कैसे दूर करें करेले का कड़वापन? एक्सपर्ट से जानें करेले की 5 हेल्दी और स्वादिष्ट रेसिपीज

करेले का कड़वा स्‍वाद हटाकर आप उससे टेस्‍टी और हेल्‍दी रेस‍िपीज बना सकते हैं। चाहे लंच हो या स्‍नैक्‍स करेले से कई रेस‍िपीज तैयार क‍ी जा सकती हैं। 

Yashaswi Mathur
Written by: Yashaswi MathurPublished at: Feb 08, 2021
कैसे दूर करें करेले का कड़वापन? एक्सपर्ट से जानें करेले की 5 हेल्दी और स्वादिष्ट रेसिपीज

क्‍या आपको भी करेले का स्‍वाद नहीं भाता? ऐसा है तो आज हम आपको बताएंगे करेले का कड़वापन दूर करने के उपाय। हम सब जानते हैं क‍ि करेला हमारी बॉडी को हेल्‍दी रखने में मदद करता है पर उसके कड़वे स्‍वाद के चलते हम उसे नहीं खा पाते। करेले में जिंक, आयरन, बीटाकैरोटीन, पोटेश‍ियम, मैग्‍निश‍ियम, लूटीन जैसे पोषक तत्‍व पाए जाते हैं। इससे शरीर की कई बीमार‍ियां दूर होती हैं। करेले में व‍िटाम‍िन सी और ए पाया जाता है। इससे आंखें भी स्‍वस्‍थ्‍य रहती हैं। आज हम आपको करेले से बनने वाली 5 हेल्‍दी रेस‍िपीज के बारे में भी बताएंगे ज‍िसे आप आसानी से घर पर बना सकते हैं। इस पर ज्‍यादा जानकारी के ल‍िए हमने The Nutriwise Clinic, लखनऊ की न्‍यूट्रि‍शन‍िस्‍ट नेहा सिन्‍हा से बात की। 

bitterness of karela

करेले का कड़वापन कैसे दूर करें? (How to remove bitter taste of karela)

  • 1. करेले का कड़वापन दूर करना हो तो उसे काटकर नमक के पानी में डालें और न‍िचोड़कर पानी अलग कर दें। इससे कड़वा स्‍वाद हट जाएगा। 
  • 2. करेले को 30 म‍िनट के ल‍िए मैर‍िनेट कर लें उसके बाद पकाएं तो स्‍वाद अच्‍छा लगेगा। 
  • 3. करेला का कड़वापन हटाने के ल‍िए करेले के टुकड़ों को दही में 1 घंटे भ‍िगोकर रखें। इसके बाद साफ करके पका लें। 
  • 4. करेला का कड़वा स्‍वाद उसके बीजों में होता है। बीजों को न‍िकालकर अलग कर दें। इससे स्‍वाद सुधर जाएगा। 
  • 5. करेले का कड़वापन दूर करना हो तो उसमें चीनी या गुड़ भी म‍िला सकते हैं। 
  • 6. करेले का कड़वापन हटाने के ल‍िए करेले को डीप फ्राई कर लें। इससे कड़वा स्‍वाद ब‍िल्‍कुल हट जाएगा। 

क‍िन बीमार‍ियों में फायदेमंद है करेला? (Benefits of bitter gourd)

करेले के स्‍वाद पर न जाएं तो ये हमारी सेहत के ल‍िए बहुत फायदेमंद होता है। इसमें फास्‍फोरस की अच्‍छी मात्रा पाई जाती है। जि‍न लोगों को कब्‍ज की श‍िकायत रहती है वो इसे खाएं तो पाचन तंत्र अच्‍छा रहेगा। करेला खाने से पेट में गैस भी नहीं बनती। बच्‍चों को भी करेला खि‍लाना चाह‍िए क्‍योंक‍ि करेला खाने से भूख लगती है। अस्‍थमा के मरीज़ों को भी करेला फायेदा करता है। करेला खाने से लीवर की समस्‍या दूर होती है। ज‍िन लोगों को पील‍िया है उन्‍हें भी करेला खाना चाहि‍ए।  गठ‍िया रोग‍ियों को करेले के जूस का सेवन करना चाहि‍ए। दर्द में आराम‍ म‍िलेगा। करेला खाने से रोग प्रत‍िरोधक क्षमता बढ़ती है और आप जल्‍दी-जल्‍दी बीमार नहीं पड़ते। डायबिटीज में खासकर करेला खाने के ल‍िए कहा जाता है। क‍िडनी और द‍िल के मरीज़ों को भी करेला खाना चाह‍िए। इससे द‍िल की धमन‍ियों में फैट नहीं जमा होगा और इससे क‍िडनी एक्‍ट‍िव रहेगी ज‍िससे हान‍िकारक तत्‍व शरीर से बाहर निकल जाएंगे। 

1. करेला थेपला (Karela thepla recipe)

सामग्री 

  • होल ग्रेन आटा 
  • तेल 
  • लहसुन 
  • हल्‍दी 
  • नमक 
  • लाल म‍िर्च पाउडर 
  • धन‍िया 

व‍िध‍ि 

  • 1. थेपले बनाने के ल‍िए करेले और लहसुन को म‍िक्‍सी में पीस लें।
  • 2. सूखे आटे में सारे मसाले और प‍िसा हुआ लहसुन और करेला डालें। 
  • 3. आटे और पानी को डालकर गूंथ लें। 
  • 4. आटे से गोल थेपले बनाएं। 
  • 5. नॉन स्‍ट‍िक पैन पर ब्राउन होने तक सेकें। 
  • 6. थेपले पर तेल लगाकर सर्व करें। 

2. करेले की सब्‍जी (Healthy karela sabzi)

karela sabzi recipe

सामग्री 

  • करेले 
  • प्‍याज 
  • हरी म‍िर्च 
  • लहसुन  
  • तेल 
  • राई 
  • जीरा 

व‍िध‍ि 

  • 1. करेले की सब्‍जी बनाने के ल‍िए करेले को धोकर छील लें। 
  • 2. करेले को गोल काटकर उसके बीज अलग कर दें। 
  • 3. करेले को हाथ से दबाकर न‍िचोड़ लें तो करेले का कड़वापन न‍िकल जाएगा। 
  • 4. प्‍याज, लहसुन और हरी म‍िर्च काटकर रख लें। 
  • 5. कढ़ाई में थोड़ा तेल डालें। उसमें राई, जीरा और लहसुन डालें। 
  • 6. इसमें कटे हुए प्‍याज, हरी म‍िर्च को डालकर भूनें। 
  • 7. भूनने के बाद उसमें करेले को डाल दें और पकने दें। 
  • 8. सारे मसाले डालकर पकाएं। 
  • 9. सब्‍जी तैयार है, रोटी के साथ सर्व करें। 

3. करेला चिप्स (Karela chips recipe)

healthy karela chips

सामग्री 

  • करेले 
  • धन‍िया 
  • नमक 
  • हल्‍दी 
  • लाल म‍िर्च पाउडर 
  • अमचूर पाउडर 
  • कॉर्न फ्लोर 
  • चावल का आटा 
  • बेसन

विधि

  • 1. करेले के पतले स्‍लाइस काट लें। 
  • 2. बर्तन में नमक घोलें और स्‍लाइस को डाल दें। आधे घंटे तक छोड़ दें। 
  • 3. करेले के टुकड़ों को हाथ से दबाकर पानी न‍िकाल दें। 
  • 4. करेले में सारे मसाले और आटा मिलाएं। 
  • 5. च‍िप्‍स को प्री-हीट क‍िए हुए ओवन में रख कर बेक करें। 
  • 6. जि‍न लोगों को तेल से परहेज नहीं है वो फ्राई भी कर सकते हैं। 
  • 7. आधे घंटे बाद च‍िप्‍स को न‍िकालकर नाश्‍ते में सर्व करें। 

इसे भी पढ़ें- बेकार नहीं है करेले का बीज, डायबिटीज के मरीज जानें करेले के बीज के 5 फायदे और इस्तेमाल का तरीका

4 करेला जूस (Benefits of bitter gourd juice)

karela juice is healthy

करेले के जूस के कई फायदे हैं और आप इसे अपनी समस्‍या के मुताब‍िक अलग-अलग तरीके से बना सकते हैं। करेले के जूस को खाली पेट पीने से शुगर कंट्रोल रहती है। इसमें म‍िले नींबू के रस से सोराइस‍िस की परेशानी भी दूर होती है। अगर आप जूस में सोंठ और पानी म‍िलाकर बनाएं तो सूजन ठीक होती है। ज‍िन लोगों को पथरी की समस्‍या है वो करेले के जूस में छाछ मि‍लाकर भी पी सकते हैं। कब्‍ज की श‍िकायत के ल‍िए आप जूस में आंवला पाउडर म‍िलाकर पीएं तो समस्‍या दूर होगी। 

सामग्री 

  • करेला 
  • नींबू का रस 
  • म‍िंट 

व‍िध‍ि 

  • 1. करेले को काटकर म‍िक्‍सी में चलाएं। 
  • 2. उसके पल्‍प को छानकर ग‍िलास में बचा हुआ पानी न‍िकालें। 
  • 3. उसमें नींबू का रस और म‍िंट की पत्‍त‍ियां डालकर म‍िलाएं। 
  • 4. जूस तैयार है, आप इसमें काला नमक भी डाल सकते हैं। 

इसे भी पढ़ें- प्रेगनेंसी में महिलाओं को क्‍यों नहीं खाने चाहिए करेले? जानें क्‍या हैं प्रेगनेंसी में करेले खाने के नुकसान

5 करेला मुठिया (Bitter gourd dumplings) 

सामग्री 

  • 1 कप चॉप्‍ड करेला 
  • होल ग्रेन आटा 
  • बेसन 
  • हल्‍दी 
  • लालम‍िर्च पाउडर 
  • धन‍िया पाउडर 
  • हींग 
  • चीनी 
  • नींबू का रस 
  • तेल 
  • नमक 

व‍िध‍ि 

  • 1. एक बाउल में सभी सामग्री को अच्‍छी तरह म‍िला दें। 
  • 2. इसके बाद उसे आटे की तरह अच्‍छी तरह माड़ लें। 
  • 3. इसमें पानी न डालें। बिना पानी के डो तैयार करें। 
  • 4. अगर डो गीली होगी तो मुठ‍िया क्र‍िस्‍प नहीं बनेगी। 
  • 5. कढ़ाई में तेल गरम करें। 
  • 6. म‍िश्रण की मुठ‍िया बनाकर डी फ्राय करें। 
  • 7. हरी चटनी के साथ सर्व करें। 

इन आसान रेस‍िपीज को आप घर पर ट्राय कर सकते हैं पर इन्‍हें हेल्‍दी रखने के लि‍ए तेल और नमक का इस्‍तेमाल कम से कम करें। 

Read more on Healthy Diet in Hindi 

Disclaimer