मेनोपॉज के लक्षणों को कम करने में मदद करते हैं ये 5 आयुर्वेदिक हर्ब्स, जानें कैसे करें इस्तेमाल

महिलाओं में मेनोपॉज के लक्षणों को कम करने के लिए आप कुछ खास आर्युवेदिक हर्ब्स का इस्तेमाल कर सकते हैं। 

Dipti Kumari
Written by: Dipti KumariPublished at: May 19, 2022Updated at: May 19, 2022
मेनोपॉज के लक्षणों को कम करने में मदद करते हैं ये 5 आयुर्वेदिक हर्ब्स, जानें कैसे करें इस्तेमाल

मेनोपॉज के दौरान महिलाओं को कई तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ता है। ऐसे में उनके लिए 4-5 साल बहुत परेशानी भरे होते हैं। मूड और व्यवहार में बार-बार परिवर्तन देखने को मिलता है। साथ ही शरीर में थकान, कमजोरी और हार्मोनल बदलाव के कारण कई परेशानियां होती है। कई महिलाओं में तो मेनोपॉज के दौरान या बाद में नींद न आने की समस्या भी देखने को मिलती है। सही ढंग से नींद न लेने पर आपको हाई बल्ड प्रेशर और हार्ट संबंधित समस्याएं भी हो सकती है। इसके लिए आप अंग्रेजी दवाओं की जगह आर्युवेद का सहारा भी ले सकते हैं। कई तरह के आयुर्वेदिक सप्लीमेंट्स हैं जो शरीर को फायदा पहुंचाते हैं। ऐसे ही कुछ आयुर्वेदिक सप्लीमेंट्स मेनोपॉज के लक्षणों को कम करने में मदद कर सकते हैं। साथ ही आपको अंदर से मजबूत और बीमारियों से दूर रहने में भी मदद करते हैं। आइए ऐसे ही कुछ खास सप्लीमेंट और मेनोपॉज के दौरान रखे जाने वाली सावधानियों को जानते हैं। 

मेनोपॉज के दौरान इन हर्ब्स का करें सेवन

1. शतावरी

शतावरी महिलाओं के लिए कई तरह से फायदेमंद होती है। इसका इस्तेमाल प्रेगनेंसी और स्तनपान के दौरान भी किया जा सकता है। मेनोपॉज के दौरान  शतावरी की जड़ का उपयोग करने से कई समस्याएं ठीक हो सकती है। यह हार्मोनल परिवर्तन के कारण होने वाली परेशानियों को ठीक करने में मदद कर सकता है। साथ ही शरीर को अंदर से मजबूत बनाता है। 

menopause-herbs

Image Credit- Freepik

2. नागकेशरा

मेनोपॉज के दौरान कई अंगों में सूजन और जलन की समस्या हो सकती है। बहुत लोग को थकान और सिरदर्द की परेशानी भी बराबर रहती है। ऐसे में अगर आप इन समस्याओं से दूर रहना चाहते हैं, तो नागकेशरा का उपयोग कर सकते हैं। इसके एंटीइंफ्लेमेटरी और जीवाणुरोधी गुण शरीर की जलन और सूजन को कम करते हैं। 

3. अमलाकिक

यह पदार्थ आंवला के पेड़ के फल और बीज से निकाला जाता है। आंवला आपके शरीर को रीवाइटलाइज और कायाकल्प कर सकता है। यह तनाव को दूर करने और तंत्रिका तंत्र को मजबूत बनाने में मदद करता है। इससे ब्लड सर्कुलेशन अच्छा रहता है और खून को डिटॉक्स करने में भी मदद कर सकता है। 

इसे भी पढे़ं- मेनोपॉज और प्री-मेनोपॉज क्या है? जानें दोनों के लक्षणों में अंतर और बचाव के उपाय

4. अशोक 

अशोक के फूल, पेड़, छाल और बीज में कई औषधीय गुण होते हैं। मेनोपॉज के दौरान इसका उपयोग करने से दर्द और तमाम तरह की परेशानियों में आराम मिलता है। अशोक के फूल  पीरियड्स और पीएमएस की समस्या में काफी मददगार साबित हो सकता है। यह दर्द निवारक के रूप में काम करता है। 

5. जटामांसी 

यह मनोवैज्ञानिक विकार को दूर करता है। साथ ही मानसिक अंसुतलन को कम करने में भी उपयोगी है। यह आपको मानसिक शांति के साथ-साथ अच्छी नींद भी प्रदान करता है। इसके उपयोग से आपको बहुत अधिक थकान का अनुभव नहीं होता है।

menopause-herbs 

Image Credit- Freepik

इन बातों का भी रखें खास ख्याल

1. मेनोपॉज के दौरान महिलाओं को ऐसे भोजन से दूर रहना चाहिए, जिससे वात और पित्त की समस्या बढ़ सकती है। इसलिए आपको तीखा और तला भोजन नहीं करना चाहिए। ऐसा भोजन करने से आपकी शारीरिक और मानसिक परेशानियां बढ़ सकती है। 

2. शरीर को हाइड्रेट औक कूल रखने के लिए आपको सौंफ, इलायची, नारियल पानी जैसी ठंडी चीजों का सेवन करना चाहिए ताकि बॉडी हिट को कम किया जा सके। 

3. हार्मोनल इमबैलेंस को कंट्रोल करने के लिए आप एलोवेरा जेल का इस्तेमाल कर सकते हैं। इसमें पाया जाने वाला फाइटोएस्ट्रोजन नाम के केमिकल शरीर के लिए काफी अच्छा माना जाता है। 

4. इस दौरान पेट और पाचन तंत्र को दुरुस्त करने के लिए आप मेथी दाने का इस्तेमाल कर सकते हैं। इससे पेट की सभी तरह की समस्याएं ठीक हो सकती है।  मेनोपॉज के दौरान आप मेथी के दाने को 

Main Image Credit- Freepik

Disclaimer