इन 5 तरीकों से खुद को करें प्‍यार, कभी नहीं होंगे बीमार

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Feb 16, 2018
Comment

Subscribe for daily wellness inspiration

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • अपना खयाल रखना ही खुद से दोस्ती करने का पहला कदम होता है।
  • जब आप खूद का ख्याल रखते हैं
  • या खुद से दोस्ती करते हैं तो दूसरे भी आपको अधिक तवज़्ज़ो देते हैं।

दोस्ती हम उम्र दोस्तों से हो, सीनियर्स से या कलीग्स से, उसमें धैर्य का होना बहुत ज़रूरी होता है। यही रिश्ता जब खुद के साथ कायम करना हो तो धैर्य के साथ ही कई दूसरे पहलुओं पर भी ध्यान देना महत्वपूर्ण हो जाता है। अपना खयाल रखना ही खुद से दोस्ती करने का पहला कदम होता है। जब आप खूद का ख्याल रखते हैं या खुद से दोस्ती करते हैं तो दूसरे भी आपको अधिक तवज़्ज़ो देते हैं।

सोना है जरूरी

कभी ध्यान दीजिएगा कि जिस दिन आपकी नींद पूरी होती है, उस दिन आप विशेष तौर पर तरोताज़ा महसूस करते हैं। कई अध्ययनों से यह बात साबित हो चुकी है कि छह-आठ घंटों की नींद हर किसी के लिए बहुत ज़रूरी है। अगर नींद पूरी नहीं हुई तो दिन भर मन अशांत सा प्रतीत होगा और अगर मन ही अच्छा नहीं होगा तो धैर्य रखना थोड़ा कठिन हो सकता है। इसलिए अपने टाइमटेबल में थोड़ा चेंज करके नींद को उसकी पर्याप्त जगह दें।

एक्सरसाइज़ जरूर करें  

रोज़ाना योग और एक्सरसाइज़ करने से आपकी बॉडी जितनी फिट रहेगी, उतना ही मन भी। एक्सरसाइज़ करने से एकाग्रता बढ़ती है और दिमाग भी शांत रहता है। अगर बिज़ी शेड्यूल में से एक्सरसाइज़ के लिए बहुत समय न निकाल पाते हों तो भी सुबह 10 मिनट प्राणायाम के लिए ज़रूर निकालें। डेस्क पर बैठ कर की जाने वाली एक्सरसाइज़ के बारे में भी किसी कुशल ट्रेनर से राय ले सकते हैं। काम या पढ़ाई से थोड़े-थोड़े समय पर ब्रेक ज़रूर लेते रहें। इससे दिमाग को ठंडा रखने में मदद मिलेगी।

इसे भी पढ़ें: नजरअंदाज न करें, आपकी सुस्ती हो सकती है इन 5 बीमारियों का संकेत

ब्रेकफास्‍ट न छोड़ें

नियमित तौर पर ब्रेकफस्ट करने से आपकी बॉडी को आवश्यक कैलरी मिलेगी और दिमाग को उपयुक्त खुराक। स्टडी बताती हैं कि नाश्ता जल्दी और हर रोज़ तय समय पर किया जाना चाहिए। देर से किया गया भारी-भरकम नाश्ता बॉडी फैट में बदल सकता है। दिन भर की एनर्जी के लिए नाश्ते से ज़्यादा अहम आहार कोई दूसरा नहीं हो सकता।

अपने फायदों को जानें  

हर सुबह दिन भर किए जाने वाले कामों का प्लैन बना लें। एक बार शांत मन से सोचें कि कहीं कभी आपकी बेचैनी या अधीरता से आपकी कार्यक्षमता को नुकसान तो नहीं पहुंच रहा है? अगर ऐसा हो रहा हो तो उन उपायों के बारे में सोचें, जिनसे आपका मन शांत रह सके। जब भी लगे कि शांत रहने की ज़रूरत है तो खुद को धैर्य रखने के लिए रिमाइंड करें।

इसे भी पढ़ें: जल्दबाजी में अक्सर छोड़ देते हैं ब्रेकफास्ट, तो इन 5 बीमारियों के लिए तैयार रहिए

हर किसी से करें नमस्‍कार

सुबह उठने से लेकर रात को सोने तक आप जितने भी लोगों से मिलते हों, उन्हें ग्रीट करने की आदत डालें। गुड मॉर्निंग, हेलो या नमस्ते जैसी विशेज़ से आपके रिश्ते हमेशा के लिए मज़बूत बन सकते हैं। सबके साथ सहयोग करें व उनके प्रति विनम्र रहें। ध्यान रखें कि जैसा व्यवहार आप दूसरों के साथ करेंगे, वैसा ही वे लोग भी आपके साथ करेंगे।

अपनी बुरी आदतें बदलें

अकसर हम अपनी ज़रूरतों के लिए दूसरों को बदलने की कोशिश करते हैं। इस दौरान हम यह भूल जाते हैं कि दूसरों को बदलना बहुत कठिन होता है, इससे बेहतर रहेगा कि हम उनके प्रति अपने रवैये को ही बदल लें। जहां आपकी प्रतिक्रिया देने की आवश्कता न हो, वहां शांत ही बैठें। अगर आपकी किसी बात से सामने वाले को दुख पहुंचा हो तो उसे 'सॉरी कहने में न हिचकें।

खुद पर रखें भरोसा

समय-समय पर अपने धैर्य की परीक्षा लेते रहें। खुद को परखने के लिए अपने आपको उन परिस्थितियों में डालें, जो आपको अधीर अनाती हैं। इस तरह आप खुद को शांत रखने की कोशिश कर सकते हैं। यह एक्सरसाइज़ आपके पेशंस लेवल को बढ़ाएगी। दूसरों की बातों में आने से पहले हमेशा खुद की बातों पर भरोसा करें। अगर आपका मन किसी विशेष बात या व्यक्ति को मानने से इनकार कर रहा हो तो उसके बारे में सोचकर अपनी एनर्जी को वेस्ट न करें।

ऐसे अन्य स्टोरीज के लिए डाउनलोड करें: ओनलीमायहेल्थ ऐप

Read More Articles On Healthy Living In Hindi

Loading...
Write Comment Read ReviewDisclaimer
Is it Helpful Article?YES970 Views 0 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर