Expert

च्यवनप्राश खाने का सही समय और तरीका क्या है? जानें डाइटिशियन से

What is the Right time and method of eating Chyawanprash: सर्दियों के मौसम में भारतीय घरों में खूब च्यवनप्राश खाया जाता है।

 

Ashu Kumar Das
Written by: Ashu Kumar DasUpdated at: Dec 16, 2022 16:35 IST
च्यवनप्राश खाने का सही समय और तरीका क्या है? जानें डाइटिशियन से

Right time and method of eating Chyawanprash: सर्दियों के मौसम आते ही घर की दादी-नानी छोटे बच्चों को अक्सर च्यवनप्राश खिलाती हैं। आपने भी देखा होगा अक्सर मां भी बिना मन के जबरन मुंह में च्यवनप्राश का चम्मच ठूंस देती थीं और हमें उसे खाना पड़ता था। 

च्यवनप्राश स्वाद में बेशक इतना अच्छा न लगता हो, लेकिन स्वास्थ्य के लिए बहुत ही फायदेमंद होता है। ऐसा कहा जाता है कि सर्दियों के मौसम में नियमित तौर पर च्यवनप्राश खाएं (Health benefits of Chyawanprash) तो बीमारियां आसपास भी नहीं भटकती हैं। च्यवनप्राश खाने से इम्यूनिटी बूस्ट होती है, ये शरीर में बीमारियों के जोखिम को करती है, लेकिन सवाल ये है च्यवनप्राश खाने का सही समय क्या है और च्यवनप्राश को कैसे खाया जाए ताकि इसके सभी पोषक तत्व (Nutrition value of Chyawanprash) शरीर को मिल सकें। इन सभी सवालों का जवाब जानने के लिए हमने डाइटिशियन श्रेया अग्रवाल से बातचीत की।

इसे भी पढ़ेंः पुरुषों के लिए बहुत फायदेमंद है जायफल, इन 3 परेशनियों से दिलाता है राहत

च्यवनप्राश के पोषक तत्व - Nutrients of Chyawanprash

डाइटिशियन श्रेया अग्रवाल का कहना है कि च्यवनप्राश को आंवला, नीम, पीपली, ब्राम्ही, केसर, सफ़ेद चन्दन की लकड़ी, अश्वगंधा, तुलसी, इलायची, अर्जुन, शहद और घी मिलाकर बनाया जाता है। इसलिए च्यवनप्राश पोषक तत्वों का खजाना है। च्यवनप्राश में  एंटी-वायरल, एंटी-बैक्टेरियल, एंटी-ऑक्सीडेंट्स, एंटी-फंगल गुण पाए जाते हैं, जो शरीर को वायरस से लड़ने की क्षमता प्रदान करते हैं। 

च्यवनप्राश खाने का सही तरीका क्या है?- What is the right way to eat Chyawanprash?

सर्दियों के मौसम में च्यवनप्राश का सेवन करने से इम्यूनिटी बूस्ट करने में मदद मिलती है। लेकिन च्यवनप्राश की तासीर गर्म होती है इसलिए इसका अधिक मात्रा में सेवन करना सेहत के लिए नुकसानदायक हो सकता है। डाइटिशियन का कहना है कि एक व्यस्क व्यक्ति एक दिन में 1 टी-स्पून च्यवनप्राश का सेवन करना चाहिए। वहीं, छोटे बच्चों को 1/2 टीस्पून च्यवनप्राश खिलाना सही है। आप चाहें तो च्यवनप्राश को गुनगुने पानी या गर्म दूध में घोलकर भी सेवन कर सकते हैं। 

Chyawanprash-health-benefits-t

क्या है च्यवनप्राश खाने का सही समय? 

एक्सपर्ट का कहना है कि च्यवनप्राश का सेवन हमेशा सुबह करना चाहिए। आप नाश्ते के बाद च्यवनप्राश का सेवन कर सकते हैं। ध्यान रहे कि च्यवनप्राश का सेवन कभी भी रात को न करें। रात को च्यवनप्राश का सेवन करने से अपच, पेट फूलना, पेट में सूजन, ढीले मल और पेट में गड़बड़ी जैसी समस्या हो सकती है।

च्यवनप्राश के फायदे – Benefits of Chyawanprash in Hindi

च्यवनप्राश के पोषक तत्व हृदय स्वास्थ्य को बेहतर बनाने में मदद करते हैं। एनसीबीआई द्वारा की गई एक रिसर्च में ये बात सामने आई है कि नियमित तौर पर एक सीमित मात्रा में च्यवनप्राश का सेवन करने से दिल को मजबूत करने में मदद मिलती है। 

च्यवनप्राश सर्दी, खांसी, बुखार और जुकाम जैसी समस्याओं से छुटकरा दिलाने में मदद करता है। च्यवनप्राश में मौजूद शहद सर्दी, खांसी को जड़ से खत्म करता है। च्यवनप्राश में मौजूद आंवला और अन्य जड़ी-बूटियां विटामिन-सी जैसे पोषक तत्व मौजूद होते हैं जो सर्दी के लक्षणों को खत्म करने में मदद करते हैं। 

च्यवनप्राश खाने से खून को साफ करने में मदद मिलती है। च्यवनप्राश को बनाने में पाटला का इस्तेमाल किया जाता है। पाटला शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालकर खून को साफ करने में मदद करता है। 

Disclaimer