Coronavirus: बार-बार सफाई की आदत से हो न जाएं आप ओसीडी के शिकार, जानें सफाई करना किस सीमा तक सही

कोरोना संक्रमण से बचे रहने का जोर हमें बेहतर स्वच्छता बनाए रखने की दिशा में बढ़ा रहा है। पर ये कहीं ऑब्सेसिव कंप्लसिव डिसॉर्डर न बन जाए।

Pallavi Kumari
Written by: Pallavi KumariPublished at: Mar 26, 2020
Coronavirus: बार-बार सफाई की आदत से हो न जाएं आप ओसीडी के शिकार, जानें सफाई करना किस सीमा तक सही

COVID-19 के मद्देनजर आज सफाई, खासकर किटाणुओं को साफ करते हुए सफाई करना बेहद जरूरी हो गया है। सफाई से जुड़े हर कदम कोरोना संक्रमण को रोक सकता है। संक्रमित होने का डर लगातार हमारे तनाव के स्तर को बढ़ाता जा रहा है। वहीं उन लोगों में ये चीज और बढ़ती जा रही है, जिन्हें पहले से ही सफाई को लेकर एंग्यायटी रहती है। ऐसे लोग ऑब्सेसिव कंप्लसिव डिसॉर्डर (obsessive compulsive disorder) या ओसीडी से पीड़ित होते हैं। अब कोरोना उन्हें सफाई को लेकर और ऑब्सेसिव बना रहा है। वहीं कोरोना के कारण हर समय हाथ धोना और सफाई करने के कारण जिन लोगों को ऑब्सेसिव कंप्लसिव डिसॉर्डर नहीं है, वो भी इसके शिकार हो सकते हैं।

insidecleaning

ओसीडी वाले लोगों को नियंत्रण में रहने के लिए सफाई करते रहने की एक जुनूनी आवश्यकता महसूस होती है। कोरोनोवायरस महामारी के मामले में, हालांकि, स्वच्छता और स्वच्छता के साथ निवारक दिशानिर्देश उनके भ्रम में जोड़ सकते हैं। 20 सेकंड के लिए अक्सर अपने हाथों को धोना चाहिए। ओसीडी वाले किसी व्यक्ति के लिए, यह एक भ्रम की स्थिति है क्योंकि वो पहले से ही सफाई को लेकर परेशान रहते थे अब उन्हें इसकी वजह मिल गई है। अब OCD वाले व्यक्ति, 20 सेकंड के बाद भी हाथ धोने को जारी रखते हैं। इसलिए पहले तो ध्यान रखें कि सफाई कहां-कहां जरूरी है-

  • -बाहर से आने के बाद हाथ धोएं 20 सेकंड।
  • -वॉशरूम और खाने से पहले।
  • -किसी भी अंजान और बाहरी चीज को छूने के बाद।
  • -अगर आप अपने चहरे और मुंह को नहीं छू रहे हैं, तो किसी भी चीज को छूते ही आपको कोरोनावायरस नहीं होगा।

सफाई की आदत को नियंत्रण रखने के कुछ खास टिप्स

बस 20 सेकंड तक की हाथ धोएं और ज्यादा न सोचें

आप घर के बाहर से आए हैं या आपने कुछ छुआ है या वॉशरूम से आएं हैं, आपको ध्यान रखाना चाहिए कि आप अपने हाथ सिर्फ 20 तक ही धोएं। फिर गंदे होना पर सेनिटाइजर लगा लें और इसके बारे में सोचना बंद करें। वहीं उन चीजों को करने से बचे जिसे सफाई करने की जरूरत नहीं है। इसके साथ हीं अपने ध्यान को कहीं और बटाएं।

इसे भी पढ़ें: कोरोना वायरस के खतरों के बीच बाहर निकलकर समान खरीदते समय न करें रश्मि देसाई जैसी गलतियां, सेहत पर पड़ेंगी भारी

तनाव से बचने की कोशिश करें

बार-बार सफार्इ करने वाले गंदगी से डरते हैं। उन्हें आमतौर पर सफार्इ और बार-बार हाथ धोने का कंपल्शन होता है। तनाव प्रबंधन का हिस्सा इन स्थितियों से बचने के बारे में है, जो आपको गंदगी से डराता है। इसलिए तनाव कम करने की कोशिश करें। कठिन परिस्थितियों का सामना करने के लिए भावनात्मक लचीलापन विकसित करें और खुद को ज्यादा सफाई करने से रोकें।

insideocdisorder

खुद को बताएं कि आपको बार-बार ये नहीं करना है

किसी भी आदत को रोकने का सबसे सही तरीका है खुद के लिए नियम बनाना और उसे खुद को याद करवाना। ऐसे में खुद के लिए तय करें कि जब आप इन चीजों को करेंगे, तभी आप सफाई करेंगे। अगर मन परेशान हो तो गहरी सांस लें और गिनती गीनें। अपने नाक के माध्यम से और अपने मुंह के माध्यम से सांस लेने की कोशिश करें। जैसे ही आप सांस लेते हैं, चार तक गिनती करें और फिर से सांस छोड़ें।

इसे भी पढ़ें: लॉकडाउन के दौरान कुछ इस तरह घर पर वक्त बिता रहे हैं बॉलीवुड सेलेब्स

सेल फोन से दूर रहें

आराम करने का एक और अच्छा तरीका उपकरणों से ब्रेक लेना हो सकता है। अपने सेल फोन का एक घंटे इस्तेमाल न करें। शाम को फेसबुक के सामने रुकने और चैटिंग करने के बजाय किताब पढ़ना, पेंटिंग करें। सामान्य दिनचर्या से समय निकालकर  रचनात्मक शौक जैसे पेंटिंग और सिलाई हैं। वहीं संगीत वास्तव में परेशान विचारों या चिंता की भावनाओं से हमें विचलित करने में मदद कर सकता है। इसलिए गाने सुनें या कुछ बजाना सीखें।

Read more articles on Miscellaneous in Hindi

Disclaimer