गर्मी के दिनों में बिस्तर पर बिछाएं कॉटन की बेडशीट, जानें इसके 5 फायदे और चादर सैनेटाइज करने का सही तरीका

गर्म‍ियों के द‍िनों में आपको कॉटन बेडशीट का इस्‍तेमाल करना चाह‍िए, इस लेख में हम कॉटन बेडशीट के फायदे और उसे सैनेटाइज करने का सही तरीका जानेंगे

Yashaswi Mathur
Written by: Yashaswi MathurPublished at: May 10, 2021
गर्मी के दिनों में बिस्तर पर बिछाएं कॉटन की बेडशीट, जानें इसके 5 फायदे और चादर सैनेटाइज करने का सही तरीका

गर्मी के द‍िनों में कॉटन बेड शीट ब‍िछाने के क्‍या फायदे हैं? कॉटन की बेड शीट्स में एंटी-बैक्‍टीर‍ियल और एंटी-फंगल गुण होते हैं। कॉटन चादर ब‍िछाने से आपको गर्मी के द‍िनों में घमौर‍ियों की समस्‍या नहीं होगी। इसके अलावा ज‍िन लोगों को पसीना ज्‍यादा आता है, उनके ल‍िए भी कॉटन की चादर फायदेमंद है। अगर आपको दाने, लालपन या खुजली की समस्‍या है तो भी आप कॉटन की चादर का इस्‍तेमाल करें। छोटे बच्‍चों को कॉटन की चादर पर ही सुलाना चाह‍िए क्‍योंक‍ि उनकी स्‍क‍िन बहुत सॉफ्ट होती है। गर्मी के द‍िनों में कॉटन की चादर को ब‍िछाने के साथ-साथ आपको उसे सैनेटाइज करने का तरीका भी पता होना चाहि‍ए क्‍योंक‍ि को‍व‍िड को देखते हुए चादर को केवल साफ ही नहीं बल्‍क‍ि सैनेटाइज भी करना है। इसके ल‍िए आप कई तरह के कैम‍िकल्‍स का इस्‍तेमाल कर सकते हैं जो ड‍िसइंफेक्‍टेंट का काम करेंगे। ज्‍यादा जानकारी के ल‍िए हमने लखनऊ के केयर इंस्‍टिट्यूट ऑफ लाइफ साइंसेज की एमडी फ‍िजिश‍ियन डॉ सीमा यादव से बात की। 

cotton bedsheet benefits

गर्मियों में कॉटन बेड शीट्स इस्‍तेमाल करने के फायदे (Benefits of using cotton bedsheets in summers)

1. ब्रीथेबल (Breathable)

कॉटन फैब्रिक अपने अंदर हवा को आने देता है यानी हवा उसके अंदर या बाहर जा सकती है। कॉटन की बेड शीट्स में हवा चादर के आर-पार होती है जो क‍ि बाक‍ि फैब्र‍िक्‍स में नहीं होती। इससे स्‍क‍िन भी सांस ले पाती है और आपको गर्मी के द‍िनों में फ्रेश रखती है। 

2. हाइपोएलर्जेन‍िक (Hypoallergenic)

कॉटन में हापोएलर्ज‍ेन‍िक गुण होते हैं, अगर आपके घर में कोई छोटा बच्‍चा है तो कॉटन की बेड शीट्स पर सोना फायदेमंद होगा, बच्‍चों की सॉफ्ट स्‍क‍िन में रैशेज नहीं होंगे। बच्‍चों की स्‍क‍िन सेंसेटि‍व होती है उन्‍हें सर्दी या गर्मी दोनों ही मौसम में कॉटन की बेड शीट ब‍िछाकर ही सुलाएं।  

3. हीट एब्‍सॉर्बर (Heat Absorber)

cotton bedsheet absorbs heat

कॉटन की बेड शीट्स हीट को भी एब्‍सॉर्ब कर लेती है ज‍िससे आपको गर्मी नहीं लगेगी और आपका बॉडी टेम्‍प्रेचर मेनटेन रहेगा। कॉटन की चादर ब‍िछाकर सोने से पसीना भी नहीं आता क्‍योंक‍ि कॉटन गर्म‍ियों के मुताब‍िक सबसे बेस्‍ट फैब्रिक है, ये पसीने को सोकने का भी काम करता है। 

4. एंटी-फंगल (Anti-fungal)

अगर आपकी स्‍किन सेंसेट‍िव है तो आपको गर्मी के द‍िनों में कॉटन की बेड शीट्स ब‍िछानी चाह‍िए, इससे स्‍क‍िन में एलर्जी, दाने, लालपन की समस्‍या नहीं होती। 

5. एंटी-बैक्‍टीर‍ियल (Anti-bacterial)

गर्मी के द‍िनों में घमौरी की समस्‍या अक्‍सर लोगों को परेशान करती है, लेकि‍न अगर आप कॉटन की चादर ब‍िछाएंगे तो आपको घमौर‍ियां भी नहीं होंगी। 

इसे भी पढ़ें- गर्मियों में पहनें कॉटन फैब्र‍िक तो दूर होंगी सनबर्न, दाने, बदबू जैसी स्किन की 5 समस्याएं

कोरोना काल में बेड शीट्स को सैनेटाइज करना क्‍यों जरूरी है? (Importance of sanitizing bed sheets)

how to sanitize bedsheet

अगर एक अनुमान लगाया जाए तो घरों में बेड की चादरें हफ्ते में एक या दो बार धुलती हैं और उसमें भी हमें वायरस का कोई खतरा नहीं लगता था पर अब समय बदल गया है। कोव‍िड के बाद हमें ज्‍यादा सर्तक रहने की जरूरत है। हमारी बॉडी में कई लाख बैक्‍टीर‍िया मौजूद होते हैं जो शरीर से चादर पर ट्रैवल करते हैं और एक-दूसरे के शरीर से ये वायरस और बैक्‍टीर‍िया एक बॉडी से दूसरी में ट्रांसफर हो जाते हैं। इसल‍िए आपको बेड की चादर को सिर्फ धोना नहीं है बल्‍क‍ि सैनेटाइज भी करना होगा। कोरोना का वायरस सतह पर कई घंटों तक एक्‍ट‍िव रह सकता है। आप चादर पर बैठने से पहले स्‍प्रे सैनेटाइजर की मदद से चादर पर स्‍प्रे कर उसे वायरस मुक्‍त बना सकते हैं। 

इसे भी पढ़ें- Coronavirus: बाज़ार में नहीं मिल रहा है मास्क, तो घर पर ही इन 2 तरीकों से बनाएं कपड़े का फेस मास्क

कोरोना काल में चादर साफ और सैनेटाइज करने का सही तरीका (How to clean and sanitize bed sheets during corona pandemic)

  • 1. अगर घर में क‍िसी को कोव‍िड या बुखार आया है तो आपको उसकी बेड शीट खासतौर पर हर द‍िन बदलनी चाह‍िए और उस बेड शीट को धोते समय वॉश‍िंग मशीन में ल‍िक्‍व‍िड ड‍िस्‍इंफेक्‍टेंट डाल दें।
  • 2. चादर को अगर हाथ से साफ कर रहे हैं तो लैटेक्‍स ग्‍लब्‍स का इस्‍तेमाल करें और उसे छूने के लि‍ए आपको ग्‍लब्‍स का इस्‍तेमाल करना चाह‍िए। 
  • 3. कोव‍िड मरीज की चादर कॉटन या ल‍ीनेंन ही रखें ताक‍ि उसे साफ और सैनेटाइज करने में आसानी हो। 
  • 4. चादर को साफ और सेनेटाइज करने के ल‍िए आपको ब्‍लीच जैसे इफेक्‍ट‍िव एजेंट का इस्‍तेमाल करना चाह‍िए। 
  • 5. चादरों को हमेशा अलग से ही धोना चाह‍िए ताकि अगर उसमें वायरस या बैक्‍टीर‍िया मौजूद हो तो वो बाक‍ि कपड़ों में न आए। 

इन कैम‍िकल्‍स के इस्‍तेमाल से चादर होगी सैनेटाइज (Chemicals for sanitizing bed sheet)

वैसे तो चादर को सैनेटाइज करने के लिए धूप ही बहुत है, आप धूप में चादर को सुखाएंगे तो अल्‍ट्रावॉयलेंट रेज से बैक्‍टीर‍िया और वायरस खत्‍म हो जाएंगे। अगर आप ड्रायर की मदद लेते हैं तो ड्रायर की सबसे ज्‍यादा स्‍पीड का इस्‍तेमाल करें। कम से कम एक घंटा चादर को धूप में सुखाएं, इससे चादर जर्म फ्री रहेगी। इसके अलावा आप कुछ कैम‍िकल्‍स की मदद से बेड शीट्स को साफ कर सकते हैं, इन कैम‍िकल्‍स को आप चादर साफ करते समय या वॉशिंग मशीन में डाल सकते हैं जैसे- 

  • 1. पाइन ऑयल (Pine Oil) ये एक तरह का नैचुरल ड‍िस्‍इंफेक्‍टेंट है जो सफेद और कलर दोनों तरह की चादरों पर डाल सकते हैं। आधा कप पाइन ऑयल लें और उसे वॉश‍िंग मशीन में डाल दें। 
  • 2. हाइड्रोजन पैरॉक्‍साइड (Hydrogen Peroxide) अगर आपकी स्‍क‍िन सेंसेट‍िव है तो अपनी बेड शीट्स में इस कैम‍िकल का इस्‍तेमाल करें। चादर के ल‍िए ये एंटीसेप्‍ट‍िक का काम करेगी। एक कप में तीन प्रत‍िशत हाइड्रोजन पैरॉक्‍साइड डालकर कपड़े धो लें।
  • 3. क्‍लोरीन ब्‍लीच  (Chlorine bleach) सफेद चादरों के ल‍िए क्‍लोरीन ब्‍लीच अच्‍छा रहता है। आपको वॉश‍िंग मशीन में स‍िर्फ आधा कप ब्‍लीच डालना है। 
  • 4. वाइट विनेगर (White Vinegar) आपको एक कप व‍िनेगर को बेड शीट में डालकर उसे धो लेना है, ये बैक्‍ट‍ीर‍िया को खत्‍म करने में असरदार माना जाता है। 
  • 5. ऑक्‍सीजन ब्‍लीच (Oxygen Bleach) ये अच्‍छा स्‍टेन र‍िमूवर तो है ही साथ ही ये अच्‍छा ड‍िस्‍इंफेक्‍टेंट भी है। आप इससे भी चादर को सैनेटाइज कर सकते हैं। 
  • 6. बोरैक्‍स (Borax) आपको आधा कप बोरैक्‍स को पानी में म‍िलाकर चादर पर डालकर धोना है, इससे दाग भी मि‍टते हैं और ये अच्‍छी तरह चादर को जर्म फ्री भी कर देगा। 

इस तरीके से आप अपनी बेड शीट्स को सैनेटाइज कर सकते हैं, और कोश‍िश करें क‍ि गर्मी के द‍िनों में कॉटन की चादर का ही इस्‍तेमाल करें क्‍योंक‍ि इनसे इंफेक्‍शन होने का खतरा भी कम होता है। 

Read more on Miscellaneous in Hindi 

Disclaimer