मेनोपॉज के दौरान क्यों होती है वजाइना में ड्रायनेस (योनि में रूखापन)? जानें कारण और 7 घरेलू उपाय

हार्मोनल बदलाव के कारण मेनोपॉज के दौरान मह‍िलाओं में वजाइनल ड्रायनेस की समस्‍या होती है, इसे ठीक करने के ल‍िए आप आसान घरेलू नुस्‍खे अपना सकते हैं 

Yashaswi Mathur
Written by: Yashaswi MathurUpdated at: Aug 06, 2021 04:45 IST
मेनोपॉज के दौरान क्यों होती है वजाइना में ड्रायनेस (योनि में रूखापन)? जानें कारण और 7 घरेलू उपाय

मेनोपॉज के दौरान वजाइनल ड्रायनेस होना वैसे तो एक आम समस्‍या है और क‍िसी भी महि‍ला के शरीर में हो सकती है पर इससे आपकी रोजमर्रा की ज‍िंदगी पर असर पड़ता है। वजाइनल ड्रायनेस होने पर चलने, उठने या कोई भी काम करने पर आपको वजाइनल एर‍िया में दर्द हो सकता है, ड्रायनेस से बढ़ने से यूर‍िन पास करने में भी कठ‍िनाई हो सकती है। वजाइनल एर‍िया ज्‍यादा ड्राय हो जाता है ज‍िसके कारण खुजली की समस्‍या भी होती है। अगर आपको ज्‍यादा परेशानी हो रही है तो डॉक्‍टर के पास जाएं, डॉक्‍टर पेल्‍व‍िक एग्‍जाम‍िन करके आपको वजाइनल ड्रायनेस का इलाज बताएंगे। कुछ घरेलू नुस्‍खों की मदद से भी आप वजाइनल ड्रायनेस की समस्‍या से बच सकते हैं। इस लेख में हम मेनोपॉज के दौरान वजाइनल ड्रायनेस से बचने के आसान घरेलू उपायों पर चर्चा करेंगे। इस व‍िषय पर ज्‍यादा जानकारी के ल‍िए हमने लखनऊ के केयर इंस्‍टिट्यूट ऑफ लाइफ साइंसेज की एमडी फ‍िजिश‍ियन डॉ सीमा यादव से बात की। 

 vaginal dryness causes

मेनोपॉज के दौरान वजाइनल ड्रायनेस के क्‍या कारण हैं? (Causes of vaginal dryness during menopause)

मेनोपॉज के दौरान एस्‍ट्रोजन हार्मोन का स्‍तर घटता है ज‍िसके कारण वजाइनल ड्रायरेस की समस्‍या हो जाती है। मेनोपॉज के दौरान हार्मोन में बदलाव होता है ज‍िसका असर वजाइनल फ्लूड पर पड़ता है और त्‍वचा ज्‍यादा रूखी हो जाती है। वजाइनल ड्रायनेस होने पर आपको वजाइनल एर‍िया में खुजली की समस्‍या हो सकती है, बार-बार यूर‍िन करने जाना पड़ सकता है, यूटीआई की समस्‍या हो सकती है। चेहरे पर लगाने वाले मॉइश्‍चराइजर को आप प्राइवेट पार्ट की ड्रायनेस दूर करने के ल‍िए इस्‍तेमाल न करें, इससे त्‍वचा में जलन की समस्‍या हो सकती है क्‍योंक‍ि मॉइश्‍चराइजर में कई कैम‍िकल होते हैं और वजाइनल त्‍वचा सेंस‍िट‍िव होती है। आपको डॉक्‍टर से पूछे ब‍िना प्राइवेट पार्ट में कोई भी क्रीम एप्‍लाई करने से बचना चाह‍िए। वजाइनल ड्रायनेस से बचने के लि‍ए आपको खुशबू वाले साबुन का इस्‍तेमाल प्राइवेट पार्ट पर नहीं करना चाह‍िए। 

इसे भी पढ़ें- उम्र के साथ कैसे बदलती है फर्टिलिटी (बच्चे पैदा करने की क्षमता)? जानें क्या है मां बनने की सही उम्र?

मेनोपॉज के दौरान वजाइनल ड्रायनेस दूर करने के घरेलू उपाय (Home remedies to cure vaginal dryness during menopause)

1. मेनोपॉज के दौरान वजाइनल ड्रायनेस दूर करने के ल‍िए कच्‍चे दूध का इस्‍तेमाल करें (Raw milk)

मेनोपॉज के दौरान वजाइनल एर‍िया बहुत ज्‍यादा ड्राय हो जाता है, ये समस्‍या दूर करने के ल‍िए आप कच्‍चे दूध का इस्‍तेमाल कर सकते हैं। कच्‍चे दूध को रूई पर लगाकर सुबह शाम वजाइनल एर‍िया पर लगाएं इससे त्‍वचा कोमल रहेगी और रूखेपन का अहसास नहीं होगा। कच्‍चे दूध के अलावा त्‍वचा को मुलायम रखने के ल‍िए आप वजाइनल एर‍िया में ऑल‍िव ऑयल भी लगा सकते हैं, तेल लगाने के बाद एर‍िया को अच्‍छी तरह से साफ करना न भूलें। आप कच्‍चे दूध में हल्‍दी भी म‍िलाकर लगा सकते हैं। 

2. मेनोपॉज के दौरान वजाइनल ड्रायनेस दूर करने के ल‍िए कैमोमाइल टी प‍िएं (Chamomile tea) 

chamomile tea

कैमोमाइल एक हर्बल टी है ज‍िसे बनाने का तरीका बेहद आसान है। कैमोमाइल टी बनाने के ल‍िए कैमोमाइल फूलों को पानी में उबालें और जब पानी उबल जाए तो उसे ग‍िलास में छानें और प‍िएं। कैमोमाइल टी से फायदे की बात करें तो इस चाय को पीने से वजाइनल ड्रायनेस की समस्‍या तो दूर होती ही है साथ ही पीर‍ियड्स के दौरान होने वाले दर्द से भी राहत म‍िलती है। अगर वजाइनल एर‍िया में सूजन है तो भी आप कैमोमाइल टी के सेवन से सूजन दूर सकते हैं। 

 3. मेनोपॉज के दौरान वजाइनल ड्रायनेस दूर करने के ल‍िए इस्‍तेमाल करें शहद (Honey)

honey for dryness

शहद के इस्‍तेमाल से भी वजाइनल ड्रायनेस की समस्‍या दूर होती है। पानी को गरम करें और उसमें शहद म‍िलाएं और उस पानी से प्राइवेट पार्ट साफ करें। वजाइनल एर‍िया पर शहद का पानी लगाने से पहले उस ह‍िस्‍से को अच्‍छी तरह वॉश करके क्‍लीन कर लें। इस स्‍टेप को द‍िन में दो से तीन बार दोहरा सकते हैं। शहद को आप गुनगुने नींबू पानी में म‍िलाकर प‍िएंगी तो भी फायेदमंद होगा। शहद में हील‍िंग प्रॉपर्टीज होती हैं, इससे इंफेक्‍शन भी दूर होता है इसलि‍ए शहद के फायदे अनेक हैं। 

4. मेनोपॉज के दौरान वजाइनल ड्रायनेस दूर करने के ल‍िए फ्लैक्‍स सीड्स का इस्‍तेमाल करें (Flax seeds)

flax seeds for dryness

फ्लैक्‍स सीड्स के इस्‍तेमाल से मेनोपॉज के दौरान वजाइनल ड्रायनेस से छुटकारा म‍िलता है। आप अलसी के बीजों को चबाकर खा सकते हैं या सुबह खाली पेट गुनगुने पानी के साथ ले सकते हैं। इसके अलावा अलसी के बीजों को पीसकर उसका पेस्‍ट वजाइना के बाहरी ह‍िस्‍से में लगाकर छोड़ दें फि‍र 15 म‍िनट बाद प्राइवेट पार्ट को क्‍लीन कर लें, इस उपाय से वजाइनल ड्रायनेस से छुटकारा म‍िलेगा। 

5. मेनोपॉज के दौरान वजाइनल ड्रायनेस दूर करने के ल‍िए इस्‍तेमाल करें सोय म‍िल्‍क (Soy milk)

सोय म‍िल्‍क से भी मेनोपॉज के दौरान वजाइनल ड्रायनेस की समस्‍या दूर होती है। सोय म‍िल्‍क को आप रोज सुबह खाली पेट प‍िएं। इस उपाय को कुछ द‍िन करने से ही आपको फर्क महसूस होगा। सोय का सेवन करने से शरीर का पीएच बैलेंस मेनटेन होता है ज‍िससे मेनोपॉज के दौरान वजाइनल ड्रायनेस की समस्‍या दूर होती है। वजाइनल ड्रायनेस होने पर डॉक्‍टर से पूछे ब‍िना कोई भी दवा खाने से बचें। 

6. मेनोपॉज के दौरान वजाइनल ड्रायनेस दूर के लि‍ए इस्‍तेमाल करें टी ट्री ऑयल (Tea tree oil)

tea tree oil for dryness

टी ट्री ऑयल से मेनोपॉज के दौरान होने वाली वजाइनल ड्रायनेस से छुटकारा म‍िलता है। वजाइना में फंगल इंफेक्‍शन होने पर भी आप टी ट्री ऑयल का इस्‍तेमाल कर सकते हैं। एक बाउल में टी ट्री ऑयल और कोकोनट ऑयल को म‍िक्‍स करें, अब दोनों ऑयल को अच्‍छी तरह म‍िक्‍स होने के लि‍ए छोड़ दें। अब कॉटन बॉल की मदद से प्राइवेट पार्ट में ऑयल को लगा लें। इस उपाय को आप द‍िन में दो बार दोहरा सकते हैं। 

इसे भी पढ़ें- कई कारणों से होता है वजाइना के आसपास कालापन, जानें इसे दूर करने के नैचुरल तरीके

7. मेनोपॉज के दौरान वजाइनल ड्रायनेस दूर करने के ल‍िए व‍िटाम‍िन ई ऑयल का इस्‍तेमाल करें (Vitamin E oil)

मेनोपॉज के दौरान वजाइनल ड्रायनेस और खुजली की समस्‍या दूर करने के ल‍िए आप व‍िटाम‍िन ई ऑयल का इस्‍तेमाल कर सकते हैं। व‍िटाम‍िन ई ऑयल से खुजली, त्‍वचा में रूखेपन की समस्‍या दूर होती है। आपको व‍िटाम‍िन ई ऑयल में नार‍ियल का तेल म‍िलाकर वजाइनल एर‍िया में लगाना है और आधे घंटे बाद उस ह‍िस्‍से को साफ कर लें। इससे वजाइना की रूखी त्‍वचा कोमल हो जाएगी। आप इस नुस्‍खे को द‍िन में 2 बार इस्‍तेमाल कर सकते हैं। 

अगर मेनोपॉज के दौरान वजाइनल ड्रायनेस के साथ ब्‍लीड‍िंग की समस्‍या होती है तो तुरंत डॉक्‍टर से संपर्क करें। 

Read more on Women Health in Hindi 

Disclaimer