जागते ही स्मार्टफोन चेक करने की आदत हो सकती है खतरनाक, आंखों और दिमाग पर पड़ता है असर

सुबह उठते ही स्मार्टफोन चेक करने की आदत आपके दिमाग और आंखों पर बुरा असर डालती है। एक सर्वे के मुताबिक 80% से ज्यादा लोग जागने के 15 मिनट के भीतर अपना स्मार्टफोन चेक करते हैं।

Anurag Anubhav
Written by: Anurag AnubhavUpdated at: Sep 16, 2019 10:35 IST
जागते ही स्मार्टफोन चेक करने की आदत हो सकती है खतरनाक, आंखों और दिमाग पर पड़ता है असर

Smartphone Side Effects: अगर आप भी सुबह जागते ही सबसे पहले स्मार्टफोन चेक करते हैं, तो सावधान हो जाएं। सुबह जागने के बाद 1 घंटे के भीतर स्मार्ट फोन चेक करना आपके दिमाग और आंखों के लिेए अच्छा नहीं है। हाल में हुई एक रिसर्च के मुताबिक 80% से ज्यादा लोग जागने के 15 मिनट के भीतर अपना स्मार्टफोन चेक करते हैं। मगर ये आदत धीरे-धीरे लोगों की सेहत और साइकोलॉजी पर गलत असर डाल रही है। जागते ही स्मार्टफोन चेक करने से आपके पूरे दिन पर इसका असर पड़ता है। आइए आपको बताते हैं सुबह-सुबह स्मार्टफोन कैसे करता है आपको प्रभावित।

दिनभर के मूड पर पड़ता है असर

यूके में हुए ताजा सर्वे के मुताबिक सुबह-सुबह स्मार्टफोन चेक करने की आदत का असर व्यक्ति के मस्तिष्क और मूड पर पड़ता है, जिससे उसका पूरा दिन प्रभावित होता है। आमतौर पर भारतीय युवा सुबह उठते ही सबसे पहले व्हाट्सएप, फेसबुक और इंस्टाग्राम चेक करते हैं। इसके अलावा कुछ लोग सुबह उठते ही अपना ई-मेल चेक करते हैं। सोशल मीडिया पर स्क्रीन स्क्रीन स्क्रॉल करते हुए आप सैकड़ों निराशाजनक, हिंसक, अनर्गल और घटिया पोस्ट्स और वीडियोज से गुजरते हैं। सुबह-सुबह इन चीजों को देखने से आपके दिमाग के काम करने के तरीके (Working Process) पर असर पड़ता है।

इसे भी पढ़ें:- सावधान! आपका मोबाइल फोन आपको दे सकता है ये 5 गंभीर बीमारियां

दिमाग पर पड़ता है बुरा असर

जिस तरह हम जो कुछ खाते हैं उसका असर हमारी सेहत पर पड़ता है, उसी तरह हम जो कुछ देखते-सुनते हैं, उसका असर हमारे मस्तिष्क पर पड़ता है। एक स्टडी के मुताबिक 6-7 घंटे की नींद लेने के बाद जब आप सोकर उठते हैं, तो मस्तिष्क की कोशिकाएं (Cells) और तंत्रिकाएं (Nerves) अपना-अपना काम शुरू कर देती हैं। ऐसे में अगर आप सुबह उठते ही सबसे पहले मोबाइल चेक करते हैं, तो इन कोशिकाओं और नर्व्स पर स्ट्रेस आता है, जिसका असर आपके पूरे दिन पर पड़ता है। एक अन्य अध्ययन के मुताबिक सुबह उठने के बाद अगर आप हरियाली देखते हैं और थोड़ा सैर करते हैं, तो आपको हार्ट अटैक की संभावना 38% तक कम हो जाती है।

आंखों पर भी पड़ता है असर

स्मार्टफोन या लैपटॉप आदि स्क्रीन वाले गैजेट्स ब्लू लाइट का उत्सर्जन करते हैं। इस ब्लू लाइट का असर आपकी आंखों की रोशनी पड़ता है। मगर सुबह के समय उठने के बाद सबसे पहले स्मार्टफोन चेक करने से आंखों पर ज्यादा ही असर पड़ता है। इसका कारण है ये कि सोने के दौरान आंखें पूरी तरह आराम कर रही होती हैं। सुबह उठने के बाद जैसे ही आपकी आंखों पर ब्लू लाइट पड़ती है, आंखों की रेटिना की तंत्रिकाएं सिकुड़ने लगती हैं। लंबे समय तक स्मार्टफोन का इस्तेमाल करने से आपको आंखों में दर्द, आंखों से पानी निकलने, धुंधला दिखने या अंधेपन की भी समस्या हो सकती है।

इसे भी पढ़ें:- स्मार्टफोन और कंप्यूटर का 7 घंटे से ज्यादा इस्तेमाल खतरनाक, मस्तिष्क पर बुरा प्रभाव: एक्सपर्ट

तनाव और एंग्जाइटी बढ़ाते हैं स्मार्टफोन्स

अध्ययन के मुताबिक जब आप सोकर उठने के बाद स्मार्टफोन चेक करते हैं, तो आपका दिमाग कई ऐसे विचारों से भर जाता है, जो आपके दिमाग के स्ट्रेस को बढ़ाते हैं। लंबे समय में ये आदत एंग्जायटी (Anxiety) का कारण बन सकती है। इसके अलावा सोकर उठने के बाद मोबाइल चेक करने से आप अपने दिन की शुरुआत नए विचारों और बातों से करने के बजाय पिछले दिन के अनुसार करते हैं। स्मार्टफोन चेक करते ही आपके Present को आपका Past हाईजैक कर लेता है।

Read more articles on Mind & Body in Hindi

Disclaimer