कहीं आपके शरीर की परेशानी की वजह स्लीपिंग पोजीशन तो नहीं?

हमारे स्वास्थ का सीधा संबंध हमारे सोने से है। स्वस्थ रहने के लिए जितना जरूरी शरीर का काम करना है उतना ही जरूरी सोना भी है।

Rashmi Upadhyay
एक्सरसाइज और फिटनेसWritten by: Rashmi UpadhyayPublished at: Dec 22, 2017
कहीं आपके शरीर की परेशानी की वजह स्लीपिंग पोजीशन तो नहीं?

हमारे स्वास्थ का सीधा संबंध हमारे सोने से है। स्वस्थ रहने के लिए जितना जरूरी शरीर का काम करना है उतना ही जरूरी सोना भी है। ये हमारे शारीरिक और मानसिक स्वास्थ दोनों के लिए जरूरी है। किसी व्यक्ति को हर रोज कितनी नींद लेनी चाहिए ये व्यक्ति के काम और उसके शरीर पर निर्भर करता है। छोटे बच्चों को सबसे ज्यादा नींद की जरूरत होती है। अगर आप दिमाग पर जोर पड़ने वाला कोई काम करते हैं, तो आपके लिए गहरी पूरी नींद जरूरी है। औसतन एक आदमी को 24 घंटे में 7 से 8 घंटे की नींद लेनी चाहिए। जिस तरह सोने की अवधि से हमारा स्वास्थ्य तय होता है उसी तरह सोने की पोजीशन भी हमारी हेल्थ को प्रभावित करती है।

हाथों को फैलाकर सोना

हाथों को फैलाकर सोना, सोने की सबसे आरामदायक अवस्था है। इस अवस्था में शरीर पूरी तरह खुल जाता है, जिससे सभी अंगों का भार बिस्तर पर समान रूप से पड़ता है। इस पोजीशन में सोने से रीढ़ की हड्डी सीधी रहती है और आप अच्छे से सांस ले पाते हैं।

इसे भी पढ़ें : सर्दियों में पुरूष जरूर खाएं ये 10 फूड, बनेगी पहलवानों जैसी बॉडी

पेट के बल सोना

पेट के बल सोना आपको भले आरामदायक लगता हो, लेकिन शरीर पर इसके कई नुक्सान हैं। इससे आपकी गर्दन खिंच जाती है और लोवर बैक पर दबाव पड़ता है। ज्यादा समय तक पेट के बल सोने से आपकी शारीरिक बनावट जैसे कंधों और गर्दन में भी परिवर्तन आ सकता है और आपके शरीर की बनावट असंतुलित हो सकती है। लड़कियों के इस पोजीशन में सोने से ब्रेस्ट पर दबाव पड़ता है और कई बार उनका विकास रुक जाता है।

पीठ के बल सोना

पीठ के बल सोना, सोने की सबसे आदर्श स्थिति है। इसे सोल्जर स्लीपिंग पोजीशन भी कहते हैं। डॉक्टर्स अक्सर इस पोजीशन में सोने की सलाह देते हैं। इससे आपके रीढ़ की हड्डी सीधी रहती है और पेट में अनावश्यक एसिड नहीं बनता है। लेकिन अगर आपको खर्राटों की समस्या है तो इस पोजीशन में ये समस्या बढ़ सकती है।

इसे भी पढ़ें : जरूरत से ज्‍यादा एक्‍सरसाइज़ पुरूषों के लिए है जानलेवा, जानें क्‍यों

करवट में पांव समेटकर सोना

बच्चे खासकर इस पोजीशन में सोते हैं। इस पोजीशन में सोने से आपकी रीढ़ की हड्डियों पर जोर नहीं पड़ता। बार-बार करवट बदलने की वजह से ये पोजीशन शरीर को आरामदायक लगती है और सुबह आप अच्छा महसूस करते हैं। ये पोजीशन महिलाओं की प्रेगनेंसी के दौरान काफी लाभदायक होती है। अगर आपकी पीठ या गर्दन में दर्द है तो इस पोजीशन में सोना आपके लिए मुश्किल है क्योंकि इससे ये दर्द और बढ़ जाता है।

करवट में हाथ फैलाकर सोना

कई लोग करवट लेकर सोते हैं मगर अपने हाथों को फैला लेते हैं। इससे आपकी रीढ़ की हड्डी सीधी रहती है और खर्राटे भी नहीं आते हैं। लेकिन अगर इस पोजीशन में आप हाथ दबाकर सोते हैं तो आपका हाथ सुन्न पड़ सकता है या दर्द कर सकता है।

ऐसे अन्य स्टोरीज के लिए डाउनलोड करें: ओनलीमायहेल्थ ऐप

Read More Articles On Diet and Fitness In Hindi

Disclaimer