नोबल पुरुस्कार विजेता की भविष्यवाणी- जल्द खत्म होने जा रही है कोरोना वायरस महामारी, पहले भी सच हुईं कई बातें

2013 में नोबेल पुरुस्कार जीत चुके माइकल लेविट ने जनवरी में चीन को लेकर जो भविष्यवाणी की थी, वो बिल्कुल सही साबित हुई है।

Anurag Anubhav
Written by: Anurag AnubhavPublished at: Mar 26, 2020
नोबल पुरुस्कार विजेता की भविष्यवाणी- जल्द खत्म होने जा रही है कोरोना वायरस महामारी, पहले भी सच हुईं कई बातें

कोरोना वायरस के लगातार बढ़ते मामलों को लेकर पूरी दुनिया चिंतित है। मगर नोबेल पुरुस्कार विजेता और मशहूर बायोफिजिसिस्ट माइकल लेविट (Michael Levitt) ने कोरोना वायरस महामारी को लेकर एक सुकून भरी भविष्यवाणी की है। उन्होंने कहा कि नोवल कोरोना वायरस (Novel Coronavirus) का सबसे बुरा दौर अब गुजर चुका है। धीरे-धीरे ये वायरस खत्म होगा और हालात सुधरेंगे। माइकल की इस भविष्यवाणी को इसलिए महत्वपूर्ण माना जा सकता है कि क्योंकि कोरोना वायरस से संबंधित उनकी पूर्व में की गई लगभग सभी भविष्यवाणियां सही साबित हुई हैं। माइकल लेविट ने ये बातें 'द लॉस एंजिल्स टाइम्स' को दिए अपने इंटरव्यू में कही हैं। उन्हें साल 2013 में केमिस्ट्री के क्षेत्र में नोबेल पुरुस्कार मिल दिया गया था। उन्हें ये पुरुस्कार एक केमिकल सिस्टम का कॉम्प्लेक्स मॉडल बनाने के लिए मिला था।

जनवरी में चीन के लिए की गई भविष्यवाणी सच साबित हुई

माइकल लेविट वो वैज्ञानिक हैं, जिन्होंने कोरोना वायरस के आंकड़ों की भविष्यवाणी जनवरी में ही करनी शुरू कर दी थी। चीन के बारे में उन्होंने कहा था कि चीन में लगभग 80,000 लोग इसके शिकार होंगे और मरने वालों का आंकड़ा 3250 तक पहुंचेगा। आज अगर चीन के आंकड़ों को देखें तो माइकल लेविट की ये भविष्यवाणी बिल्कुल सही साबित होती है। ताजा आंकड़ों के अनुसार चीन में अब तक लगभग 81,000 लोग इसका शिकार हो चुके हैं और मरने वालों की संख्या 32,87 तक पहुंची है। फिलहाल चीन में ये वायरस लगभग थम गया है और अब बहुत कम मामले सामने आ रहे हैं। लेविट द्वारा शेयर की गई ये भविष्यवाणी चीन में फरवरी के महीने में काफी तेजी से वायरल हुई थी।

इसे भी पढ़ें:- कोरोना वायरस पर प्रियंका चोपड़ा ने WHO चीफ से पूछे 10 सबसे जरूरी सवाल, WHO के ये जवाब दूर करेंगे आपका कंफ्यूजन

असली स्थिति उतनी बुरी नहीं, जितनी बताई जा रही है

कोरोना वायरस को लेकर दुनियाभर के वैज्ञानिक और एक्सपर्ट्स अंदाजा लगा रहे हैं कि ये वायरस अभी सालों तक तबाही मचाता रहेगा और 10 लाख से ज्यादा लोग इस वायरस के कारण मरेंगे। मगर माइकल लेविट बताते हैं कि वर्तमान परिस्थितियां और डाटा इस बात को पुष्ट नहीं करते हैं। उनके अनुसार कोरोना वायरस की वर्तमान स्थिति उतनी बुरी और भयावह नहीं है, जितना कि अभी लोग अंदाजा लगा रहे हैं। लोग सोशल डिस्टेंसिंग को महत्व दे रहे हैं।

सोशल डिस्टेंसिंग है जरूरी

माइकल लेविट के अनुसार चीन जैसे ही संकेत अब दूसरे देशों से भी आने लगे हैं। उन्होंने कहा कि वो ये बात मानते हैं कि अभी टेस्ट ठीक से नहीं किए जा रहे हैं इसलिए नंबर कम हैं। लेकिन उन्हें लगता है कि अब ये वायरस उस गति से नहीं फैलेगा, जितना अब तक फैल रहा था। उन्होंने इस बात पर जोर दिया है कि सोशल डिसंटेंसिंग इस वायरस को हराने का सबसे बड़ा हथियार है। माइकल लेविट की ये भविष्यवाणी और निष्कर्ष ऐसी अफरा-तफरी की स्थिति में काफी सुकून भरी हो सकती है। लेविट ने दुनियाभर में आने वाली आर्थिक मंदी को लेकर भी अपनी चिंता जाहिर की है।

इसे भी पढ़ें:- WHO ने युवाओं को चेताया-आप अजेय नहीं हैं, कोरोना वायरस से बचना है, तो रखें इन 12 बातों का ध्यान

हमें डर के माहौल को कंट्रोल करना है

लेविट बताते हैं कि हमें सबसे पहले लोगों में डर (पैनिक) को कंट्रोल करना है। उन्होंने बताया कि लोगों को इस समय भीड़-भाड़ से दूर रहना चाहिए। उन्होंने कहा, "ये दोस्तों के साथ बाहर जाकर ड्रिंक करने का समय नहीं है।"

Read More Articles on Miscellaneous in Hindi

Disclaimer