ये 5 आहार कर देते हैं आपके मेटाबॉलिज्म को स्लो, शरीर में चढ़ने लगती है चर्बी और कम हो जाता है एनर्जी लेवल

धीमे मेटाबॉलिज्म के कारण शरीर के फैट बर्न करने की प्रक्रिया धीमी हो जाती है, इसलिए चर्बी चढ़ने लगती है। ये हैं मेटाबॉलिज्म को स्लो करने वाले 5 फूड्स।

Anurag Anubhav
Written by: Anurag AnubhavUpdated at: May 26, 2020 13:06 IST
ये 5 आहार कर देते हैं आपके मेटाबॉलिज्म को स्लो, शरीर में चढ़ने लगती है चर्बी और कम हो जाता है एनर्जी लेवल

क्या आप जानते हैं मेटाबॉलिज्म (Metabolism) क्या होता है? मेटाबॉलिज्म शरीर का एक ऐसा फंक्शन है, जिसके द्वारा आपके शरीर में एनर्जी बनती है और इसका इस्तेमाल होता है। ये बात जानने के बाद समझना बहुत मुश्किल नहीं है कि अगर किसी व्यक्ति का मेटाबॉलिज्म स्लो हो जाए, तो उसे कौन-कौन सी परेशानियों का सामना करना पड़ेगा। स्लो मेटाबॉलिज्म का सबसे ज्यादा असर ये होता है कि व्यक्ति के शरीर में एनर्जी की कमी रहती है। इसके कारण वो हर समय सुस्त, थका हुआ और ढीला-ढाला रहता है। वहीं दूसरा असर ये होता है कि शरीर एनर्जी का ठीक से इस्तेमाल नहीं कर पाता है, तो कैलोरीज फैट के रूप में शरीर में जमा होती रहती है और शरीर का मोटापा बढ़ता जाता है।

इसके उलट, अगर किसी व्यक्ति का मेटबॉलिज्म तेज हो जाए, तो वो एनर्जी से भरा रहेगा और उसका शरीर फैट अच्छी मात्रा में बर्न करेगा, इससे उसकी बॉडी फिट रहेगी और मोटापा नहीं होगा। मेटाबॉलिज्म को तेज करने के लिए 3 तरीके हैं- हेल्दी खाना खाएं, अच्छी नींद लें और रोजाना थोड़ी कसरत (एक्सरसाइज) करें। लेकिन मेटाबॉलिज्म को स्लो होने के ढेर सारे कारण हो सकते हैं, जिनमें से एक है गलत फूड्स का सेवन। कई ऐसे फूड्स हैं, जिनका सेवन डेली लाइफ में रोजाना हम सब करते हैं। ये फूड्स हमारे शरीर के लिए अनहेल्दी भी होते हैं और मेटाबॉलिज्म को स्लो भी करते हैं। इसलिए इन फूड्स के सेवन से आपका मोटापा बढ़ता है। आइए आपको बताते हैं ऐसे 5 पॉपुलर फूड्स, जो आपके मेटाबॉलिज्म को स्लो कर सकते हैं।

slow metabolism foods

ज्यादातर सफेद आहार (खासकर प्रॉसेस्ड)

सफेद चावल (White Rice), सफेद ब्रेड (White Bread), सफेद पास्ता (White Pasta), मैदा से बनी चीजें आदि के सेवन से मेटाबॉलिज्म पर असर पड़ता है। यही कारण है कि इन चीजों के सेवन से आपके कमर के आसपास चर्बी बढ़ती है और मोटापा लगातार बढ़ता जाता है। अगर आप अपना वजन घटाना चाहते हैं और पेट की चर्बी को कम करना चाहते हैं, तो इन सफेद फूड्स का सेवन छोड़ दें, या कम से कम करें। दरअसल ये सभी सफेद चीजें रिफाइंड अनाज से बनाई जाती हैं। इनमें न तो फाइबर होता है और न ही कोई पोषक तत्व। इसलिए इनका सेवन आपके शरीर में सिर्फ चर्बी बढ़ाता है और कुछ नहीं। आलू को भी अगर आप फ्राई करके या तेल में पकाकर खाते हैं तो ये भी हेल्दी नहीं होता है। लेकिन उबले हुए आलुओं को सीमित मात्रा में खाने से कोई नुकसान नहीं है।

इसे भी पढ़ें: कहीं मेटाबॉलिज्म तो नहीं है आपके बढ़ने वजन का कारण?

मीठी चीजें खाने से घटता है मेटाबॉलिज्म

मीठी चीजें खासकर जिन्हें चीनी डालकर बनाया गया है, उनके सेवन से आपका मेटाबॉलिज्म स्लो हो जाता है। संयोग से चीनी भी व्हाइट ही है। इसलिए व्हाइट शुगर का प्रयोग बहुत-बहुत कम करें। ये आपके मेटाबॉलिज्म को तो धीमा करता ही है, साथ ही शरीर की कई बीमारियों और रोगों का भी कारण बनता है। मीठी चीजें ज्यादा खाने से आपके खून में शुगर की मात्रा बढ़ती है। ये बढ़ा हुआ ब्लड शुगर शरीर की नाजुक तंत्रिकाओं को नष्ट कर सकता है। इससे डायबिटीज के साथ-साथ अंगों के डैमेज होने का भी खतरा रहता है।

आप मीठे फलों का सेवन जरूर कर सकते हैं क्योंकि इनमें रिफाइंड नहीं, बल्कि नैचुरल शुगर होता है। और सबसे बड़ी बात कि फाइबर होता है, जो आपके खून में शुगर बहुत धीरे-धीरे रिलीज करता है। इसलिए मीठा पसंद है, तो फल खाएं।

योगर्ट (सिवाय ग्रीक योगर्ट के)

योगर्ट को बहुत हेल्दी माना जाता है क्योंकि ये प्रोबायोटिक फूड होता है। लेकिन अधिकतर लोग फ्लेवर्ड योगर्ट खाते हैं। जबकि फ्लेवर्ड योगर्ट न ही हेल्दी होता है और न ही आपके पाचन के लिए सही होता है। फ्लेवर्ड योगर्ट को खाने से भी आपका मेटाबॉलिज्म स्लो हो जाता है। फ्लेवर्ड योगर्ट में प्रोटीन भी अच्छी मात्रा में नहीं होता है और न ही इनमें गुड बैक्टीरिया होता है। इसके अलावा इन्हें टेस्टी बनाने के लिए इसमें रिफाइंड शुगर का भी प्रयोग किया जाता है। इसलिए आपको फ्लेवर्ड योगर्ट नहीं खाना चाहिए। हां, अगर आप ग्रीक योगर्ट खाते हैं, तो ये हेल्दी भी होता है और आपके शरीर को कई बीमारियों से भी बचाता है।

इसे भी पढ़ें: पाचन और मेटाबॉलिज्म को रखना है दुरुस्त, तो 10 मिनट में करें ये 3 व्यायाम

yogurt flavoured

एल्कोहल पीने से भी घटता है मेटाबॉलिज्म

एल्कोहल को भी कुछ लोग थोड़ी मात्रा में हेल्दी मानकर पीते हैं। लेकिन रिसर्च बताती हैं कि एल्कोहल की थोड़ी सी मात्रा भी आपके नर्वस सिस्टम के लिए बुरी साबित होती है। इसके अलावा एल्कोहल शरीर के मेटाबॉलिज्म को स्लो करता है। एल्कोहल में भी ढेर सारी शुगर घुली होती है, जिसके कारण आपका मेटाबॉलिज्म कमजोर हो जाता है। एल्कोहल के कारण लिवर पर भी बुरा असर पड़ता है। इसलिए अगर आप छोड़ सकते हैं, तो इस आदत को तुरंत छोड़ दें। अगर आप नहीं छोड़ सकते हैं, तो बहुत सीमित मात्रा में इसका सेवन करें। अमेरिकी डाइट्री गाइडलाइन्स के अनुसार महिलाओं को एक दिन में 1 ड्रिंक और पुरुषों को 2 ड्रिंक से ज्यादा नहीं लेना चाहिए।

एनर्जी बार या एनर्जी ड्रिंक

ये पढ़कर आपको हैरानी होगी क्योंकि एनर्जी बार तो एनर्जी बढ़ाते हैं। फिर इनसे मेटाबॉलिज्म स्लो कैसे होता है? दरअसल एनर्जी बार्स आपके शरीर में एनर्जी रिलीज कर देते हैं क्योंकि इनमें कैफीन और शुगर बहुत अधिक होता है। लेकिन इन्हीं कारणों से ये आपके मेटाबॉलिज्म को स्लो भी कर देते हैं। इसलिए आप एनर्जी बार या एनर्जी ड्रिंक का सेवन न करें। इसके बजाय नैचुरल एनर्जी बूस्टर जैसे- केला, खजूर, बादाम, नारियल पानी आदि पिएं।

Read More Articles on Weight Management in Hindi

Disclaimer