ब्रेन ट्यूमर से जूझ रहे हैं 'सुपर 30' के आनंद कुमार! जानें क्‍या है ये बीमारी और लक्षण

बिहार में सुपर 30 के नाम से गरीब बच्‍चों को फ्री में कोचिंग देने वाले आनंद कुमार ब्रेन ट्यूमर (एकॉस्टिक न्यूरोमा) से पीड़ित है, उन्‍होंने अपनी बायोपिक के लिए दिए एक इंटरव्‍यू में इस बात का खुलासा किया है। फ

Atul Modi
Written by: Atul ModiPublished at: Jul 11, 2019Updated at: Jul 11, 2019
ब्रेन ट्यूमर से जूझ रहे हैं 'सुपर 30' के आनंद कुमार! जानें क्‍या है ये बीमारी और लक्षण

ऋतिक रोशन अभिनीत फिल्‍म 'सुपर 30' कल यानी 12 जुलाई को बड़े पर्दे पर उतरने वाली है। यह फिल्म पटना के गणितज्ञ आनंद कुमार के जीवन पर आधारित है, जो गरीब बच्चों को लंबे समय से मुफ्त में आईआईटी प्रवेश परीक्षा की कोचिंग दे रहे हैं। फिल्‍म रिलीज होने से पहले एक आनंद कुमार से जुड़ी एक बुरी खबर सामने आई है। आनंद कुमार ने अपने एक इंटरव्‍यू में खुलासा किया है कि वह ब्रेन ट्यूमर (एकॉस्टिक न्यूरोमा) से पीड़ित है। 

super30 

एएनआई के साथ हुए साक्षात्कार में, आनंद ने खुलासा किया कि वह अपनी बायोपिक बनाने की जल्दी में थे क्योंकि उनके जीवन की कोई निश्चितता नहीं है। उन्होंने कहा, "फिल्म लेखक की इच्छा थी कि मैं जल्द से जल्द फिल्म के लिए अनुमति दूं। जीवन और मृत्यु का कोई पता नहीं है, इसलिए मैं चाहता था कि जीवित रहते हुए यह बायोपिक बनाई जाए।"

उन्होंने कहा, "2014 में मेरी स्थिति ऐसी थी कि मैं अपने दाहिने कान से सुनने में असमर्थ था। मैंने पटना में बहुत सारे उपचार करवाए और यह कुछ परीक्षणों के बाद मुझे पता चला कि मेरे दाहिने काने की 80-90 प्रतिशत सुनने की क्षमता नष्ट हो गई है। "

उन्होंने कहा, "तब मैंने राम मनोहर लोहिया अस्पताल, दिल्ली में जांच की और डॉक्टरों ने कई परीक्षण किए। उन्होंने फिर मुझे फोन किया और बताया कि मेरे कान में कोई समस्या नहीं थी बल्कि ब्रेन में है। डॉक्‍टरों ने बताया कि उनके ब्रेन में एक ट्यूमर उस नर्व यानी तंत्रिका पर विकसित हुआ है जो कान से मस्तिष्क तक जाता है। जैसे ही यह मुझे पता चला मैंने अपनी चेतना खो दी।" 

 

जानें क्‍या है ब्रेन ट्यूमर (एकॉस्टिक न्यूरोमा)- What is Acoustic neuroma in hindi

एकॉस्टिक न्यूरोमा, जिसे वेस्टिबुलर स्कवान्नोमा के रूप में भी जाना जाता है। यह एक कैंसरमुक्त और आमतौर पर धीमी गति से बढ़ने वाला ट्यूमर है जो वेस्टिबुलर तंत्रिका पर विकसित होता है जो आपके कान से आपके मस्तिष्क तक जाता है। इस तंत्रिका की शाखाएं आपके संतुलन और सुनने की क्षमता को प्रभावित करती हैं। और एकॉस्टिक न्यूरोमा से दबाव पड़ता है जो सुनने की क्षमता में कमी का कारण बनता है। इसके अलावा कान का बजना और अस्थिरता का कारण बन सकता है।

एकॉस्टिक न्यूरोमा आमतौर पर इस तंत्रिका को कवर करने वाली स्कवान्न सेल्‍स पर विकसित होती है और धीरे-धीरे बढ़ता है या बिल्कुल भी नहीं बढ़ता। ऐसा बहुत कम होता है जब यह बहुत तेजी से बढ़ता है और मस्तिष्क के खिलाफ दबाव बनाने और महत्वपूर्ण कार्यों में हस्तक्षेप करने के लिए बड़ा कारण हो सकता है। एकॉस्टिक न्यूरोमा का इलाज नियमित देखरेख, रेडिएशन और सर्जरी के माध्‍यम से किया जा सकता है। 

इसे भी पढ़ें: ब्रेन ट्यूमर क्‍या है? एक्‍सपर्ट से जानें इसके कारण, लक्षण और उपचार  

ब्रेन ट्यूमर (एकॉस्टिक न्यूरोमा) के लक्षण- Acoustic neuroma symptoms in hindi

एकॉस्टिक न्यूरोमा के लक्षण बहुत ही सूक्ष्‍म होते हैं। यह आमतौर पर सुनने की क्षमता को प्रभावित करने और तंत्रिकाओं पर ट्यूमर के प्रभावों से उत्‍पन्‍न होते हैं। 

एकॉस्टिक न्यूरोमा के लक्षणों में शामिल हैं:

  • सुनने की क्षमता कम होना
  • प्रभावित कान में कुछ बजने की आवाज आना
  • अस्थिरता, संतुलन की हानि
  • चक्कर आना 
  • चेहरे की सुन्नता 
  • प्रभावित जगह की मांसपेशियों की कमजोरी 

डॉक्‍टर से कब मिलें? 

अगर आपको कम सुनाई दे या कान बज रहे हों और संतुलन बनाने में परेशानी होने लगे तो आपको तुरंत डॉक्‍टर की सलाह लेनी चाहिए। एकॉस्टिक न्यूरोमा का शुरूआत में पता चलने से ट्यूमर को गंभीर रूप से बढ़ने से रोकने में मदद मिल सकती है। 

Read More Articles On Cancer In Hindi

Disclaimer