काम के दौरान परेशान करता है अर्थराइटिस का दर्द? जानें ऑफिस में जोड़ों के दर्द से बचने के 5 आसान उपाय

अगर आपको अर्थराइट‍िस है तो ऑफ‍िस में काम करते समय इन 5 आसान उपायों को अपनाएं तो दर्द नहीं होगा

Yashaswi Mathur
Written by: Yashaswi MathurUpdated at: Aug 17, 2021 18:07 IST
काम के दौरान परेशान करता है अर्थराइटिस का दर्द? जानें ऑफिस में जोड़ों के दर्द से बचने के 5 आसान उपाय

अर्थराइट‍िस यानी जोड़ों की बीमारी में ज्‍वॉइंट्स में दर्द और सूजन की समस्‍या होती है। अगर आप ऑफ‍िस जाते हैं तो आपकी समस्‍या बढ़ सकती है। ऑफ‍िस में अर्थराइट‍िस का दर्द कुछ आदतों के कारण बढ़ सकता है जैसे लंबे समय तक कीबोर्ड पर काम करना, लंबे समय तक अपनी पोज‍िशन न बदलना, गर्दन, कमर पर जोर देकर बैठना आद‍ि। आपको अपने बैठने के पॉश्‍चर, ऑफ‍िस में आपकी एक्‍ट‍िव‍िटी, यहां तक की ट‍िफ‍िन में भी अपनी डाइट में बदलाव करना होगा ताक‍ि आप काम के दौरान अर्थराइट‍िस के दर्द से बच सकें। इस लेख में हम ऑफ‍िस में अर्थराइटिस के दर्द से बचने के तरीकों पर चर्चा करेंगे। इस व‍िषय पर ज्‍यादा जानकारी के ल‍िए हमने लखनऊ के केयर इंस्‍टिट्यूट ऑफ लाइफ साइंसेज की एमडी फ‍िजिश‍ियन डॉ सीमा यादव से बात की।

avoid wrong position

1. बैठने की पोज‍िशन पर ध्‍यान दें (Choose right posture in office)

(image source:backcentre) 

अगर आप गलत पोज‍िशन या पॉश्‍चर में बैठने के नुकसान से वाक‍िफ‍ नहीं हैं तो आपको ऑफ‍िस में जोड़ों का दर्द सता सकता है। अर्थराइट‍िस के दर्द से बचने के ल‍िए आपको स्‍पाइन को सीधा करके बैठना चाह‍िए, गलत तरीके से बैठेंगे तो आपको दर्द हो सकता है। सीधे बैठने से स्‍पाइन सीधी रहती है और लोअर बैक पेन नहीं होता है और गर्दन पर भी दबाव नहीं पड़ता। एक ही पोज‍िशन में खड़े रहने या बैठने से बचें। आपके शरीर में ब्‍लड सर्कुलेशन बेहतर हो इसके ल‍िए जरूरी है क‍ि आप अपनी पोज‍िशन को बदलते रहें। लंबे समय तक कीबोर्ड पर टाइप करते रहने की आदत से भी बचें, बीच-बीच में ब्रेक लेते रहें और अपने हाथों को आराम दें।

इसे भी पढ़ें- अर्थराइट‍िस (जोड़ों के दर्द) में क्‍यों नुकसानदायक है मीठी चीजें खाना? जानें कैसे कम करें डाइट में शुगर

2. ऑफ‍िस में हैं तो ज्‍वॉइंट्स पर स्‍ट्रेस न दें (Avoid joint stress in office)

avoid joint stress in office

(image source:staticblog) 

आपको अर्थराइट‍िस के दौरान अपने घुटनों पर जोर नहीं देना है। सीढ़ियां चढ़ना सेहत के ल‍िए फायदेमंद माना जाता है पर आपको आपको अगर अर्थराइट‍िस का दर्द है तो सीढ़ी के बजाय ल‍िफ्ट का इस्‍तेमाल करें। इसके साथ ही वर्कप्‍लेस को अपने मुताब‍िक एडजस्‍ट करें, अगर आपकी टेबल की हाइट ज्‍यादा नीचे या ज्‍यादा ऊपर है तो आप उसे एडजस्‍ट कर सकते हैं। इससे आपके शरीर पर भार नहीं पड़ेगा। आपको अपने कीबोर्ड की पोज‍िशन भी एडजस्‍ट करनी चाह‍िए ज‍िससे आपकी गर्दन में दर्द, कंधे या बाजू में दर्द की समस्‍या न हो।

जोड़ों पर दबाव को कम करें, आपको जोड़ों में दर्द होता है तो जोड़ों पर पड़ रहा शरीर का भार आपको कम करना होगा आसान शब्‍दों में कहें तो वजन कम करें। वजन कम करने से अर्थराइट‍िस का दर्द आपको इतना नहीं सताएगा। वजन ज्‍यादा होने से सारा दबाव ह‍िप्‍स, पैर, घुटनों पर पड़ता है और दर्द होता है इसल‍िए वजन बढ़ने की समस्‍या से बचें। अगर आप पानी कम पीते हैं तो भी आपको काम के दौरान अर्थराइट‍िस का दर्द सता सकता है, आप फील्‍ड पर रहें या ऑफ‍िस में आपको हर द‍िन कम से कम 8 ग‍िलास पानी पीना चाह‍िए।

3. ऑफ‍िस में अर्थराइट‍िस के दर्द से बचने के ल‍िए पोज‍िशन बदलने रहें (Change your position to prevent arthritis pain in office)

change your position in office

(image source:greatlakesledger)

इससे फर्क नहीं पड़ता क‍ि आप क‍ितने घंटे काम कर रहे हैं पर आपको अगर अर्थराइट‍िस है तो आपके ल‍िए ब्रेक जरूरी है। लगातार एक ही पोज‍िशन में बैठे रहने से भी अर्थराइट‍िस का दर्द बढ़ सकता है इसल‍िए मूवमेंट करते रहें। अर्थराइट‍िस के दौरान मूवमेंट और आराम के बीच बैलेंस बनाना पड़ता है। अगर आप ज्‍यादा आराम करेंगे या ज्‍यादा मूवमेंट करेंगे तो अर्थराइट‍िस का दर्द बढ़ सकता है। ऑफ‍िस में अगर स्‍टैड‍िंग टेबल है तो कुछ देर बैठकर तो कुछ देर खड़े रहकर काम करें। इससे आपकी मांसपेश‍ियों में ऐंठन या दर्द की समस्‍या नहीं होगी। समय म‍िलने पर उंगल‍ियों, हाथ-पैर को स्‍ट्रेच करते रहें। अगर ब्रेक में आप बैठे रहते हैं तो उसके बजाय ऑफ‍िस का एक राउंड लगा लें।

4. ऑफ‍िस में अर्थराइट‍िस के दर्द को दूर करने के ल‍िए खाएं हेल्‍दी ट‍िफ‍िन (Healthy tiffin at office to prevent arthritis pain)

अगर आप ऑफ‍िस जाते हैं और आपको अर्थराइट‍िस का दर्द सताता है तो अपने ट‍िफ‍िन में हेल्‍दी स्‍नैक्‍स एड करें जैसे ताजे फल, सब्‍ज‍ियां या वेज रोल आद‍ि। इससे इम्‍यून‍िटी भी बढ़ेगी और जोड़ों का दर्द भी दूर होगा। ज्‍वॉइंट पेन से बचने के ल‍िए आपको अपनी डाइट में प्‍लांट बेस्‍ड फूड को एड करना चाह‍िए। ज्‍वॉइंट पेन की समस्‍या कम करने के ल‍िए आप अपने ट‍िफ‍िन या खाने में हल्‍दी म‍िलाएं। हल्‍दी में एंटी-ऑक्‍सीडेंट और एंटी-इंफ्लामेटरी गुण होते हैं ज‍िससे अर्थराइट‍िस का दर्द दूर होता है। अर्थराइट‍िस के दर्द से बचने के ल‍िए आप ऑफ‍िस के समय प्रोसेस्‍ड फूड्स से दूर रहें, आपको एडेड शुगर, सैचुरेटेड फैट की मात्रा भी कम करनी चाह‍िए। फास्‍ट फूड जैसी चीजों का सेवन करने से मोटापा, कोलेस्‍ट्रॉल, हाई बीपी, हार्ट ड‍िसीज जैसी समस्‍या बढ़ती है जो क‍ि अर्थराइट‍िस में आपकी तकलीफ और भी ज्‍यादा बढ़ा सकती है।

इसे भी पढ़ें- आंखों को कैसे प्रभावित करता है अर्थराइटिस? जानें एक्सपर्ट से 

5. ज्‍वॉइंट पेन के लि‍ए इस्‍तेमाल करें नीलगिरी का तेल (Carry eucalyptus oil in office for joint pain)

oil for pain

(image source:imimg.com) 

नीलग‍िरी के तेल से गठ‍िया रोग के दौरान होने वाले दर्द से राहत मिलती है। अगर आप ऑफ‍िस जाते हैं तो आप रोल ऑन परफ्यूम की साफ बॉटल में नीलग‍िरी का तेल भरकर रख सकते हैं और दर्द होने पर इसका इस्‍तेमाल कर सकते हैं। गठ‍िया रोग में इस्‍तेमाल होने वाली कई क्रीम या ऑयल वाली दवाओं में नीलग‍िरी का तेल इस्‍तेमाल क‍िया जाता है। नीलग‍िरी का तेल एस‍ेंश‍ियल ऑयल है इसल‍िए इसे कि‍सी कैर‍ियर ऑयल जैसे बादाम या नार‍ियल के तेल में म‍िक्‍स करके लगाएं। ज‍िस जगह दर्द हो रहा हो वहां हल्‍के हाथ से मसाज करें। मसाज करने से दर्द कम हो जाता है। दर्द से बचने या कम करने के के ल‍िए आप सरसों के तेल का इस्‍तेमाल भी कर सकते हैं। सरसों के तेल को गरम करें और उसमें लहसुन की कली डालें और पकाएं अब इस तेल को स्‍टोर कर लें और दर्द वाली जगह पर लगाएं तो दर्द ठीक हो जाएगा। ज‍िन लोगों को घुटने में दर्द होता है उनके ल‍िए ये रामबाण इलाज है।   

अगर आप अर्थराइट‍िस के मरीज हैं तो अपनी दवाओं को हमेशा अपने साथ रखें, दर्द होने पर डॉक्‍टर की सलाह पर इनका सेवन कर सकते हैं। 

(main image source:thehealthy.com)

Read more on Other Diseases in Hindi

Disclaimer