विदेश नहीं बल्कि भारत में हैं इस बीमारी के सबसे ज्यादा मरीज

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Dec 13, 2017

टीबी एक ऐसा रोग जो संक्रमण के कारण सबसे ज्यादा फैलता है। हाल ही में आए आंकड़ों से साफ हुआ है कि टीबी के सबसे ज्यादा रोगी भारत में हैं। भारत में एमडीआर-टीबी रोगियों की संख्या सबसे ज्यादा है और बिना पहचान वाले टीबी रोगियों की संख्या भी कम नहीं है। मौजूदा समय में टीबी के 27.9 लाख मामले हैं जिसमें से 42.3 लाख लोगों की मौत और प्रति 100,000 लोगों में 211 नए संक्रमणों के चलते, भारत इस रोग में प्रथम स्थान पर है।

टीबी होने पर रोगी का शरीर कमजोर हो जाता है, उसका वजन कम होने लगता है और रोगी को थकान महसूस होने लगती है। इसके साथ ही रोगी को खांसी व तेज बुखार भी होने लगता है। तपेदिक का प्रभाव रोगी के फेफड़ों, हडि्डयों, ग्रंथियों तथा आंतों में कहीं भी देखने को मिल सकता है। इसके बैक्टीरिया इतने सूक्ष्म होते हैं कि एक्स रे के जरिए ही उनकी पहचान की जा सकती है।

बच्चे भी हैं शिकार

वैश्विक अनुमान बताते हैं कि बच्चों में प्रत्येक वर्ष टीबी से लगभग 15 लाख नए मामले और 130000 मौतें होती हैं। टीबी माइकोबैक्टीरियम ट्यूबरकुलोसिस नामक जीवाणु के कारण होती है। बच्चे वयस्कों के साथ संपर्क में आने से क्षय रोग (टीबी) से संक्रमित हो सकते हैं। संक्रमण की वार्षिक दर 3 प्रतिशत है। हमारे देश में 3.4 मिलियन बच्चों को टीबी है।

ऐसे अन्य स्टोरीज के लिए डाउनलोड करें: ओनलीमायहेल्थ ऐप

Loading...
Is it Helpful Article?YES993 Views 0 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK