एचआईवी के उपचार में बाधक है विटामिन डी की कमी

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Nov 19, 2015
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

एचआईवी के उपचार के दौरान विटामिन डी की कमी मरीजों के स्‍वस्‍थ होने में बाधक साबित होती है। यह बात अमेरिका में हुए एक अध्‍ययन से सामने आई है। अमेरिका की जॉर्जिया यूनिवर्सिटी के सहायक प्रोफेसर अमारा ऐजियामामा के अनुसार, विटामिन डी की कमी के चलते एचआईवी रोगियों को स्वास्थ्य में गिरावट और ज्यादा संघर्ष का सामना करना पड़ता है, क्योंकि उनकी इम्‍यूनिटी प्रभावी रूप काम नहीं कर पाती। यह शोध पत्रिका 'क्लीनिकल न्यूट्रीशन' में प्रकाशित हुआ है।

HIV treatment in hindi
शोध के अनुसार एचआईवी संक्रमण में शरीर की रोगों से लड़ने की क्षमता खत्म हो जाती है, जिसके कारण संक्रमित व्यक्ति की जल्द ही मौत हो जाती है। ऐसे में एंटीरेट्रोवायरल थेरेपी (एचआईवी से लड़ने वाली दवा) इम्‍यूनिटी को फिर से मजबूत कर स्थिति को काबू करने में मदद करती है।

एजियामामा के अनुसार, हमारा लक्ष्य इस बात को समझना था कि क्या विटामिन डी की कमी एचआईवी के इलाज के दौरान इम्‍यूनिटी को फिर से मजबूत करने में मददगार साबित होती है या नहीं। एचआईवी रोगियों के प्रतिरक्षा तंत्र की स्थिति आमतौर पर सीडी 4 प्लस टी कोशिकाओं से मापी जाती है। ये टी कोशिकाएं प्रतिरक्षा तंत्र को रोगाणुओं (पैथोजेन्स) से लड़ने में मदद करती हैं। एजियामामा ने एचआईवी से पीड़ित 398 रोगियों पर 18 महीनों तक अध्ययन किया, जिसके तहत शून्य, तीन, छह, 12 तथा 18वें महीने में उनकी इम्‍यूनिटी की स्थिति की जांच की गई।

जिन लोगों में विटामिन डी की मात्रा अपर्याप्त थी, उनकी तुलना में पर्याप्त मात्रा वाले रोगियों में बेहतर सुधार देखने को मिला। खासकर वयस्कों में विटामिन-डी की मदद से सीडी 4 प्लस टी कोशिकाएं ज्यादा तेजी से मजबूत हुईं। विटामिन-डी की पर्याप्त मात्रा युवा और कम वजन वाले एचआईवी रोगियों के लिए ज्यादा लाभकारी है।

यह भी बताया गया कि एचआईवी रोगियों को विटामिन-डी का अलग-अलग स्तर देने पर उनमें अलग-अलग तरह का सुधार देखा गया है। हमें विटामिन-डी और सीडी 4 प्लस टी कोशिकाओं के बीच बेहतर संबंध देखने को मिले हैं।


Image Source : Getty

Read More Health News in Hindi

Write a Review Feedback
Is it Helpful Article?YES1089 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर