बीएमआई को रखिए नियंत्रित, इसका बढ़ना सेहत के लिए घातक!

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Dec 08, 2016
Comment

Subscribe for daily wellness inspiration

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • बीएमआई है आपकी लंबाई और वजन का अनुपात।
  • इसमें असमानता आपकी सेहत के लिए हानिकारक।
  • अपने शरीर का वजन अपनी लंबाई के अनुसार ही रखें।

बीएमआई यानी बॉडी मॉस इंडेक्स शरीर की लंबाई के अनुपात में शरीर के वजन पर आधारित एक टर्म है। इसके अनुसार व्यक्ति की जितनी लंबाई है उसके आधार पर ही उसका वजन होना चाहिए। वजन और लंबाई में अधिक असमानता होना न केवल सेहत के लिए नुकसानदेह है बल्कि इससे मौत का खतरा भी अधिक रहता है। इस लेख में विस्तार से जानते हैं, आखिर क्यों बीएमआई अधिक होने से बढ़ जाता है मौत का खतरा।

शोध के अनुसार

मोटापा एक खतरनाक बीमारी है। बीएमआई कैल्कुलेटर के जरिये आप आसानी से पता लगा सकते हैं कि आपके शरीर की बीएमआई कितनी है। शोधकर्ताओं ने इसके लिए 1.5 मिलियन लोगों पर अध्ययन किया। इस शोध के अनुसार जिनकी बीएमआई 22.5 से 24.9 के बीच थी उनमें मौत का खतरा 13 प्रतिशत अधिक था।

वहीं जिसकी बीमएआई 30.0 से 34.9 थी उनमें मौत का खतरा 44 प्रतिशत था, जबकि जिसकी बीएमआई 35.0 से 39.9 के बीच थी उनमें 88 प्रतिशत मौत का खतरा अधिक था। वहीं 40.0 से 49.9 की बीएमआई वालों में मौत का खतरा 250 प्रतिशत से अधिक था। यह अनुपात पुरुष और महिलाओं में एक समान था। यानी जिसकी अधिक बीएमआई उसे मौत का अधिक खतरा होता है।

इसे भी पढ़ें: इन 4 तरीकों से बिना एक्सरसाइज के 30 दिन में घटाएं वजन

 

BMI


क्या है बीएमआई

बीएमआई 18 साल से अधिक उम्र के लोगों द्वारा शरीर की लंबाई और वजन के अनुपात को मापने के लिए उपयोग किया जाने वाला मापदंड है। इसके द्वारा ये पता लगाया जाता है कि आपकी लंबाई के हिसाब से आपके शरीर का वजन कितना होना चाहिए। इसके जरिये यह पता चल जाता है कि आपका वजन कम है या अधिक। यानी किसी के लिए 50 किलो वजन आदर्श होता है तो किसी के लिए 80 किलो। बीमएआई में असमानता के कारण डायबिटीज, दिल का दौरा, हाइपरटेंशन, कोलेस्ट्रॉल, अर्थराइटिस आदि का खतरा बढ़ जाता है।

बीएमआई कैसे मापें

इसके लिए सबसे पहले अपनी लंबाई नापें। मीटर में अपनी ऊंचाई देखें। कुल ऊंचाई को मीटर में नोट करें और उसे 100 सेंटीमीटर से भाग कर दें। इस फॉर्मूले से बीएमआई की गणना करें। वजन किलोग्राम में हो और उसे मीटर में ऊंचाई से भाग कर दें।
उदाहरण - वजन- 60 किलो, लंबाई- 166 सेमी (1.66 मीटर), कुल योग- 60 ÷ (1.66)2 = 21.77 होगा।


इसे भी पढ़ें: वजन घटाने वाली बैरियाट्रिक सर्जरी क्या है, जानें इससे जुड़े 4 मिथ

इसे ऐसे समझें

18.5 से कम बीएमआई यानि अंडरवेट
18.25 के बच बीएमआई यानि हेल्दी वेट
25-30 से बीच बीएमआई यानि ओवरवेट
30-40 के बीच बीएमआई यानि मोटापे से ग्रस्त
40 से ज्यादा बीएमआई यानि ज्यादा मोटापा

कितना बीएमआई है सही

बीएमआई पुरुषों और महिलाओं के लिए अलग होता है और इसे शत-प्रतिशत सही नहीं माना जा सकता है। इसमें पैमाने के लिए केवल वजन और ऊंचाई होती है। जबकि शरीर की वसा और मांसपेशियां दोनों समान नहीं होते हैं। इसी आधार पर महिला और पुरुष का बीएमआई अलग-अलग होता है। क्योंकि महिलाओं में पुरुषों की तुलना में अधिक वसा होती है। इसी तरह बड़े लोगों के शरीर में वयस्कों  की तुलना में अधिक वसा होती है। एथलीट का गैर एथलीटों की तुलना में शरीर कम मोटा होता है।

इसलिए आज ही आप अपनी बीएमआई की माप करें और उसके अनुसार अपना वजन रखें, इसके लिए आप विशेषज्ञ की सलाह भी ले सकते हैं।

 

Image Source: weight Loss Resources

Read more Articles on Weight Management in Hindi

Write Comment Read ReviewDisclaimer Feedback
Is it Helpful Article?YES1 Vote 922 Views 0 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर