जब पति-पत्नी का स्वभाव हो अलग तो इन 6 तरीकों से बैठाएं रिश्ते में ताल-मेल

दांपत्य जीवन में पति-पत्नी के स्वभाव अलग हो सकते हैं और राय भी, ऐसे में मनमुटाव होना स्वभाविक है। कुछ तरीकों से रिश्ते को मजबूत बनाया जा सकता है।

Garima Garg
Written by: Garima GargPublished at: Oct 11, 2021
जब पति-पत्नी का स्वभाव हो अलग तो इन 6 तरीकों से बैठाएं रिश्ते में ताल-मेल

दांपत्य जीवन में पति-पत्नी की अलग सोच रिश्ते को कमजोर कर सकती हैं। जब पति पत्नी के विचार एक दूसरे से नहीं मिलते तो लड़ाई या टकराव होना स्वभाविक है। हर किसी व्यक्ति का स्वभाव अलग-अलग होता है और अगर दो अलग स्वभाव के व्यक्ति एक रिश्ते में बंध जाएं तो ऐसे में समझदारी से काम लेना जरूरी है। लेकिन कभी-कभी गलत फैसले लेने से रिश्ते में गलतफहमी बढ़ती चली जाती है और रिश्ता टूटने लगता है। ऐसे में समय रहते रिश्ते को बचाना जरूरी है। बता दें कि कुछ तरीके रिश्ते में खुशहाली और प्यार दोनों ला सकते हैं। आज का हमारा लेख उन्हीं तरीकों पर है। आज हम आपको अपने इस लेख के माध्यम से बताएंगे जी जो अलग-अलग स्वभाव के व्यक्ति एक दूसरे के साथ तालमेल बैठाने के लिए किन तरीकों को अपना सकते हैं। पढ़ते हैं आगे...

1 - अपनाएं बीच का रास्ता

अगर आपकी अपने पार्टनर के साथ कई मसलों पर सहमति नहीं होती हैं तो ऐसे में लड़ाई करने के बजाए कोई ऐसा रास्ता निकालें, जिससे आपका और आपके पार्टनर का दोनों की बात का मान रह जाए। उदाहरण के तौर पर यदि आपका मन बाहर घूमने का कर रहा है लेकिन आपका पार्टनर काफी थका हुआ है तो ऐसे में आप अपने साथी के साथ समय बिताने के लिए बालकनी या छत पर वॉक कर सकते हैं। इससे आपका घूमना भी हो जाएगा और आप अपने घर पर ही रहेंगे।

2 - एक दूसरों को दें पर्सनल स्पेस

हर व्यक्ति की अपनी पसंद अपनी इच्छा होती है। ऐसे में अपने पार्टनर पर उस इच्छा को ठोकना गलत बात है। अपने पार्टनर को पर्सनल स्पेस से दें। यदि वह आपकी किसी फैसले पर सहमत नहीं है तो उससे जिद्द करने के बजाय आप थोड़े से समय दें और सोचने का मौका भी दें। हो सकता है कि ऐसा करने से आपका पार्टनर आपकी बात पर सहमति प्रकट करे। और अगर ना भी सहमत हो तो हो सकता है कि सोचने से कोई और रास्ता निकल जाए।

इसे भी पढ़ें- शादी के बाद महिलाओं के शरीर, रूप, रंग में दिख सकते हैं ये 6 बदलाव, डॉक्टर से जानें इनका कारण

3 - दोनों को समझें एक समान

दांपत्य जीवन में यदि कोई एक पार्टनर खुद को दूसरे पार्टनर से बड़ा समझे या महान समझे तो ऐसा करने से भी मनमुटाव हो सकता है। क्योंकि आप एक अच्छी जगह नौकरी करते हैं या आपकी सैलरी आपके पार्टनर से ज्यादा है तो इसका मतलब ये बिल्कुल नहीं है कि आप अपने पार्टनर की बात नहीं सुनेंगे या उस पर अपनी मनमानी करेंगे। ऐसा करने से लड़ाई और मनमुटाव ज्यादा बढ़ सकता है। हमेशा दांपत्य जीवन में एक दूसरे को सामान समझे और दोनों के फैसले को महत्व दें।

4 - एक-दूसरे से करें बातचीत

एक दूसरे से मन ना मिलने के कारण या अलग स्वभाव होने के कारण दांपत्य जीवन में लड़ाई होना संभावित है। ऐसे में यदि एक दूसरे से बातचीत बंद कर दें तो इससे और भी दिक्कत बढ़ सकती है। हो सकता है कि किसी टॉपिक पर या परिस्थिति पर आप दोनों के विचार एक दूसरे से नहीं मिल रहे हैं लेकिन ऐसे में लड़ाई होने पर एक दूसरे से बातचीत करना गलत है। वरना इससे परिस्थिति और खराब हो सकती है और रिश्ता कमजोर हो सकता है।

5 - कभी ना बदलें अपने पार्टनर का स्वभाव

दांपत्य जीवन में एक दूसरे से प्यार करने के साथ-साथ उसकी इज्जत करना भी बेहद जरूरी है। ऐसे में यदि आपको पता है कि आपके पार्टनर का स्वभाव अलग है या उसके कुछ फैसले आपको पसंद नहीं हैं तो उसका मतलब यह बिल्कुल नहीं है कि आप अपने पार्टनर के स्वभाव को बदलें। ऐसा करने से आपके पार्टनर को लग सकता है कि आप उससे प्यार नहीं करते और आप को उनके कारण शर्मिंदगी होती है। ऐसे मैं अपने पार्टनर का स्वभाव बदलने के बजाय आप अपने पार्टनर को अपनी परेशानी के बारे में बताएं और एक दूसरे से बातचीत करें।

इसे भी पढ़ें- बच्चे होने के बाद पति-पत्नी में इन 6 बदलावों के कारण आ सकती है दूरी, एक्सपर्ट से जानें इसे कम करने के तरीके

6 - किसी तीसरे को कभी ना लाएं रिश्ते में

पति-पत्नी के बीच में छोटे-मोटे बातचीत पर असहमति होना एक आम बात है। ऐसे में रिश्ता और मजबूत वह इंटरेस्टिंग बनता है। लेकिन यदि आप दोनों के बीच में कोई भी दिक्कत आ रही है तो किसी तीसरे को बीच में ना लाएं। खुद उस मामले को सुलझाने की कोशिश करें। क्योंकि किसी तीसरे के आने से हो सकता है कि आपका पार्टनर आपसे और गुस्सा हो जाए। ऐसे में अपने बीच की बात किसी को भी ना बताएं। वरना इससे आपके रिश्ते की डोर कमजोर हो सकती है। जो भी निर्णय है या भी मसला है उसे आपस में सुलझाने की कोशिश करें। साथ ही एक दूसरे से बातचीत बंद ना करें।

नोट - ऊपर बताए गए बिंदुओं से पता चलता है कि पति-पत्नी के जीवन में छोटी-मोटी लड़ाई होती रहती है। ऐसा इशलिए क्योंकि दोनों का स्वभाव अलग होता है और दोनों की राय भी एक दूसरे से अलग हो सकती है। लेकिन थोड़ी सी समझदारी और आपसी सहमति के चलते लोग अपने रिश्ते को और मजबूत बना सकते हैं।

इस लेख में फोटोज़ Freepik से ली गई हैं।

Disclaimer