Doctor Verified

फिशर का आयुर्वेदिक इलाज हैं ये 4 चीजें, जानें कैसे करें सेवन

Fissure Ayurvedic Treatment in Hind: फिशर की समस्या में आयुर्वेदिक औषधियों का इस्तेमाल बहुत फायदेमंद होता है, जाने फिशर का आयुर्वेदिक इलाज।

 
Prins Bahadur Singh
Written by: Prins Bahadur SinghUpdated at: Sep 26, 2022 14:33 IST
फिशर का आयुर्वेदिक इलाज हैं ये 4 चीजें, जानें कैसे करें सेवन

Fissure Ayurvedic Treatment in Hindi: फिशर की समस्या में दिखने वाले लक्षण लगभग बवासीर के जैसे ही होते हैं, इसलिए अक्सर लोग इसको लेकर कंफ्यूज रहते हैं। फिशर की समस्या में आपके एनस में दरार या कट हो जाता है, जिसकी वजह से मलत्याग करते समय मरीज को ब्लीडिंग और गंभीर दर्द का सामना करना पड़ता है। इसके अलावा फिशर की समस्या में मरीज को बैठते या चलते समय मांसपेशियों में गंभीर ऐंठन होती है। फिशर की समस्या का आयुर्वेदिक औषधियों से इलाज बहुत कारगर माना जाता है। इस समस्या में सही समय पर इलाज न लेने से मरीज की परेशानियां बढ़ जाती हैं। इसलिए सही समय पर इसके लक्षणों को पहचानकर इलाज लेना बहुत जरूरी होता है। इंस्टाग्राम पर एक्टिव आयुर्वेद डॉक्टर दीक्षा भावसार ने फिशर के इलाज में फायदेमंद कुछ आयुर्वेदिक औषधियों और नुस्खे के बारे में जानकारी शेयर की है, आइए जानते हैं फिशर के इलाज में फायदेमंद आयुर्वेदिक नुस्खों के बारे में।

फिशर का आयुर्वेदिक इलाज- Ayurvedic Herbs To Cure Fissure

असंतुलित खानपान और खराब जीवनशैली के कारण फिशर और बवासीर की समस्या बहुत से लोगों में देखी जाती है। बहुत ज्यादा मसालेदार और तले-भुने भोजन का सेवन करने से आपको फिशर और बवासीर जैसी बीमारियों का खतरा रहता है। फिशर की समस्या में आयुर्वेदिक इलाज बहुत प्रभावी और उपयोगी माना जाता है। कब्ज और पेट से जुड़ी अन्य समस्याओं से ग्रसित लोगों में फिशर का खतरा ज्यादा रहता है। 

Fissure Ayurvedic Treatment in Hindi

इसे भी पढ़ें: फिशर और बवासीर (पाइल्स) में क्या है अंतर? जानें डॉक्टर से

फिशर की समस्या से छुटकारा पाने के लिए इन आयुर्वेदिक उपायों को अपनाना बहुत फायदेमंद माना जाता है-

1. आंवले का इस्तेमाल 

फिशर की समस्या में आंवले का इस्तेमाल बहुत फायदेमंद होता है। आंवले में मौजूद गुण और जरूरी विटामिन्स फिशर की समस्या को जड़ से दूर करने में उपयोगी माने जाते हैं। वात-पित्त और कफ दोष को संतुलित करने के लिए भी आंवले का सेवन बहुत फायदेमंद माना जाता है। फिशर के मरीजों को आंवले का चूर्ण गुनगुने पानी के साथ नियमित रूप से कुछ दिनों तक सुबह में लेना चाहिए। ऐसा कुछ दिनों तक करने से आपको फायदा मिलता है। आंवले के साथ हर्रे और बहेड़ा का चूर्ण भी फिशर की समस्या में बहुत फायदेमंद माना जाता है।

2. भीगी हुई किशमिश 

किशमिश खाने से आपकी सेहत को कई फायदे मिलते हैं। किशमिश में मौजूद आयरन और विटामिन शरीर में खून की कमी और कमजोरी की समस्या को दूर करने में उपयोगी होते हैं। भीगी हुई किशमिश का सेवन करने से आपको पेट से जुड़ी परेशानियों में बहुत फायदा मिलता है। किशमिश में फाइबर की भरपूर मात्रा होती है, जो फिशर के मरीजों की परेशानियों को दूर करने के लिए बहुत उपयोगी है। नियमित रूप से सुबह के समय भिगोई किशमिश खाने से फिशर की समस्या में बहुत फायदा मिलता है।

3. मेथी के बीज

फिशर की समस्या में मेथी के बीज का सेवन बहुत फायदेमंद होता है। मेथी में मौजूद गुण पेट की समस्याओं में बहुत फायदेमंद माने जाते हैं। इसमें मौजूद गुण कब्ज और अपच की समस्या में बहुत उपयोगी होते हैं। फिशर के मरीज मेथी दाने को रात में भिगो दें और सभ खाली पेट इसे चबाकर खाएं। इसके अलावा सुबह के समय मेथी का पाउडर गर्म पानी के साथ भी ले सकते हैं। ऐसा कुछ दिनों तक करने से आपको फिशर की समस्या से छुटकारा मिलता है।

4. गाय का घी

गाय का देसी घी भी फिशर की समस्या में बहुत फायदेमंद और प्रभावी माना जाता है। गाय के घी में मौजूद गुण पेट और पाचन से जुड़ी समस्याओं में बहुत फायदेमंद होते हैं। गाय के घी में मौजूद विटामिन ए, डी, और ई शरीर के लिए बहुत फायदेमंद होता है। इसका सेवन करने से आपका पाचन तंत्र मजबूत होता है और कब्ज की समस्या में भी फायदा मिलता है। रोजाना रात में सोने से पहले या सुबह खाली पेट 1 चम्मच गाय के देसी घी को गर्म पानी के साथ लेने से फिशर की समस्या में फायदेमंद होता है।

इसे भी पढ़ें: Remedies For Fissure Pain: फिशर में होने वाले रक्‍तश्राव और दर्द को दूर करते हैं ये 5 घरेलू नुस्‍खे

फिशर की समस्या में दिखने वाले लक्षण बवासीर के लक्षणों जैसे ही होते हैं। कई बार लोग इसे बवासीर मान बैठते हैं। फिशर के लक्षण दिखने पर आपको डॉक्टर से सलाह जरूर लेनी चाहिए और सही समय पर इलाज जरूर लेना चाहिए।

(Image Courtesy: Freepik.com)

Disclaimer