कोरोना के खतरों के बीच केरल में 'जीका वायरस' के 14 मरीज मिलने से हड़कंप, कई राज्यों में घोषित हुआ हाई अलर्ट

केरल में जीका वायरस के 14 मरीज मिलने के बाद आसपास के राज्यों में हाई अलर्ट घोषित कर दिया गया है। जानें कितना खतरनाक है जीका वायरस और इसके लक्षण।

Anurag Anubhav
Written by: Anurag AnubhavPublished at: Apr 24, 2021Updated at: Jul 10, 2021
कोरोना के खतरों के बीच केरल में 'जीका वायरस' के 14 मरीज मिलने से हड़कंप, कई राज्यों में घोषित हुआ हाई अलर्ट

कोरोना वायरस महामारी से अभी देश लड़ ही रहा है कि इसी बीच केरल में अब जीका वायरस के कई मामले अचानक से देखे गए हैं। रिपोर्ट्स के मुताबाकि केरल में 14 मरीजों में जीका वायरस की पुष्टि होने के बाद राज्य में हाई अलर्ट घोषित कर दिया गया है। साथ ही पड़ोसी राज्य कर्नाटक में भी विशेष सतर्कता बरती जा रही है। राज्य सरकार के अनुसार पुणे स्थित नैशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी में तिरुवनंतपुरम जिले से मिले 19 मरीजों के सैंपल भेजे गए थे, जिनमें से 13 में इसकी पुष्टि हुई है। इसके पहले एक 24 वर्षीय गर्भवती महिला में इसका पता चला था। जीका वायरस मच्छरों से फैलने वाली एक गंभीर बीमारी है, इसलिए इस वायरस से सावधानी बहुत जरूरी है।

इस वायरस से संक्रमित लोगों को ज्यादातर कोई लक्षण देखने को नही मिलते हैं। बस थोड़े बहुत लक्षण देखने को मिलते हैं। जिनमें हल्का फुल्का बुखार होता है, मसल पेन होता है। बहुत ही कम केस में ऐसा होता है कि जिका वायरस के कारण किसी को दिमाग या नर्वस सिस्टम में हानि पहुंचती है। जिन महिलाओं को प्रेग्नेंसी के दौरान जिका वायरस हो जाता है उनके मिसकैरिज के अधिक चांस होते हैं। रिसर्चर इस वायरस के बारे में अभी और खोज कर रहे है लेकिन अभी के लिए इससे बचने का सबसे अच्छा तरीका है मच्छर के काटने से बचें। हर 5 में से 4 लोगों को इस वायरस से संक्रमित हैं, लक्षण देखने को नहीं मिलते हैं और जिन्हें लक्षण देखने को मिलते हैं उन्हें वायरस होने के 2 से 14 दिन के बीच में लक्षण दिखते हैं और उन्हें ठीक होने में भी एक से दो हफ्ते लगते हैं।

zika virus

जीका वायरस के लक्षण (Symptoms of Zika Virus)

  • हल्का बुखार
  • मसल्स में दर्द होना
  • त्वचा पर रैशेज होना
  • जोड़ों में दर्द होना
  • लाल आंख रहना
  • सिर दर्द रहना
  • आंखों और पेट में दर्द रहना
  • थकान होना

डॉक्टर को कब दिखाएं?

अगर आपके परिवार का कोई सदस्य या आप किसी ऐसी जगह घूमने गए हों जहां इस वायरस का प्रकोप फैला हुआ है तो आपको डॉक्टर से चेक कराना चाहिए। डॉक्टर इसे जांचने के लिए कई प्रकार के टेस्ट कर सकते हैं। अगर आप गर्भवती हैं और वायरस फैली हुई जगह जा कर आई हैं, तो बेशक आपको कोई लक्षण न भी हो तो भी आपको डॉक्टर से चेकअप करवाना चाहिए।

क्या‌ हो सकते हैं कारण? (Causes of Zika Virus)

जैसा कि हम पहले ही जान चुके हैं कि यह वायरस आपको मच्छर के काटने से होता है। अगर आपको किसी मच्छर के काटने पर जिका वायरस हो गया है और आपको कोई और मच्छर काट लेता है तो वह भी संक्रमित हो जाता है और जब वह मच्छर किसी दूसरे व्यक्ति को काटता है तो उसे भी यह वायरस हो जाता है। गर्भवती महिलाओं में यह वायरस मां से बच्चे तक पहुंच सकता है। यह सेक्सुअल कॉन्टैक्ट के द्वारा भी एक इंसान से दूसरे में फैल सकता है।

किसी ऐसे देश में रहना या ट्रैवल करना जहां यह प्रकोप फैला हुआ है: अगर आप किसी ट्रॉपिकल या सब ट्रॉपिकल देश में रहते हैं या घूमने जाते हैं तो आपका वायरस से संक्रमित होने का रिस्क बढ़ जाता है क्योंकि यहां यह प्रकोप सबसे अधिक फैला हुआ है। ज्यादातर केस ट्रैवलर्स में देखने को मिल रहे हैं।

असुरक्षित सेक्शुअल एक्टिविटी करना: जिका वायरस सेक्स के माध्यम से भी एक इंसान से दूसरे इंसान में फैल सकता है। गर्भवती महिला जिनके पार्टनर हाल ही में किसी ऐसे देश से घूम कर आए हैं जहां यह वायरस कॉमन था तो उनका सेक्स के समय कॉन्डम का प्रयोग अवश्य ही करना चाहिए।

zika virus hindi

कैसे करें बचाव? (How to Prevent Zika Virus?)

ट्रैवल के दौरान चौकन्ने रहें: सीडीसी के मुताबिक गर्भवती महिलाओं को ऐसे देश जाने से बचना चाहिए जहां यह वायरस फैला हुआ है। अगर आप किसी वायरस के प्रकोप वाले देश में ट्रैवल करने जा रहे हैं तो आपको पहले अपने डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए और फिर सावधानी पूर्वक ट्रैवल करना चाहिए।

सुरक्षित यौन संबंध बनाएं: अगर आपका पार्टनर किसी ऐसे क्षेत्र से है जहां वायरस फैला हुआ है तो आपको सेफ सेक्स करने की ही कोशिश करनी चाहिए।

इसे भी पढ़ें: मच्छरों से हो सकती हैं कई बीमारियां, एक्सपर्ट से जानें 5 उपाय जिससे आपके आसपास नहीं आएंगे मच्छर

एसी के अंदर और सुरक्षित घर में रहें: वायरस फैलाने वाले मच्छर सुबह शाम अधिक हो जाते हैं। यह मच्छर पानी आदि में ज्यादा रहते हैं तो अगर आपके पास एसी है तो उसी के अंदर रहें और अपने घर को मच्छरों से सुरक्षित रखने के लिए कदम उठाएं।

अगर आप इस वायरस से बचना चाहते हैं तो मच्छर से दूर रहने की कोशिश करें और अपने घर में मच्छरों के लिए अनुकूल जगहों को जैसे खड़ा हुआ पानी, या गमले आदि को नष्ट करें। यह वायरस खून के एक से दूसरे व्यक्ति के ट्रांसफर के दौरान भी फैल सकता है। इसलिए अगर आप ब्लड डोनेट या खून लेने जा रहे हैं तो यह जरूर सुनिश्चित कर लें कि वह व्यक्ति वायरस से संक्रमित न हो।

Read More Articles on Other Diseases in Hindi

Disclaimer