रूमेटाइड अर्थराइटिस क्यों होता है? जानें इसके लक्षण और इलाज

रूमेटाइड अर्थराइटिस एक ऑटोइम्यून डिजीज है, जो जोड़ों में दर्द, सूजन और अकड़न का कारण बन सकती है।

Priya Mishra
Written by: Priya MishraUpdated at: Nov 07, 2022 12:35 IST
रूमेटाइड अर्थराइटिस क्यों होता है? जानें इसके लक्षण और इलाज

आजकल की भागदौड़ भरी जिंदगी में कई गंभीर बीमारियां आम हो गई हैं। ऐसी ही एक बीमारी है - रूमेटाइड अर्थराइटिस। वैसे तो यह बीमारी ज्यादातर  बुजुर्गों में होती है, लेकिन आजकल की खराब जीवनशैली के कारण युवा भी इस बीमारी का शिकार हो रहे हैं। यह बीमारी मुख्य तौर पर शरीर के जोड़ों को प्रभावित करती है, जिससे जोड़ों में सूजन, दर्द और अकड़न की समस्या होने लगती है। अगर इस बीमारी का समय रहते इलाज ना कराया जाए, तो इससे हड्डियों और जोड़ों के अलावा दिल, फेफड़ों आंखों और त्वचा जैसे अंग भी प्रभावित हो सकते हैं। रूमेटाइड अर्थराइटिस के मरीजों को घुटनों, पीठ, कलाई या गर्दन के जोड़ों में तेज दर्द की शिकायत रहती है। अगर इस बीमारी को कंट्रोल ना किया जाए तो जोड़ों का आकार बदलने लगता है। इस बीमारी की वजह से हाथ-पैरों की उंगलियां टेढ़ी हो सकती हैं। आइए, इस बीमारी को बेहतर तरीके से समझने के लिए जानते हैं इसके लक्षण और इलाज (Rheumatoid arthritis symptoms and treatment) -  

रूमेटाइड अर्थराइटिस क्या होता है (What is Rheumatoid Arthritis)

रूमेटाइड अर्थराइटिस एक ऑटोइम्यून बीमारी है, जिसमें इम्यून सिस्टम शरीर को नुकसान पहुंचाने लगता है। हमारा इम्यून सिस्टम हमें कई बीमारियों से बचाता है, लेकिन रूमेटाइड अर्थराइटिस में इम्यूनिटी शरीर की स्वस्थ कोशिकाओं को ही नुकसान पहुंचाने लगती है। इस बीमारी की वजह से मरीज के जोड़ों में सूजन, दर्द और अकड़न पैदा हो जाती है। अगर सूजन लंबे समय तक बनी रहती है, तो इससे हड्डियों के घिसने या खराब होने का खतरा भी रहता है। इस बीमारी में सुबह के समय शरीर में अकड़न ज्यादा होती है। लेकिन शरीर के मूवमेंट के अनुसार एक से दो घंटे बाद अकड़न ठीक हो जाती है। पुरुषों के मुकाबले महिलाओं में रूमेटाइड अर्थराइटिस का खतरा अधिक देखा गया है। यह बीमारी किसी भी उम्र के व्यक्ति को प्रभावित कर सकती है। छोटे बच्चे भी इस बीमारी से पीड़ित हो सकते हैं, जिसे जुवेनाइल अर्थराइटिस के नाम से जाना जाता है।  

Rheumatoid-Arthritis

इसे भी पढ़ें: हाथ पैर के जोड़ों में दर्द क्यों होता है? जानें 5 कारण

रूमेटाइड अर्थराइटिस के लक्षण (Rheumatoid Arthritis Symptoms)

रूमेटाइड अर्थराइटिस का इलाज उसके लक्षणों को पहचानकर किया जा सकता है। इसके लक्षणों में शामिल है -

  • सुबह उठने पर हाथों पैरों में अकड़न होना
  • जोड़ों में सूजन
  • सीने में दर्द
  • थकान महसूस होना
  • भूख ना लगना
  • मुंह और आंखों का सूखना
  • शरीर में गांठ बनना
  • वजन तेजी से कम होना

रूमेटाइड अर्थराइटिस का इलाज (Rheumatoid Arthritis Treatment)

ब्लड टेस्ट, एक्स-रे या अल्ट्रासाउंड से रूमेटाइड अर्थराइटिस का पता लगाया जा सकता है। इस बीमारी के इलाज का सबसे बड़ा मकसद दर्द और सूजन जैसे लक्षणों को दूर करना है। रूमेटाइड अर्थराइटिस के मरीजों को अपने खानपान का विशेष ध्यान रखना चाहिए। डाइट में गेहूं, जौ, चावल, फल सब्जियां, अदरक, सौंफ, काला नमक, काली मिर्च, सेंधा नमक, लहसुन, धनिया, जीरा और घी आदि शामिल करने चाहिए। इस बीमारी से पीड़ित लोगों को रोज वॉक और एक्सरसाइज करनी चाहिए, जिससे मसल्स की अकड़न को आराम मिलेगा। रूमेटाइड अर्थराइटिस के इलाज के लिए डॉक्टर आपको एक डिजीज मॉडिफाइड एंटी-रूमेटाइड ड्रग (डीएमआरडी) दे सकते हैं। इसके अलावा, नॉन स्टेरॉयडल एंटी-इन्फ्लेमेटरी ड्रग का इस्तेमाल भी डीएमआरडी के साथ किया जा सकता है। 

इसे भी पढ़ें: घुटनों के दर्द से छुटकारा दिलाएंगे ये 5 आयुर्वेदिक उपाय

रूमेटाइड अर्थराइटिस, एक ऐसी ऑटोइम्यून डिजीज है, जो जोड़ों में दर्द, सूजन और अकड़न का कारण बन सकती है। अगर इस बीमारी का समय रहते इलाज ना कराया जाए तो इससे जॉइंट्स डैमेज भी हो सकते हैं। रूमेटाइड अर्थराइटिस के लक्षणों को पहचानकर इलाज करवाने से इस बीमारी को बढ़ने से रोका जा सकता है।

Disclaimer