बुखार आने पर कितने दिन में करवाना चाहिए डेंगू और मलेरिया का टेस्ट? डॉक्टर से जानें इसके बारे में

आजकल डेंगू और मलेरिया का प्रकाेप बढ़ता जा रहा है। बुखार इसके लक्षणाें में सबसे सामान्य है। जानें बुखार हाेने पर कितने दिनाें में डेंगू का टेस्ट करवाएं

Anju Rawat
Written by: Anju RawatPublished at: Sep 27, 2021
बुखार आने पर कितने दिन में करवाना चाहिए डेंगू और मलेरिया का टेस्ट? डॉक्टर से जानें इसके बारे में

इन दिनाें डेंगू, मलेरिया और वायरल बुखार के मामले बढ़ते जा रहे हैं। इन तीनाें के लक्षण काफी हद तक एक जैसे हाेते हैं। बुखार (Fever) इनके सामान्य लक्षणाें में से एक है। डेंगू (Dengue), मलेरिया (Malaria) के मच्छराें के काटने पर व्यक्ति काे कुछ दिनाें के भीतर ही बुखार महसूस हाेने लगता है। ऐसे में वे असमंजस में रहते हैं कि आखिर उन्हें डेंगू, मलेरिया का टेस्ट कितने दिनाें के भीतर करवाना चाहिए? चलिए डॉक्टर एम.के.सिंह (Dr. M.K.Singh) से जानते हैं डेंगू, मलेरिया के लक्षण और टेस्ट के बारे में-

dengue

(Image Source : garco10.com.vn)

डेंगू (Dengue)

डेंगू एक तरह का वायरल बुखार (Viral Fever) है। यह एडीज इजिप्टी मच्छर (Aedes Aegypti Mosquito) के काटने से फैलता है। इसका मच्छर अधिकतर दिन के समय ही काटता है। डेंगू के बुखार 4 तरह के हाेते हैं। इसमें डी-2 स्ट्रेन (D-2 Strain) काे काफी जाेखिम भरा माना जाता है। इस बुखार में मरीज का अचानक से ब्लड प्रेशर कम (Low Blood Pressure) हाेने लगता है, कई बार इस स्थिति में मरीज की मौत भी हाे जाती है।

इसे भी पढ़ें - बहुत खतरनाक माना जा रहा है डेंगू का नया वेरिएंट DENV-2, जानें इसके बारे में

डेंगू के लक्षण (Dengue Symptoms)

  • बुखार (Fever)
  • सिरदर्द (Headache)
  • मितली आना (Nausea)
  • उल्टी (Vomit)
  • हड्डियाें और मांसपेशियाें में दर्द (Bone and Muscle Pain)
  • पेट दर्द (Abdominal Pain)
  • तेज सांस चलना (Fast Breathing)

डेंगू के लक्षण 2-7 दिन तक रह सकते हैं। डेंगू का मच्छर काटने पर आपकाे 2 दिन के भीतर लक्षण शुरू हाे सकते हैं। ऐसे में आपकाे इसके लक्षणाें काे बिल्कुल भी नजरअंदाज नहीं करना चाहिए। लक्षण दिखते ही तुरंत डॉक्टर से कंसल्ट करना चाहिए। 

डेंगू का टेस्ट कब करवाना चाहिए? (When Should a Dengue Test be Done)

डेंगू के लक्षण दिखते ही आपकाे तुरंत जांच करवानी चाहिए। दरअसल, डेंगू की जांच के लिए एलाइजा टेस्ट (ELISA test) करवाना हाेता है। यह टेस्ट दाे तरह के हाेते हैं- इसमें आईजीएम (IGM) और आईजीजी (IGG) शामिल हैं। अगर आपकाे बुखार है, ताे 3-5 दिनाें के भीतर आईजीएम टेस्ट करवा लेना चाहिए। यानी अगर आपकाे इस मौसम में बुखार है, ताे ज्यादा देर किए बिना ही तुरंत डेंगू का टेस्ट करवा लें। 

malaria

(Image Source : noticiasaominuto.com.br)

मलेरिया (Malaria)

मलेरिया मच्छराें के काटने से फैलने वाला एक राेग है। यह एनाेफिलीज मच्छर (Anopheles Mosquito) के काटने से हाेता है। यह एक मादा मच्छर है, इसमें एक जीवाणु पाया जाता है, जिसे प्लाज्माेडियम (Plasmodium) कहा जाता है। 

इसे भी पढ़ें - मच्छरों से फैलने वाली बीमारियां लंबे समय में हो सकती हैं घातक, जानें मलेरिया के कारण होने वाले खतरे

मलेरिया के लक्षण (Malaria Symptoms)

जरूरी नहीं है कि किसी व्यक्ति में मलेरिया हाेने पर ये सभी लक्षण नजर आए। साथ ही अलग-अलग व्यक्तियाें में इसके अलग-अलग लक्षण नजर आ सकते हैं।

fever

(Image Source : alnahdanews.com)

कब करवाना चाहिए मलेरिया का टेस्ट? (When Should a Malaria Test be Done)

मलेरिया के लक्षण दिखने पर आपकाे तुरंत डॉक्टर से कंसल्ट करने की जरूरत हाेती है। मच्छर के काटने पर किसी भी व्यक्ति काे 7-15 दिनाें तक लक्षण नजर आ सकते हैं। अगर आपकाे लगातार 5-7 दिनाें तक बुखार हाे, ताे मलेरिया की जांच करवा लेना चाहिए।

डेंगू और मलेरिया से बचाव कैसे करें? (How to Prevent Dengue and malaria)

  • डेंगू से बचने के लिए कूलर, एसी, गमलाें में पानी जमा न हाेने दें।
  • खिड़की और दरवाजाें काे बंद करके रखें।
  • पानी की ठंडी की सफाई करते रहें। 
  • मच्छराें काे मारने वाली जाली और मशीन का प्रयाेग करें।

लगातार बुखार आने पर डॉक्टर से कंसल्ट करें। डेंगू और मलेरिया के शुरुआती लक्षणाें काे बिल्कुल भी नजरअंदाज नहीं करना चाहिए। डेंगू से बचने के लिए ये सावधानियां जरूर अपनाएं।

आजकल डेंगू और मलेरिया के मरीजाें में वृद्धि हाेती जा रही है। ऐसे में इनके मच्छराें से बचाव बहुत जरूरी है। अगर आपकाे इनके एक भी लक्षण नजर आए है, तुरंत डॉक्टर से संपर्क कर अपने सभी जरूरी टेस्ट करवाएं।

(Main Image Source : scripps.org, ourakola.com)

Read More Articles on Other Diseases in Hindi

Disclaimer