कॉमन कोल्‍ड से बचने के लिए इसके लक्षणों को जानें

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Nov 22, 2013
Quick Bites

  • सर्दी-जुकाम में गले में खराश की समस्या हो सकती है।
  • सांस लेने में समस्या होने पर डॉक्टर से जरूर संपर्क करें।
  • मौसम बदलने पर शरीर बदलाव के लिए तैयार नहीं होता है।
  • सर्दियों के मौसम में सांस की समस्या वाले लोगों को ज्यादा परेशानी होती है।

मौसम का बदलाव का मतलब बीमारियों की शुरुआत। जी हां, मौसम बदलने के साथ ही लोगों में सर्दी-जुकाम, बुखार व संक्रमण की समस्या शुरु हो जाती है। इसका मुख्य कारण है कि लोग बदलते मौसम के लिए शारीरिक रुप से तैयार नहीं होते हैं और वे इंफेक्शन की चपेट में आ जाते हैं।  

symptoms of coldसर्दियों में अक्सर जुकाम की शिकायत होती है। नाक बहना, छींक आना, आंखों में पानी, नाक में खारिश, बलगम जमा होना, थकावट आदि इसके सामान्‍य लक्षण हैं। वहीं ऐसे लोग जिन्हें सांस की तकलीफ होती है उनके लिए सर्दी का मौसम बेहत खतरनाक साबित हो सकता है। उनमें मौसम में बदलाव के साथ छाती में जकड़न और सांस लेने में समस्या होने लगती है। आमतौर पर लोग इन्हें सर्दी जुकाम के लक्षण समझकर नजरअंदाज कर देते हैं। जिसके कारण समय पर उचित उपचार के अभाव में ब्रॉनकियल अस्थमा की स्थिति पैदा होने लगती है।

 

सर्दियों में जैसे-जैसे तापमान गिरने लगता है, वैसे-वैसे पर्यावरण में वायरस की संख्या भी बढ़ने लगती है। यही कारण है कि एलर्जी की समस्‍या से ग्रस्‍त लोगों के वायरस के चपेट में आने की आशंका कई गुना बढ़ जाती है। यहां तक कि कई लोगों में धूल व मिट्टी और प्रदूषण से एलर्जी होने के मामले भी बढ़ जाते हैं। खासतौर पर सर्दियों में नाक से जुड़ी एलर्जी का मुख्य कारण प्रदूषण है। धुंध, धुआं, कम शारीरिक श्रम भी इसमें महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। ऐसे में बेहतर होता है कि आप लक्षणों को देखते हुए चिकित्सक से परामर्श लें।

इसे भी पढ़ें- सर्दी जुकाम में कैसा हो खानपान

कॉमन कोल्ड के लक्षण

सामान्‍य जुकाम में कई लक्षण दिखायी पड़ते हैं। न केवल डॉक्‍टर बल्कि सामान्‍य व्‍‍यक्ति भी इनकी पहचान कर सकता है। कॉमन कोल्‍ड के शिकार लगभग हर दूसरे व्‍यक्ति को गले में ख़राश होती है। यह इस समस्‍या का पहला लक्षण कहा जा सकता है।

इसके बाद नाक में जमाव और साइनस, बहती नाक और छींक आना आदि की तकलीफ होती है। कर्कशता और खांसी भी हो सकती है। ये दोनों समस्‍यायें अधिक लंबे समय तक रहती हैं। कई बार ऐसा देखा जाता है कि व्‍यक्ति कई हफ्ते इनसे परेशान रहता है। कॉमन कोल्‍ड में आमतौर पर बुखार की तकलीफ नहीं होती। जुकाम की समस्या से बचने के लिए इनके लक्षणों के बारे में जानना जरूरी है-

  • नाक से पतला और सफेद पानी निकले तो समझें कि हल्का और सामान्य जुकाम है। ज्यादा फिक्र की जरूरत नहीं है।
  • नाक से अगर गाढ़ा द्रव्य निकले तो समझें कि इन्फेक्शन ज्यादा हो गया है। ऐसे में डॉक्टर को दिखाने में देर ना करें।
  • नाक बंद हो तो वायरल व बैक्टीरियल दोनों तरह के इन्फेक्शन हो सकते हैं। वायरल इन्फेक्शन है तो भाप और एंटी-एलर्जिक दवा से ठीक हो जाएगा, नहीं तो एंटीबायोटिक्स लेनी होंगी।
  • गले में खराश होना।
  • सांस लेने में परेशानी।
  • शरीर में ऐंठन व दर्द होना
  • लगातार छींक आना।
  • अगर नाक से सफेद रेशा निकले तो यह एलर्जी की निशानी है। यह साधारण जुकाम होता है।
  • हरा रेशा हो, तो इन्फेक्शन है और तुरंत डॉक्टर को दिखाएं।
  • पीला और गाढ़ा रेशा हो तो भी इन्फेक्शन है। अपने आप इलाज न करें और डॉक्टर को दिखाएं।
  • जुकाम को पांच दिन से ज्यादा हो जाएं या साथ में खांसी, बलगम, बदन दर्द व बुखार भी हो, तो समझना चाहिए कि आम जुकाम नहीं है।
  • अगर पीला रेशा व सांस की दिक्कत के साथ बुखार भी हो तो बैक्टीरियल इन्फेक्शन होता है। ऐसे में डॉक्टर के पास जाना चाहिए। अगर जुकाम बैक्टीरिया से है तो एंटीबायोटिक खाने पर ठीक होता है। यह सिर्फ डॉक्टर ही देखकर बताएगा।
  • कफ के साथ खून भी आए तो खतरनाक है। यह टीबी का लक्षण हो सकता है। 

 

कॉमन कोल्ड के इन लक्षणो को ध्यान में रखें और कभी भी ऐसी समस्या होने पर बिना देर किए डॉक्टर से सपंर्क करना ना भूलें।

 

Read More Articles On Common Cold In Hindi

Loading...
Is it Helpful Article?YES4 Votes 12840 Views 0 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK