लाइफ से जुड़ी ये 5 चीजें रिश्‍तों से भी ज्‍यादा हैं कीमती!

हम आपको लाइफ से जुड़ी ऐसी चीजों के बारे में बताने जा रहे हैं जो आपके लिए आपके रिश्‍तों से भी ज्‍यादा कीमती हैं। अगर ये चीजें न हों तो सारे रिश्‍ते-नाते भी आपके लिए कोई मतलब के नहीं है।

Atul Modi
Written by: Atul ModiPublished at: Jul 14, 2017
लाइफ से जुड़ी ये 5 चीजें रिश्‍तों से भी ज्‍यादा हैं कीमती!

हर किसी की लाइफ में कुछ चीजें बहुत मायने रखती हैं। वह कोई व्‍यक्ति हो सकता है या फिर उसका शौक। लेकिन आज हम आपको लाइफ से जुड़ी ऐसी चीजों के बारे में बताने जा रहे हैं जो आपके लिए आपके रिश्‍तों से भी ज्‍यादा कीमती हैं। अगर ये चीजें न हों तो सारे रिश्‍ते-नाते भी आपके लिए कोई मतलब के नहीं है। तो चलिए आज हम आपको इस लेख के माध्‍यम से बता रहे हैं कि लाइफ से जुड़ी उन 5 चीजों को कैसे व्‍यवस्थित रखना है।

अंधेपन से छुटकारा दिला सकता है केले का ऐसा सेवन

sfds

स्वास्थ्य

अगर आप ये सोते हैं कि अपने स्वास्थ्य से समझौता करके अच्छा कर रहे हैं तो जरा एक बार फिर सोच लीजिए। यह कोई चैंकाने वाला तथ्य नहीं है। वर्तमान समय में हम काम के ऊपर किसी को नहीं रखते। खुद को भी नहीं। अपने स्वास्थ्य को भी नहीं। जबकि यह सरासर गलत है। जरा सोचिए जब हमें जिंदगी एक बार मिलती है तो फिर हम क्यों इसे अपनी लापरवाही से गवाएं? स्वास्थ्य के लिए न सिर्फ डाइट प्लान सही रखना चाहिए वरन एक्सरसाइज भी करते रहना चाहिए। साथ ही समय समय पर खुद को एक लम्बी छुट्टी में भी भेजना चाहिए ताकि मानसिक राहत मिल सके।

करिअर

करिअर ही हमारा आने वाला कल तय करता है। हमारा भविष्य उज्वल होगा या घोर अंधकार में जाएगा, ये सब करिअर से ही सुनिश्चित होता है। इसलिए करिअर चुनते वक्त कतई समझौता न करें। किसी और की न सुनें। यहां यह नहीं कहा जा रहा कि हमेशा कठोर बने रहें और दूसरों को दरकिनार करें। करिअर चयन के समय अनुभवियों को सुनें, उन्हें समझें। यह एक बेहद संवेदनशील मुद्दा होता है। इसमें ज़रा भी लापरवाही खतरनाक साबित हो सकती है। अतः इसमें किसी प्रकार का समझौता करने से पहले एक या दो दफा नहीं बल्कि कम से कम पांच दफा सोचें।

मूल्‍यों  

अगर आप अपने निजी जीवन में सैद्धांतिक हैं, उनका सम्मान करते हैं तो किसी के लिए भी उनमें समझौता करना सही नहीं है। दरअसल सिद्धांतों से समझौता करने पर हमें हार का एहसास होता है। हार हमेशा नकारात्मक ऊर्जा के साथ हमारे जीवन में प्रवेश करता है। इससे हम जीवन के हर स्तर पर खुद को सबसे निचले पायदान पर पाते हैं। इस तरह की सोच से बचने के लिए जरूरी है कि अपने सिद्धांतों को सर्वोपरि रखा जाए और समझौता कतई न किया जाए।

भरोसा

जब सामने दो रास्ते हों तो किसे चुना जाए? सही और गलत राह में किसी एक को चुनना मुश्किल नहीं है। समस्या तब आती है जब दोनों राहें सही हों। लेकिन उनमें से एक हमारी तकदीर पलटने की ताकत रखती हो। जी, हां! हमारा खुद पर विश्वास इन दो राहों के चयन के समय ही नजर आता है। हम दूसरों पर आसानी से विश्वास कर लेते हैं जबकि खुद पर विश्वास करना हमारे लिए चुनौती बन जाती है। मनोचिकित्सकों की मानें तो खुशहाल जीवन के लिए खुद पर विश्वास रखना जरूरी है। मरीज भी तभी ठीक होता है जब वह खुद पर विश्वास करता है।

 

ऐसे अन्य स्टोरीज के लिए डाउनलोड करें: ओनलीमायहेल्थ ऐप

Read More Articles On Healthy Living In Hindi

Disclaimer

Tags