Doctor Verified

इंसुलिन सेंसिटिविटी में सुधार करने के लिए करें इन 5 हर्ब्स का सेवन, ब्लड शुगर होगा कंट्रोल और मिलेगा फायदा

शरीर में इंसुलिन सेंसिटिविटी में सुधार करने के लिए आयुर्वेदिक हर्ब्स का सेवन बहुत फायदेमंद होता है, जानें ऐसे ही कुछ हर्ब्स के बारे में।

Prins Bahadur Singh
Written by: Prins Bahadur SinghPublished at: May 20, 2022Updated at: May 20, 2022
इंसुलिन सेंसिटिविटी में सुधार करने के लिए करें इन 5 हर्ब्स का सेवन, ब्लड शुगर होगा कंट्रोल और मिलेगा फायदा

इंसुलिन शरीर में मौजूद एक जरूरी हॉर्मोन है जिसका काम शरीर में ब्लड शुगर के स्तर को नियंत्रित करना है। डायबिटीज की समस्या में मरीजों में इंसुलिन का निर्माण का कम होने लगता है जिसकी वजह से उनके शरीर में ब्लड शुगर की मात्रा बढ़ने लगती है। शरीर में इंसुलिन का निर्माण अग्नाशय में होता है और शरीर में इंसुलिन प्रतिरोध की स्थिति पैदा होने पर आपकी कोशिकाएं इंसुलिन का सही ढंग से उपयोग नहीं कर पाती हैं। इसकी वजह से ही शरीर का ब्लड शुगर स्तर बढ़ने लगता है और टाइप 2 डायबिटीज की समस्या शुरू होती है। टाइप 2 डायबिटीज एक गंभीर समस्या है जिसमें आपको खानपान और लाइफस्टाइल का विशेष ध्यान रखना चाहिए। शरीर में इंसुलिन प्रतिरोध बढ़ाने के लिए आयुर्वेदिक हर्ब्स का इस्तेमाल बहुत फायदेमंद माना जाता है। आप डॉक्टर की सलाह के आधार कुछ आयुर्वेदिक हर्ब्स का इस्तेमाल कर शरीर में इंसुलिन सेंसिटिविटी को बढ़ा सकते हैं जिससे आपका ब्लड शुगर भी कंट्रोल में रहेगा। आइये विस्तार से जानते हैं इन हर्ब्स के बारे में। 

इंसुलिन सेंसिटिविटी में सुधार करने के लिए हर्ब्स (Best Herbs To Control Insulin Sensitivity in Hindi)

असंतुलित खानपान और खराब जीवनशैली के कारण आपको डायबिटीज की समस्या हो सकती है। डायबिटीज में मरीजों में खानपान का विशेष ध्यान रखना चाहिए। सही खानपान न होने की वजह से ब्लड शुगर का स्तर बढ़ने लगता है जिसकी वजह से आपकी परेशानियां बढ़ सकती हैं। शरीर में ब्लड शुगर के स्तर को नियंत्रित रखने के लिए इंसुलिन हॉर्मोन की जरूरत होती है। प्री-डायबिटिक और मोटापे की समस्या से ग्रसित लोगों में इंसुलिन सेंसिटिविटी का खतरा ज्यादा रहता है। ऐसे लोगों को समय-समय पर अपना ब्लड शुगर जरूर चेक करते रहना चाहिए। आरोग्यं हेल्थ सेंटर के डॉ एस के पांडेय के अनुसार कुछ आयुर्वेदिक जड़ी-बूटियां शरीर में इंसुलिन सेंसिटिविटी को ठीक करने का काम करती हैं। आइये जानते हैं इन औषधियों के बारे में। 

herbs-to-control-insulin sensitivity

इसे भी पढ़ें : हार्मोन्स के संतुलन के लिए कैसे फायदेमंद है पैदल चलना, जानें एक्सपर्ट से

1. दालचीनी (Cinnamon)

दालचीनी का इस्तेमाल ज्यादातर घरों में मसाले के रूप में किया जाता है। दालचीनी को आयुर्वेद में बहुत प्रभावी औषधि के रूप में भी इस्तेमाल किया जाता है। शरीर में इंसुलिन सेंसिटिविटी में सुधार करने और ब्लड शुगर के स्तर को कंट्रोल में रखने के लिए दालचीनी का इस्तेमाल बहुत फायदेमंद होता है। कई शोध और अध्ययन भी इस बात की पुष्टि करते हैं कि दालचीनी का सेवन करने से वजन कम करने में फायदा मिलता है और ब्लड शुगर को स्तर को कंट्रोल में रखने में फायदा मिलता है। दालचीनी में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट गुण कई समस्याओं में फायदेमंद होते हैं। हालांकि दालचीनी का सेवन ब्लड शुगर को नियंत्रित करने और इंसुलिन प्रतिरोध में सुधार करने के लिए बिना डॉक्टर की सलाह के नहीं करना चाहिए। 

2. मेथी (Fenugreek)

मेथी का भी इस्तेमाल ज्यादातर घरों में मसाले के रूप में किया जाता है। मेथी के फायदे शरीर के लिए अनेकों हैं। इसका सेवन करने से पाचन तंत्र को भी फायदा मिलता है और इसमें मौजूद फाइबर पाचन से जुड़ी कई समस्याओं में उपयोगी होते हैं। ब्लड शुगर के स्तर को कंट्रोल में रखने और शरीर में इंसुलिन प्रतिरोध को संतुलित करने में मेथी दाने का इस्तेमाल बहुत फायदेमंद होता है। मेथी के पाउडर का सेवन करने से प्री-डायबिटीज वाले लोगों को बहुत फायदा मिलता है। मेथी का पानी पीने से वजन कम होता है और शरीर के चयापचय में सुधार होता है। प्री-डायबिटीज और डायबिटीज के मरीज मेथी का सेवन इंसुलिन सेंसिटिविटी को ठीक करने और ब्लड शुगर को कंट्रोल करने के लिए कर सकते हैं।

इसे भी पढ़ें : डायबिटीज के मरीज सुबह सबसे पहले पिएं दालचीनी की चाय, फास्टिंग ब्लड शुगर को कम करने समेत मिलते हैं ये 5 फायदे

herbs-to-control-insulin sensitivity

3. लौंग (Cloves)

डायबिटीज के मरीजों के लिए लौंग का सेवन बहुत फायदेमंद होता है। इस समस्या में लौंग में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट, एंटी इंफ्लेमेटरी गुण बहुत अधिक फायदेमंद होते हैं। भारत में लौंग का इस्तेमाल मसाले के रूप में और धार्मिक कामकाज में भी किया जाता है। आयुर्वेद के मुताबिक लौंग एक बहुत शक्तिशाली औषधि है जिसके इस्तेमाल से आप कई गंभीर समस्याओं को दूर कर सकते हैं। लौंग का सेवन करने से इंसुलिन सेंसिटिविटी में सुधार होता है और ब्लड शुगर का स्तर कंट्रोल होता है। इसका सेवन शरीर में बढ़े कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने में भी फायदेमंद होता है।

4. अंजीर के पत्ते (Fig Leaves)

डायबिटीज के मरीजों के लिए अंजीर के पत्तों का सेवन बहुत फायदेमंद होता है। इसका सेवन करने से ब्लड शुगर कंट्रोल में रहता है। अंजीर के पत्तों में एंटी-डायबिटिक गुण पाए जाते हैं जो ब्लड शुगर को कम करने के साथ इंसुलिन सेंसिटिविटी में सुधार करने का काम करते हैं।  इसका सेवन आप रोजाना सुबह के समय खालीपेट होने पर कर सकते हैं। डायबिटीज के मरीजों को अंजीर के पत्तों का सेवन करने से पहले डॉक्टर से सलाह जरूर लेनी चाहिए। 

5. स्टीविया या मीठी तुलसी (Stevia Plant)

स्टीविया को मीठी तुलसी भी कहा जाता है। इसका सेवन डायबिटीज के मरीजों के लिए बहुत फायदेमंद होता है। स्टीविया की पत्तियों का सेवन करने से डायबिटीज के मरीजों की कई समस्याएं दूर होती हैं। इसका सेवन शरीर में इंसुलिन सेंसिटिविटी में सुधार करने और ब्लड शुगर को कंट्रोल में रखने के लिए बहुत फायदेमंद होता है।

इसे भी पढ़ें : डायबिटीज रोगी इंसुलिन सेंसिटिविटी को प्राकृतिक रूप से बढ़ाने के लिए अपनाएं ये 6 उपाय, जल्दी ठीक होगा रोग

डायबिटीज, दरअसल एक मेटाबोलिक समस्या है जो शरीर में ब्लड शुगर के अनियंत्रित होने पर होती है। ब्लड शुगर का स्तर बढ़ने को टाइप 2 डायबिटीज भी कहा जाता है। इस समस्या में मरीज की आंख, किडनी और शरीर के कई अन्य अंगों को गंभीर नुकसान पहुंच सकता है। शरीर में इंसुलिन सेंसिटिविटी और ब्लड शुगर को कंट्रोल में रखने के लिए आप ऊपर बताये गए हर्ब्स का सेवन कर सकते हैं। इसका इस्तेमाल करने से पहले आपको डॉक्टर की सलाह जरूर लेनी चाहिए।

(All Image Source - Freepik.com)

Disclaimer