10 ब्रांड्स के शहद में मिला 'चाइनीज सिरप', जानें सेहत के लिए कितना खतरनाक है ये और कैसे पहचानें असली शहद

चाइनीज सिरप मिलाकर बेचा जा रहा शहद आपकी सेहत के लिए कितना खतरनाक है? जानें असली और नकली शहद को पहचानने के आसान तरीके।

Monika Agarwal
स्वस्थ आहारWritten by: Monika AgarwalPublished at: Dec 08, 2020Updated at: Dec 08, 2020
10 ब्रांड्स के शहद में मिला 'चाइनीज सिरप', जानें सेहत के लिए कितना खतरनाक है ये और कैसे पहचानें असली शहद

पिछले दिनों 13 में 10 ब्रांड्स के शहद में 'चाइनीज सिरप' की मिलावट की खबर आने के बाद से लोग हैरान हैं। कारण यह है कि इन 10 की लिस्ट में कई ऐसे ब्रांड्स के शहद भी शामिल हैं, जो बहुत पॉपुलर हैं और लोग जिनपर सालों से भरोसा करते रहे हैं। शहद कुछ लोगों के दैनिक आहार का हिस्सा होगा। लोग वजन घटाने के लिए, सर्दी-जुकाम के घरेलू इलाज के लिए और कई तरह के दूसरे फायदों के लिए रेगुलर शहद का इस्तेमाल करते हैं। इस खबर के बाद आप सभी के मन में एक सवाल जरूर आया होगा कि 'चाइनीज सिरप' क्या है, जिसका इस्तेमाल शहद में किया जा रहा था और ये लोगों के लिए कितना और कैसे नुकसानदायक है। ओनलीमायहेल्थ ने इस बारे में कोलंबिया एशिया अस्पताल, गुड़गांव की डायटीशियन डॉ. शालिनी गार्विन ब्लिस से बात की और उन्होंने हमें विस्तार से इस बारे में बताया है।

सेंटर फॉर साइंस व एन्वायरन्मेंट (CSE) ने भारतीय मार्केट में शहद बेचने वाले 13 छोटे-बड़े ब्रांड्स के शहद को उनकी शुद्धता के लिए चेक किया। उन्होंने पाया कि भारतीय बाजारों में बिक रहे 77% शहद मिलावटी हैं और इनमें एक खास शुगर सिरप का इस्तेमाल किया गया है, जिसे 'चाइनीज सिरप' कहते हैं। विशेषज्ञों का कहना है कि शहद के नाम पर लोगों को शुगर खिलाना नुक़सान दायक है। क्योंकि शुगर डायबिटिक व अन्य लोगों के लिए बहुत हानिकारक होती है। इससे सेहतमंद लोगों को भी मोटापा व डायबिटीज जैसी खतरनाक बीमारियों की सम्भावना हो सकती है।

honey adulteration

सेहत के लिए कितना खतरनाक है 'चाइनीज सिरप', जिसे शहद में मिलाकर बेचा जा रहा था?

चाइनीज सिरप को ही गोल्डन सिरप, इनवर्ट शुगर सिरप, या राइज़ सिरप नाम से भी जाना जाता है। यही सिरप आजकल शहद में मिलाया जा रहा है, जो शहद की क्वालिटी के स्तर को कम करता है। इन दिनों महामारी के समय में शहद की खपत की मात्रा भारतीय बाजारों में बढ़ी है। क्योंकि शहद के एंटीमाइक्रोबियल (रोगाणुरोधी) और एंटी-इन्फ्लेमेटरी गुणों की वजह से उसको इम्यूनिटी बूस्टर भी मानते हैं। पर डॉ. शालिनी गार्विन ब्लिस, आहार विशेषज्ञ, कोलंबिया एशिया अस्पताल, गुड़गांव, के अनुसार यह एक चिंता की बात है। क्योंकि इस वजह से कोविड 19 के समय में स्वास्थ्य समस्याएं बढ सकतीं हैं। असल में शहद में शुगर होने का मतलब है कि इससे मोटापे की समस्या होगी और मोटे लोगों को जानलेवा बीमारियों का खतरा हो सकता है। पहले जानिए कि यह गोल्डन सिरप क्या होता है?

इसे भी पढ़ें: सेहत और खूबसूरती के लिए वरदान है शहद, जानें 15 अनोखे प्रयोग

क्या है चाइनीज सिरप या गोल्डेन सिरप?

यह गन्ने के रस से बने रिफाइंड शुगर का ही एक अन्य उत्पाद है जिसमें इन्वर्ट शुगर पाई जाती है। इंवर्ट शुगर का टेक्सचर गाढ़ा होता है और रंग गोल्डेन होता है। शहद का रंग भी लगभग गोल्डेन या डार्क यलो होता है, इसलिए शहद में इसे मिलाना कंपनियों के लिए आसान भी है और ग्राहक के लिए इसका पता लगाना भी मुश्किल है। शुगर में आमतौर पर 3 चीजें होती हैं- फ्रक्टोज, सुक्रोज और ग्लूकोज। सामान्य रिफाइंड शुगर में फ्रक्टोज और ग्लूकोज सुक्रोज से बंधे होत हैं, जबकि गोल्डेन सिरप में ये बंधे नहीं होते हैं। इस वजह से गोल्डेन सिरप तरल होता है।

chinese syrup side effects in honey

ग्लाइसेमिक इंडेक्स

आप का शरीर कार्बोहाइड्रेट व गोल्डन सिरप को एक जैसे ही प्रोसेस करता है। इसलिए इनका ग्लाइसेमिक इंडेक्स लेवल भी लगभग एक जैसा ही होता है। ग्लाइसेमिक इंडेक्स वह रेट बताता है जिस से आप की बॉडी कार्बोहाइड्रेट को ग्लूकोज मे बदलती है। गोल्डन सिरप का ग्लाइसेमिक इंडेक्स में रेट लगभग 62.9 होता है जबकि शुगर रेट 61-67 होता है। ग्लाइसेमिक इंडेक्स फाउंडेशन ने 68 ग्लाइसेमिक इंडेक्स से ऊपर वाले प्रोडक्ट्स को हाई लेवल शुगर बताया है और 54.9 से नीचे के लेवल को लो। इस अनुसार शहद में मिला गोल्डेन सिरप दरअसल सफेद चीनी जितना ही खतरनाक है।

कैलोरीज़

एक चम्मच गोल्डन सिरप में लगभग 59-60  कैलोरीज़ होती हैं व 16-17 ग्राम कार्बोहाइड्रेट्स होते हैं। वजन करने पर हर ग्राम गोल्डन सिरप मे 2.8+ कैलोरीज़ होती हैं। टेबल शुगर में 48-49 कैलोरी व कार्बोहाइड्रेट 12.5 ग्राम होता है। अतः इसका वजन 3.8 कैलोरी पर ग्राम होता है। गोल्डन सिरप मे वॉल्यूम के द्वारा अधिक कैलोरीज़ होती हैं और शुगर मे वजन के द्वारा अधिक कैलोरी। यह दोनों एक जैसे हैं इसलिए इनमें किसी प्रकार का पोषण नहीं होता है।

इसे भी पढ़ें: सुबह खाली पेट पिएं 1 चम्मच शहद, आपके मस्तिष्क के लिए इससे बेहतर ब्रेकफास्ट दूसरा कोई नहीं, जानें कारण

किन चीजों में इस्तेमाल होता है इंवर्ट शुगर?

इनवर्ट शुगर वैसे तो बहुत सी चीजों में पाई जाती है। परन्तु मुख्य रूप से यह कैंडी, बिस्किट, सीरियल व फलों के जूस में पाया जाता है। सॉफ्ट ड्रिंक्स, आइस क्रीम आदि में भी यह शुगर पाई जाती है।

नकली शुगर से बच कर रहें

यह तो हम सब ही जानते हैं कि शुगर से अधिक बेहतर व सेहतमंद ऑप्शन शहद है। परन्तु अगर आप गोल्डेन शुगर या चाइनीज शुगर की मिलावट वाला नकली शहद खरीदते हैं, तो ये सेहत के लिए हानिकारक होता है। आपको अपने खाने-पीने की चीजों में शुगर की मात्रा पता होनी चाहिए। शहद में बहुत कम कैलोरीज होती हैं। प्रकृति द्वारा बनाया गया यह तत्व स्वाद में तो मीठा होता ही है साथ में इसमें मिनरल्स व पोषक तत्त्व भी पाए जाते हैं। परन्तु आप को असली शहद की पहचान करना भी आना चाहिए।

असली शहद की पहचान 'पॉप' साउंड

शहद के साथ सबसे बड़ी समस्या इसकी गुणवत्ता है। अच्छा, शुद्ध शहद ढूंढना काफी चुनौती भरा हो सकता है। कई अन्य खाद्य वस्तुओं की तरह इसमें भी मिलावट खूब देखी जाती है। क्या आपने कभी ध्यान किया है कि शहद की शीशी खुलने पर एक 'पॉप ’ध्वनि सुनाई देती है। जो इस बात का संकेत है कि शहद में मिलावट की गई है। यह आवाज फर्मेंटेशन प्रक्रिया के कारण बनी गैस की वजह से होती है। आपको धोखे में रखना इन कंपनियों के लिए इसलिए भी आसान है क्योंकि इसमें अक्सर ग्लूकोज ,हाई फ्रक्टोज कॉर्न सिरप, गोल्डेन सिरप आदि मिलाया जाता है, जिनके बारे में आम आदमी नहीं जानता है।

कैसे पहचानें असली शहद और नकली शहद (Honey Purity Tests)

अंगूठे से टेस्ट (Thumb test for Honey)

शहद की थोड़ी सी मात्रा लेकर उसे अपने अंगूठे पर फैलाएं और देखें कि वह अन्य तरल पदार्थों की तरह फैलता है या नहीं। यदि वह फैलता है तो वह हो सकता है कि नकली हो। असली शहद गाढ़ा होगा है अतः वह आप के अंगूठे पर फैलेगा नहीं और यदि वह नकली होगा तो उसका टेक्सचर रनी होगा और वह आसानी से फैल जाएगा।

पानी से जांच (Water Test)

एक चम्मच शहद को लें और उसे एक गिलास पानी में मिला दें। यदि नकली शहद होगा तो वह पानी में आसानी से घुल जाएगा और यदि वह असली शहद होगा तो वह थोड़ा गाढ़ा होता है। इसलिए वह गिलास की तली में बैठ जाएगा और पानी में कम घुलेगा।

fake honey test

फ्लेम टेस्ट (By Flame)

आप को यह टेस्ट ध्यान से करना होगा। शहद के पास एक माचिस की तीली को जलाएं। यदि वह शहद आग पकड़ लेता है तो वह असली होता है और यदि वह आग नहीं पकड़ता है तो वह नकली होता है।

इसे भी पढ़ें: गुड़ की जगह शहद का इस्तेमाल है ज्यादा फायदेमंद? जानें डायबिटीज में किसकी मिठास है ज्यादा स्वास्थकारी

सिरके से जांच  (Check With Vinegar)

शहद को पानी में मिलाएं और इसमें 2-3 बूंद सिरके की डालें। यदि यह शहद धुंए से धुंआ निकलने लगे, तो पूरी सम्भावना होती है कि वह शहद नकली हो।

बुलबुले टेस्ट (Bubble Test)

यदि शहद असली होगा तो उसमें बुलबुले नहीं बनेंगे और यदि शहद नकली होगा तो उसमे बुलबुले बन जाएंगे और झाग भी बनेंगे। इसके अलावा लंबे समय से रखा शहद अगर तली में भुरभुरा दानेदार दिखने लगे तो समझ लें कि उसमें चीनी का कोई रूप मिलाया गया है।

आशा है इन सब बातों को जानने के बाद , आप अब जब भी शहद खरीदेंगे तो इन बातों का जरूर ध्यान करेंगे और स्वस्थ सेहतमंद रहने के लिए असली शहद का ही प्रयोग करेंगे। सेहत और स्वास्थ्य से जुड़ी ऐसी ही स्टोरीज पढ़ने के लिए जुड़े रहें ओनलीमायहेल्थ के साथ। अगर आपको ये स्टोरी पसंद आई है और दूसरों को भी इस बारे में जागरूक करना चाहते हैं, तो स्टोरी को शेयर करें।

Read More Articles on Healthy Diet in Hindi

Disclaimer