हार्ट मसल्स में कमजोरी के कारण हो सकती हैं दिल से जुड़ी ये 5 बीमारियां, जानें इनके लक्षण और बचाव

दिल की मांसपेशियों (हार्ट मसल्स) की कमजोरी के कारण आपको दिल से जुड़ी गंभीर बीमारियां हो सकती हैं, जानें इससे बचाव के टिप्स।

Prins Bahadur Singh
Written by: Prins Bahadur SinghUpdated at: Aug 24, 2021 13:40 IST
हार्ट मसल्स में कमजोरी के कारण हो सकती हैं दिल से जुड़ी ये 5 बीमारियां, जानें इनके लक्षण और बचाव

हृदय (हार्ट) शरीर का सबसे महत्वपूर्ण अंग है जो बिना रुके लगातार काम करता रहता है। हार्ट का काम शरीर के सभी अंगों तक पर्याप्त और उचित मात्रा में खून की सप्लाई करना है। दिल के कमजोर होने या समस्याओं से ग्रस्त होने पर शरीर में ब्लड सर्कुलेशन का काम प्रभावित होता है जिसके कारण कई परेशानियां होती हैं। दिल की मांसपेशियों (हार्ट मसल्स) के कमजोर (Weak Heart Muscle) होने के कारण दिल का काम सही ढंग से नहीं हो पाता है। हार्ट मसल्स की कमजोरी को ही दिल की कमजोरी कहा जाता है। हार्ट मसल्स की कमजोरी शरीर में कई बीमारियों, खानपान और जीवनशैली के कारण हो सकती है। इस समस्या के कारण आपको कई गंभीर स्थितियों का सामना करना पड़ सकता है। कमजोर दिल या दिल की मांसपेशियों के कमजोर होने से आपको दिल से जुड़ी गंभीर बीमारियों का खतरा भी रहता है। आइये जानते हैं हार्ट मसल्स की कमजोरी के कारण दिल पर पड़ने वाले प्रभावों के बारे में।

हार्ट मसल्स की कमजोरी के कारण (What Causes Weak Heart Muscles?)

दिल की कमजोरी या हार्ट मसल्स में कमजोरी के कारण आपको कई समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। दिल की मांसपेशियों के कमजोर होने के पीछे खानपान से लेकर शारीरिक स्थितियों और जीवनशैली का भी बहुत बड़ा रोल होता है। हार्ट मसल्स के कमजोर होने के कारण शरीर के सभी अंगों में पर्याप्त मात्रा में ऑक्सीजन युक्त ब्लड की आपूर्ति नहीं हो पाती है जिसकी वजह से शरीर को कई परेशानियों से गुजरना पड़ सकता है। मुख्यतौर पर हार्ट मसल्स के कमजोर होने का कारण डायबिटीज जैसी गंभीर बीमारी, हाई ब्लड प्रेशर, कोरोनरी हार्ट डिजीज और आपका खानपान और जीवनशैली होता है। दिल की मांसपेशियों के कमजोर होने का प्रमुख कारण ये समस्याएं हैं।

Weak-Heart-Muscle-Heart-Problems

(Image Source - Freepik.com)

इसे भी पढ़ें : हार्ट के मरीज एंजियोप्लास्टी के बाद जरूर बरतें ये सावधानियां, जानें कैसे रखें अपने दिल की सेहत का खयाल

1. हाई ब्लड प्रेशर की वजह से हार्ट मसल्स का कमजोर होना।

2. डायबिटीज की समस्या में भी दिल की सेहत पर बुरा असर होता है। डायबिटीज के कारण दिल से जुड़ी कई बीमारियों का खतरा बना रहता है।

3. धमनियों (आर्टरी) के संकुचित और डैमेज होने की वजह से भी दिल की मांसपेशियों के कमजोर होने का खतरा बना रहता है। इस समस्या को मेडिकल की भाषा में एथेरोस्क्लेरोसिस भी कहा जाता है।

4 धमनियों में होने वाली गंभीर समस्या कोरोनरी आर्टरी डिजीज के कारण भी दिल के कमजोर होने का या दिल की मांसपेशियों की कमजोरी का खतरा होता है।

इसे भी पढ़ें : दिल की बीमारी की फैमिली हिस्ट्री है तो इस तरह रखें अपने हार्ट का ख्याल

5. मोटापे की समस्या के कारण भी दिल से जुड़ी गंभीर बीमारियों का सामना करना पड़ता है। मोटापे के कारण आपको दिल से जुड़ी गंभीर समस्याएं हो सकती है और यही वजह है कि मोटापे में भी दिल के कमजोर होने या दिल की मांसपेशियों के कमजोर होने का खतरा बना रहता है।

6. स्मोकिंग (धूम्रपान) के कारण भी दिल की मांसपेशियां (हार्ट मसल्स) कमजोर हो जाते हैं। स्मोकिंग दिल के लिए बहुत हानिकारक होता है, स्मोकिंग करने वाले लोगों को दिल से जुड़ी बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है।

7. कॉन्जेनिटल हार्ट डिजीज (दिल की जन्मजात बीमारी) के कारण भी हार्ट मसल्स के कमजोर होने का खतरा बना रहता है। कॉन्जेनिटल हार्ट डिजीज बचपन से ही दिल की कमजोरी का कारण होती हैं।

इसे भी पढ़ें : कितना स्वस्थ है आपका हार्ट (दिल)? जानें इन आसान तरीकों से

Weak-Heart-Muscle-Heart-Problems

(Image Source - Freepik.com)

हार्ट मसल्स के कमजोर होने के कारण होने वाली समस्याएं (Serious Heart Problems Caused By Weak Heart Muscles)

दिल की मांसपेशियों के कमजोर होने के कारण दिल की गतिविधियों पर असर पड़ता है। इस परिस्थिति में आपका दिल सही ढंग से काम नहीं कर पाता है जिसकी वजह से शरीर में कई समस्याएं होती हैं। हार्ट मसल्स की कमजोरी के कारण दिल से जुड़ी गंभीर बीमारियां भी हो सकती हैं।

1. हार्ट अटैक (Heart Attack)

दिल की मांसपेशियों के कमजोर होने के कारण हार्ट अटैक का खतरा बढ़ जाता है। दिल की मांसपेशियों यानी हार्ट मसल्स के कमजोर होने का सीधा मतलब है आपका दिल कमजोर होना। दिल की कमजोरी की स्थिति को कार्डियोमायोपैथी भी कहा जाता है। इस समस्या के कारण दिल का दौरान पड़ने की घटनाएं देखी गयी हैं।

इसे भी पढ़ें : हार्ट में क्लॉटिंग (खून के थक्के जमने) के 5 कारण, एक्सपर्ट से जानें इसके लक्षण और इलाज

2. खून के थक्कों का जमना (Blood Clotting)

दिल की मांसपेशियों के कमजोर होने के कारण आपको हार्ट में क्लॉटिंग (खून के थक्के जमने) की समस्या का सामना करना पड़ सकता है। दिल में खून के थक्के जमने की समस्या गंभीर हो सकती है और इसकी वजह से मरीज की जान जाने की नौबत भी आ सकती है। इसलिए दिल के लिए फायदेमंद और दिल को हेल्दी रखने वाले फूड्स का सेवन जरूर करना चाहिए।

Weak-Heart-Muscle-Heart-Problems

(Image Source - Freepik.com)

3. हृदय वाल्व से जुड़ी समस्याएं (Heart Valve Disease)

दिल की मांसपेशियों के कमजोर होने पर हृदय वाल्व से जुड़ी समस्याओं का खतरा बढ़ जाता है। हार्ट मसल्स की कमजोरी कई बार हार्ट वाल्व डिजीज का कारण बनती है। वाल्व से जुड़ी समस्याएं गंभीर मानी जाती हैं और समय पर इनका उपचार किया जाना चाहिए। हार्ट मसल्स की कमजोरी के कारण दिल का साइज बढ़ जाता है जिससे वाल्व के खुलने और बंद होने में दिक्कत होती है।

इसे भी पढ़ें : 'कार्डियक टैम्पोनेड' है दिल से जुड़ी गंभीर बीमारी, जानें इसके कारण, लक्षण और इलाज

4. दिल की धड़कन अनियमित होना (Irregular Heartbeat)

दिल की मांसपेशियों के कमजोर होने के कारण दिल की धड़कन भी अनियमित हो सकती है। दिल की धड़कन अनियमित होने से आपको दिल से जुड़ी अन्य समस्याएं भी हो सकती है। शरीर के ब्लड प्रेशर पर भी इसका प्रभाव पड़ता है।

5. कार्डियक अरेस्ट होने का खतरा (Risk of Cardiac Arrest)

दिल की मांसपेशियों के कमजोर होने पर आपके दिल की धड़कन अनियमित होती है। दिल की धड़कन के अनियमित होने के कारण कार्डियक अरेस्ट का खतरा बढ़ जाता है।

हार्ट मसल्स को कमजोर होने से बचाने के टिप्स (Weak Heart Muscle Prevention Tips)

हार्ट मसल्स की कमजोरी दिल से जुड़ी बीमारियों, खानपान और जीवनशैली के कारण हो सकती है। इस समस्या से बचाव के लिए आप इन बातों को अपना सकते हैं।

  • नियमित रूप से व्यायाम करें।
  • दिल के लिए फायदेमंद भोजन का सेवन।
  • वजन को नियंत्रित रखना।
  • ब्लड प्रेशर को नियंत्रित रखना
  • नियमित रूप से दिल के सेहत की जांच।

ऊपर बताई गयी बातों का पालन करने से दिल से जुड़ी कई समस्याओं से निजात मिल सकती है। आज के समय में दिल से जुड़ी गंभीर बीमारियां असंतुलित खानपान और खराब जीवनशैली के कारण हो रही हैं। दिल से जुड़ी किसी भी समस्या को नजरअंदाज नहीं किया जाना चाहिए, इसके लक्षण दिखने पर एक्सपर्ट कार्डियोलॉजिस्ट की सलाह जरूर लें।

(Main Image Source - Freepik.com)

Read More Articles on Heart Health in Hindi

Disclaimer