ओडिशाः दिमागी बुखार का कहर, 30 बच्चों की मौत

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Oct 07, 2016

पिछले महीने दिल्ली में डेंगू औऱ चिकनगुनिया के कारण होने वाली मौतों के बीच जापानी एनसेफलाइटिस के खतरे की भी बात उठी थी जो डेंगू और चिकनगुनिया की खबरों के बीच दब गई। लेकिन अफसोस की बात है कि जापानी एनसेफलाइटिस की खबर भले ही दबी गई लेकिन देश के कई राज्यों में अब भी इसका कहर जारी है।

सरकारी आंकड़ों की माने तो ओडिशा के मलकानगिरी जिले में जापानी एनसेफलाइटिस के कारण पिछले 27 दिनों में 30 लोगों की मौत हो गई। बीते बुधवार को ही पांच बच्चों की जान इस दिमागी बुखार ने ले ली।

100 से भी अधिक बच्चे दिमागी बुखार से पीड़ित

सरकारी आंकड़ो के अनुसार मलकानगिरी जिले में 100 से भी अधिक बच्चे दिमागी बुखार के इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती हैं। आंकड़ें और भयावह हो सकते हैं क्योंकि आदिवासी इलाका होने के कारण पूरी जानकारी नहीं मिल पा रही है।

 


सूअर से फैलती है ये बीमारी

डॉक्टरों ने बताया है कि ये बीमारी सूअर से फैल रही है जिसका अब तक कोई इलाज नहीं खोजा जा सका है। बीमारी होने से पहले टीकाकरण कराना ही इस बीमारी से बचने का इकलौता तरीका है।

 

हर साल फैलती है ये बीमारी

इस बीमारी का कहर 2011 के बाद से वहां हर साल टूटता है।

 

Read more Health news in Hindi.

Loading...
Is it Helpful Article?YES1294 Views 0 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK