Expert

PMS से पीड़ित महिलाओं को राहत दिलाएंगे ये आयुर्वेदिक उपाय, जानें एक्सपर्ट से

हर 4 में से 3 महिलाएं प्रीमेंस्ट्रुअल सिंड्रोम (PMS) से कभी न कभी प्रभावित होती हैं। पीएमएस में कई तरह के लक्षण और संकेत दिखाई देते हैं। 

Ashu Kumar Das
Written by: Ashu Kumar DasPublished at: Jul 27, 2022Updated at: Jul 27, 2022
PMS से पीड़ित महिलाओं को राहत दिलाएंगे ये आयुर्वेदिक उपाय, जानें एक्सपर्ट से

How to control PMS naturally: अगर आपको पीरियड्स का सर्कल पूरा होने से पहले ही इसके लक्षण नजर आने लगते हैं, तो इसका अर्थ ये हो सकता है कि आप पीएमएस यानी प्री-मेंस्ट्रुअल सिंड्रोम से पीड़ित हों। पीएमएस हार्मोन्स के असंतुलन के कारण होता है।

मायो क्लिनिक के मुताबिक, हर 4 में से 3 महिलाएं प्रीमेंस्ट्रुअल सिंड्रोम (PMS) से कभी न कभी प्रभावित होती हैं। पीएमएस में कई तरह के लक्षण और संकेत दिखाई देते हैं। इसमें मूड स्विंग, बिना काम किए थकान महसूस होना, गुस्सा, चिड़चिड़ापन, खाने की  क्रेविंग और इमोशनल होना जैसे लक्षण महसूस हो सकते हैं। PMS एक ऐसी शारीरिक समस्या है, जिसे अपनी लाइफस्टाइल में बदलाव करके ठीक किया जाता है। आयुर्वेदिक डॉक्टर दीक्षा भावसार ने PMS से राहत पाने के लिए कुछ खास टिप्स शेयर किए हैं।आयुर्वेद डॉक्टर दीक्षा भावसार ने अपने इंस्टाग्राम हैंडल से एक वीडियो शेयर किया है और बताया कि 100 प्रतिशत नैचुरल तरीके से कैसे पीएमएस से छुटकारा पाया जा सकता है। आइए जानते हैं इसके बारे में...

महिलाओं के लिए PMSसे राहत पाने के नैचुरल तरीके

बादाम और किशमिश से करें दिन की शुरुआत

डॉक्टर का कहना है कि पीएमएस से राहत पाने के लिए महिलाओं को अपने दिन की शुरुआत 5 भीगे हुए किशमिश और 4 भीगे हुए बादाम से करनी चाहिए। इसके अलावा पीरियड्स सर्कल से 2 सप्ताह पहले से खट्टे, डीप फ्राई और प्रॉसेस्ड फूड्स का सेवन बंद कर देना चाहिए। डॉक्टर का कहना है कि प्रॉसेस्ड फूड्स की तासीर गर्म होती है, जो पीएमएस का कारण बन सकती है।

इसे भी पढ़ेंः क्या प्रेगनेंसी में सीढ़ियां चढ़ना सुरक्षित है? जानें इसके फायदे, नुकसान और जरूरी सावधानियां

बीज का सेवन है जरूरी

दीक्षा का कहना है कि महिलाओं को पीरियड्स सर्कल शुरू होने से 2 सप्ताह पहले कुछ बीजों का सेवन अवश्य करना चाहिए। पहले सप्ताह के लिए 1 चम्मच सन फ्लावर (सूरजमुखी) और कद्दू के बीज और दूसरे सप्ताह के लिए सूरजमुखी और तिल के बीजों का सेवन करना चाहिए। उनका कहना है कि बीज का सेवन करने से पीरियड्स में होने वाला दर्द कम होता है।

मीठे फल और हेल्दी फैट

पीएमएस से राहत पाने के लिए मीठे फल और हेल्दी फैट का सेवन करना बहुत जरूरी माना गया है। डॉक्टर दीक्षा का कहना है कि महिलाएं हेल्दी फैट में गाय का घी, जैतून का तेल (ऑलिव ऑयल), नट्स और बीजों को शामिल कर सकती हैं। हेल्दी फैट हार्मोन को संतुलित रखने का काम करते हैं।

फिजिकल एक्टिविटी है जरूरी

पीएमएस और पीरियड्स के दर्द से राहत पाने के लिए फिजिकल एक्टिविटी करना बहुत जरूरी है। इसके लिए आप प्रतिदिन कम-से-कम 40 मिनट सुबह या शाम फिजिकल एक्टिविटी जरूर करें। आप अपनी फिजिकल एक्टिविटी में एक्सरसाइज, योग, साइकिलिंग, जिम और डांस जैसी एक्टिविटी को चुन सकते हैं। डॉक्टर का कहना है कि किसी भी फिजिकल एक्टिविटी को करने से पहले ध्यान दें कि ज्यादा हैवी एक्सरसाइज करने से शरीर में वात बढ़ जाता है, जो पीरियड्स में दर्द का कारण बन सकता है। इसलिए पीरियड्स से पहले महिलाओं को हमेशा लाइट एक्सरसाइज या योग करने की सलाह दी जाती है।

इसे भी पढ़ेंः वजन घटाने से खूबसूरती बढ़ाने तक, संजीव कपूर से जानें गुलाब का फूल खाने के फायदे

नींद का ध्यान रखना है जरूरी

आपका शरीर ठीक तरह से काम करे और पूरा दिन ऊर्जावान महसूस कर सके इसके लिए नींद सबसे ज्यादा जरूरी है। पीरियड्स और पीएमएस से राहत पाने के लिए रात में 10 बजे तक सो जाएं। डॉक्टर का कहना है कि एक स्वस्थ व्यक्ति को प्रतिदिन कम से कम 7 से 8 घंटे की नींद जरूर लेनी चाहिए।

 

Disclaimer