यूरिन टेस्‍ट से बचपन में ही पता चल सकता है कि उच्‍च रक्‍तचाप होगा या नहीं

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Sep 16, 2013
Comment

Subscribe for daily wellness inspiration

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • यूरिन टेस्‍ट के जरिये उच्‍च रक्‍तचाप का पता बचपन में चल सकेगा।  
  • जॉर्जिया रीजेंट्स यूनिवर्सिटी में 19 प्रतिभागियों पर किया शोध।
  • यूरिन में सोडियम की मात्रा तय करती है उच्‍च रक्‍तचाप का खतरा।
  • मानव शरीर की रक्त कोशिकाओं में फ्लूड की मात्रा बढ़ा देता है, सोडियम।

high bp could now be identified in childhoodकिसी व्‍यस्‍क को उच्‍च रक्‍तचाप की समस्‍या होगी अथवा नहीं, इसका पता अब बचपन में ही लग सकता है। वैज्ञानिकों ने एक नए शोध में कहा कि अब यूरिन टेस्ट के जरिये यह पता लगाया जा सकेगा कि किसी बच्‍चे को भविष्‍य में उच्‍च रक्‍तचाप होगा अथवा नहीं।

 

जॉर्जिया रीजेंट्स यूनिवर्सिटी के शोध में 10 से 19 साल के 19 प्रतिभागियों के यूरिन टेस्ट के दौरान यूरिन में सोडियम की मात्रा से यह पता लगाया है कि उन्हें उच्‍च रक्‍तचाप का कितना खतरा है।

 

शोधकर्ताओं ने माना कि गलत जीवनशैली के अलावा बहुत अधिक तनाव के दौरान यूरिन में सोडियम की मात्रा अधिक होती है। इससे यह पता चल सकता है कि आगे चलकर यह सोडियम कितना खतरा पैदा कर सकता है।

 

शोधकर्ता ग्रेगरी हार्शफील्ड के अनुसार, ''इस शोध से न सिर्फ बच्चे के यूरिन टेस्ट से उसके भविष्य को सेहतमंद बनाया जा सकता है बल्कि उसके अभिभावकों को भी हाई बीपी व स्ट्रोक के खतरों से बचाने में मदद मिल सकती है।''

 

सोडियम मानव शरीर की रक्त कोशिकाओं में फ्लूड की मात्रा बढ़ा देता है, जिसका प्रभाव ब्लड प्रेशर पर पड़ता है। अगर सही समय पर इसकी पहचान करके बचाव के तरीके अपनाएं जाएं तो आगे चलकर हार्ट अटैक, हाई बीपी व स्ट्रोक जैसे खतरों से बचा जा सकता है।



 

Read More Health News In Hindi

Write Comment Read ReviewDisclaimer Feedback
Is it Helpful Article?YES1402 Views 0 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर