सोरायसिस त्वचा की स्थिति है जिसमे त्‍वचा लाल, खुजली होना और पपड़ी पड़ने जैसी समस्‍या चिन्हित किया जाता है। यह त्वचा से संबंधित सबसे पुरानी और लंबे समय तक चलने वाली बीमारियों में से एक है। सोरायसिस के लिए आमतौर जीन, इम्‍यून सिस्‍टम और हार्मोन परिवर्तन जिम्‍मेदार हैं।

"/>

मौसम बदलने के साथ रहता है सोरायसिस का खतरा, जानें क्‍या हैं इसके कारण

सोरायसिस त्वचा की स्थिति है जिसमे त्‍वचा लाल, खुजली होना और पपड़ी पड़ने जैसी समस्‍या चिन्हित किया जाता है। यह त्वचा से संबंधित सबसे पुरानी और लंबे समय तक चलने वाली बीमारियों में से एक है। सोरायसिस के लिए

Atul Modi
Written by: Atul ModiUpdated at: Feb 19, 2019 12:38 IST
मौसम बदलने के साथ रहता है सोरायसिस का खतरा, जानें क्‍या हैं इसके कारण

3rd Edition of HealthCare Heroes Awards 2023

सोरायसिस त्वचा की स्थिति है जिसमे त्‍वचा लाल, खुजली होना और पपड़ी पड़ने जैसी समस्‍या चिन्हित किया जाता है। यह त्वचा से संबंधित सबसे पुरानी और लंबे समय तक चलने वाली बीमारियों में से एक है। सोरायसिस के लिए आमतौर जीन, इम्‍यून सिस्‍टम और हार्मोन परिवर्तन जिम्‍मेदार हैं। कुछ कारक हैं जो सोरायसिस की समस्‍या को बढ़ाते हैं, जो कहीं न कहीं आपकी आदतों और आसपास की चीजों से जुड़ी हुई हैं। 

 

संक्रमण

सोरायसिस आम संक्रमण जैसे कान का दर्द, ब्रोंकाइटिस, गले में संक्रमण और ऐसे अन्य कारणों से भी बदतर हो जाता है। यदि आपको सोरायसिस के साथ कोई संक्रमण है, तो आपके लिए अपने चिकित्सक से परामर्श करना अत्यधिक जरूरी हो जाता है। ऐसे में डॉक्टर आपको संक्रमण के जोखिम और इसे रोकने के लिए आपको सही जानकारी देंगे। 

मौसम में बदलाव 

चिकित्सा शोधकर्ताओं ने साबित किया है कि सोरायसिस ठंड और ड्राइनेस की स्थिति में बढ़ता है। यह कथित तौर पर देखा गया है कि सोरायसिस वाले लोगों की सर्दियों के दौरान या गर्मियों के दौरान त्‍वचा स्‍मूद होती है। 

अल्‍कोहल 

आपके पीने की आदतों और आपकी त्वचा की सेहत के बीच सीधा संबंध है। शराब पीना सामान्य रूप से समग्र शरीर को नुकसान पहुंचाने के लिए जाना जाता है। बिना किसी अपवाद के त्वचा भी शराब के सेवन से प्रभावित होती है। यदि आप सोरायसिस से ग्रसित हैं तो आपको तुरंत अपने त्वचा विशेषज्ञ से परामर्श लेना चाहिए ताकि वह आपकी शराब की खपत के लिए एक निश्चित सीमा निर्धारित कर सके। इससे आपकी त्वचा की स्थिति खराब नहीं होगी। 

इसे भी पढ़ें: स्‍ट्रोक आने पर मस्तिष्‍क में रूक जाता है खून का प्रवाह, हाई ब्‍लड प्रेशर है इसकी वजह

तनाव 

तनाव आमतौर पर त्‍वचा को प्रभावित करने के लिए जाना जाता है। तनाव से आपके शरीर में आपकी त्वचा पर सूजन की अधिक घटना हो सकती है जो आपकी त्वचा की बीमारी को और प्रभावित करती है। आपका डॉक्टर आपके तनाव को प्रबंधित करने के तरीकों में आपकी मदद कर सकता है ताकि यह आपकी त्वचा को और नुकसान न पहुंचाए।

इसे भी पढ़ें: हाइपरहाइड्रोसिस रोग के कारण हाथेलियों और तलवों में आता है ज्‍यादा पसीना, जानें कारण और बचाव

कट या घाव 

यदि आपकी त्वचा में किसी भी प्रकार के ब्रेकआउट या अनियमितताएं हैं, तो यह आपके सोरायसिस को और खराब कर देगा। आपकी कटी हुई त्वचा भड़क सकती है जिसे मेडिकल शब्दावली में कोबनर घटना के रूप में जाना जाता है। यदि आप किसी विशेष समस्या के बारे में चर्चा करना चाहते हैं, तो आप किसी आयुर्वेद विशेषज्ञ से सलाह ले सकते हैं। 

ऐसे अन्य स्टोरीज के लिए डाउनलोड करें: ओनलीमायहेल्थ ऐप

Read More Articles On Other Diseases In Hindi

Disclaimer