क्या है पैरानॉइड पर्सनैलिटी डिसऑर्डर? एक्सपर्ट से जानें लक्षण, कारण और उपचार

मनोवैज्ञानिक समस्या पैरानॉइड पर्सनैलिटी डिसऑर्डर के बारे में ज्यादा लोगों को पता नहीं होता है। ऐसे में लक्षण, कारण और उपचार यहां दिए जा रहे हैं।

Garima Garg
Written by: Garima GargPublished at: Nov 24, 2020Updated at: Nov 24, 2020
क्या है पैरानॉइड पर्सनैलिटी डिसऑर्डर? एक्सपर्ट से जानें लक्षण, कारण और उपचार

हमारे आसपास अक्सर ऐसे लोग मौजूद रहते हैं जो छोटी-छोटी बातों पर हमेशा शक करते हैं या अपने संदेह के आधार पर दूसरों को दोषी मान लेते हैं। किसी पर विश्वास करना यह मानव की सामान्य प्रवृत्ति है लेकिन अगर यह आदत बन जाए तो पैरानॉइड पर्सनैलिटी डिसऑर्डर जैसी मनोवैज्ञानिक समस्या का लक्षण हो सकता है। आज हम आपको इस लेख के माध्यम से बताएंगे की पैरानॉइड पर्सनैलिटी डिसऑर्डर समस्या के पीछे क्या कारण है? इसके अलावा जानेंगे उसके लक्षण और उपचार क्या हैं? पढ़ते हैं आगे...

 

 Personality Disorder

पैरानॉइड पर्सनैलिटी डिसऑर्डर का कारण (Paranoid Personality Disorder causes)

यह एक मनोवैज्ञानिक समस्या है जिसे दो श्रेणियों में रखा गया है। पहली श्रेणी की बात करें तो दिमाग की संरचना में गड़बड़ी या सिर पर अंदरूनी चोट के कारण यह समस्या हो सकती है। वहीं दूसरी श्रेणी में कुछ ऐसी परिस्थितियां पैदा हो जाती हैं, जिससे ये समस्या उत्पन्न हो सकती है। जैसे- बचपन के बुरे अनुभव, परिवार का माहौल तनावपूर्ण रहना, करियर में असफलता आदि इन सब कारणों के चलते भी व्यक्ति के अंदर संदेह की भावना उत्पन्न होने लगती है जो आगे चलकर मनोरोग का रूप ले लेती है।

पैरानॉइड पर्सनैलिटी डिसऑर्डर के लक्षण (Paranoid Personality Disorder symptoms)

किसी व्यक्ति का शक करना स्वाभाविक है। लेकिन पैरानॉइड पर्सनैलिटी डिसऑर्डर और सामान्य शक के बीच की इस बारीक लकीर को समझना बेहद जरूरी है। जब कोई व्यक्ति बेवजह शक करें और उसका संदेह पक्के विश्वास में बदल जाए तो ये विचार करने वाली बात है। ऐसी अवस्था में व्यक्ति की आंखों के सामने सचमुच वह घटना घटित होने लगती है। वे उस अवस्था में पहुंच जाता है जब व्यक्ति अपनी कल्पना सच में घटित हुई, मान लेता है। वे अपने भ्रम को है सच मान लेता है। इन लक्षणों को गंभीरता से ना लिया जाए तो ये भविष्य में स्क्रिज़ोफेनिया मनोरोग का कारण भी बन सकते हैं।

इसे भी पढ़ें-दवाओं से होने वाली एलर्जी के बारे में जानते हैं आप? ये हैं दवा की एलर्जी के कारण शरीर पर दिखने वाले आम संकेत

पैरानॉइड पर्सनैलिटी डिसऑर्डर के उपचार (Paranoid Personality Disorder treatment)

काउंसलिंग की मदद से मरीज की अवस्था को परखा जाता है और फिर दवाइयों के साथ इलाज शुरू किया जाता है। काउंसलिंग में मरीज के ब्रेन के इंफॉर्मेशन प्रोसेस को सुधारा जाता है। इस बीमारी के पीछे डॉक्टर दिमाग की तंत्रिकाओं को जिम्मेदार मानते हैं, जिनहें सुचारू रूप से चलाने के लिए वे दवाइयों की मदद भी लेते हैं।

परिवार की होती है अहम भूमिका

  • पैरानॉइड पर्सनैलिटी डिसऑर्डर समस्या से ग्रस्त व्यक्ति को दोस्त और परिवार का पूरा सहयोग चाहिए क्योंकि व्यक्ति इस समस्या को स्वीकार करने के लिए तैयार नहीं होता है। ऐसे में किसी व्यक्ति को यह बीमारी है तो परिवार को निम्न बातों का ध्यान रखना चाहिए-
  • व्यक्ति के आसपास का माहौल सकारात्मक होना चाहिए और उसे विश्वास दिलाना चाहिए कि वह शीघ्र ठीक हो जाएगा।
  • अगर उसकी किसी आदत से बुरा लगे तो उसके सामने नाराजगी ज़ाहीर ना करें।
  • मनोवैज्ञानिक समस्याओं के उपचार में धैर्य की जरूरत होती है ऐसे मरीजों को स्वस्थ होने में काफी समय लगता है। थोड़ा सा फर्क देखने पर उपचार बीच में ना छोड़ें।
  • व्यक्ति डॉक्टर द्वारा दी गईं दवाईयों का सेवन समय पर कर रहा है या नहीं इसका ध्यान रखना परिवार की जिम्मेदारी है।

नोट- अगर डॉक्टर के निर्देशों का पालन किया जाए और समय पर उपचार करवाया जाए तो व्यक्ति जल्दी और पूरी तरह से ठीक हो सकता है।

(ये लेख डॉ श्वेता शर्मा, कंसल्टेंट-क्लिनिकल साइकोलॉजिस्ट, कोलंबिया एशिया हॉस्पिटल, पालम विहार, गुरुग्राम से बातचीत पर आधारित है।)

Read More Articles on other diseases in hindi

Disclaimer