चलते समय पैरों में दर्द, झुनझुनी और सुन्नता हो सकते हैं मॉर्टन न्यूरोमा के लक्षण, जानें क्या है ये बीमारी

पैरों में लगातार झुनझुनी, सुन्नता की शिकायत होने पर तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें। यह लक्षण मॉर्टन न्यूरोमा के हो सकते हैं। जानते हैं इसके बारे में-

Kishori Mishra
Written by: Kishori MishraUpdated at: Aug 17, 2021 14:22 IST
चलते समय पैरों में दर्द, झुनझुनी और सुन्नता हो सकते हैं मॉर्टन न्यूरोमा के लक्षण, जानें क्या है ये बीमारी

मॉर्टन न्यूरोमा एक ऐसी स्थिति है, जिसमें पैरों की बॉल प्रभावित होती है। यह स्थिति मरीज के लिए काफी दर्दनाक होती है। यह समस्या अधिकतर लोगों को पैरों की तीसरी और चौथी उंगलियों के बीच होती है। लेकिन कुछ स्थितियों में दूसरी और तीसरी उंगलियों के बीच भी यह समस्या हो सकती है। मॉर्टन न्यूरोमा होने पर मरीज को महसूस होता है कि उसके पैरों के जूतों में कंकड़ हो, जो तलवों में काफी ज्यादा चुभ रहा हो। इस स्थिति में आपको ऐसा भी लग सकता है, जैसे आपके पैरों के मौजे मुड़ गए हों, जिससे आपके तलवों को परेशानी महसूस हो रही हो। 

इस बारे में नोएडा स्थित मानस हॉस्पिटल के डॉक्टर सचिन भामू बताते हैं कि मॉर्टन न्यूरोमा मरीज को तब होता है, जब उसके पैरों की उंगलियों के नसों के आसपास की ऊतकें बड़ी या मोटी हो जाती हैं। इसके कारण मरीज को तलवों में जलन और दर्द महसूस होता है। साथ ही इसकी वजह से आपके पैर काफी ज्यादा सुन्न हो सकते हैं। यह समस्या हाई हील पहनने वालों को सबसे ज्यादा होती है। पुरुषों की तुलना में महिलाओं को यह समस्या ज्यादा होती है। चलिए जानते हैं इसके बारे में विस्तार से-

मॉर्टन न्यूरोमा के कारण (Causes of Morton's Neuroma)

डॉक्टर बताते हैं कि मॉर्टन न्यूरोमा की समस्या अक्सर उन लोगों को ज्यादा होती है, जो ज्यादा कसे हुए और हाई हील के जूते और सैंडल पहनते हैं। इन जूतों और सैंडल से आपके पैरों की नसें प्रभावित होती हैं। नसों पर दबाव के कारम यह मोटी होने लगती हैं, जिसके कारण धीरे-धीरे मॉर्टन न्यूरोमा की शिकायत हो सकती है। इसके अलावा कुछ अन्य कारण हो सकते हैं जैसे-

  • पैरों की उंगलियों के बीच ज्यादा ऊंची जगह होना।
  • पैर का सपाट होना।
  • पैरों की हड्डियां बढ़ना।
  • हैमर टो की शिकायत होना।
  • पैरों में चोट लगना, इत्यादि।

मॉर्टन न्यूरोमा के लक्षण (Symptoms of Morton's Neuroma )

  • समस्या बढ़ने पर पैरों में बार-बार झुनझुनी महसूस हो सकती है। 
  • पैरों की तीसरी और चौथी उंगली में काफी ज्यादा दर्द महसूस हो सकता है। लेकिन यह दर्द आपको रूक-रूक कर हो सकता है। 
  • जूते पहनने पर कंकड़ चुभने जैसा महसूस होना।
  • चप्पल, जूते पहनने पर बेचैनी महसूस होना।
  • चलने में कठिनाई होना।
  • पैरों में लालिमा और सुई जैसा चुभना।
  • तलवों में सेंसेशन होना।
  • इस तरह के लक्षण दिखने पर अपने डॉक्टर से संपर्क करें। 

मॉर्टन न्यूरोमा का निदान (Morton's Neuroma Diagnosis )

मॉर्टन न्यूरोमा की शिकायत होने पर तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें। जब आप डॉक्टर के पास जाएंगे, तो वह कुछ जरूरी सवाल आपके कर सकते हैं। जैसे-

कब से दर्द हो रहा है? दर्द कितनी तेज हो रही है? किस समय ज्यादा दर्द होता है? इसके अलावा डॉक्टर आपसे पूछ सकते हैं कि आप किस तरह के जूते या चप्पल पहनते हैं। अगर आपको को किसी तरह का संदेह महसूस होगा, तो वह आपसे कुछ निम्न टेस्ट करवाने की सलाह दे सकते हैं। जैसे-

इसे भी पढ़ें - मस्तिष्क (ब्रेन) में सूजन के लक्षण, कारण और इलाज

पैंरों की एक्स रे - पैरों में फ्रैक्चर, चोट या फिर किसी अन्य तरह की समस्या का पता लगाने के लिए डॉक्टर आपको एक्स-रे करने की सलाह दे सकते हैं। 

अल्ट्रासाउंड - पैरों की सटीक समस्या जानने के लिए अल्ट्रासाउंट करवा सकते हैं। 

एमआरआई - एक्सरे और अल्ट्रासाउंट से सही जानकारी न मिलने पर डॉक्टर आपसे एमआरआई करवाने के लिए कह सकते हैं। 

रेंज ऑफ मोशन टेस्ट - इसके अलावा डॉक्टर आपके पैरों के मॉशन की जांच भी कर सकते हैं। 

मॉर्टन न्यूरोमा का इलाज (Morton's Neuroma Treatment)

इंजेक्शन

अगर आपके पैरों में लगातार दर्द की समस्या हो रही है, तो डॉक्टर इंजेक्शन के जरिए एंटी-इंफ्लेमेटरी की दवा दे सकते हैं। इससे पैरों में प्रभावित नसों की सूजन को कम करने की कोशिश की जाती है। साथ ही दर्द को अस्थायी रूप से कम किया जाता है।

सर्जरी

समस्या ज्यादा बढ़ने पर डॉक्टर आपको सर्जरी की सलाह दे सकते हैं। जिसमें निम्न सर्जिकल विकल्प अपना सकते हैं। जैसे-

  • न्यूरेक्टॉमी सर्जरी (प्रभावित नस के ऊतकों को हटा देना।)
  • क्रायोजेनिक सर्जरी
  • डींकप्रेशन 

मॉर्टन न्यूरोमा के लक्षण दिखने पर तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें। इस समस्या का इलाज किया जा सकता है। इसके अलावा हाई हील जूते पहनने से बचें, ताकि आपको यह समस्या न हो।

Image Credit - Pixabay

Read More Articles on Other-diseases in Hindi

Disclaimer