जानें क्‍यों पाइल्‍स के लिए सबसे बेहतर इलाज है मूली

पाइल्‍स या बवासीर से बचने और इसे अधिक बिगड़ने से बचाने के लिए मूली से बेहतर कोई दूसरा विकल्‍प नहीं हैं। जीं हां दवाइयों के साथ इस घरेलू उपाय की मदद से आप कुछ ही दिनों में इस समस्या से राहत पा सकते हैं।

Pooja Sinha
घरेलू नुस्‍खWritten by: Pooja SinhaPublished at: Jun 02, 2016Updated at: Jan 03, 2017
जानें क्‍यों पाइल्‍स के लिए सबसे बेहतर इलाज है मूली

घर-घर में सलाद के रूप में खाई जाने वाली मूली सेहत के लिए बहुत फायदेमंद होती है यह बात तो लगभग हम सभी जानते हैं लेकिन क्‍या आप जानते हैं कि मूली पाइल्‍स के इलाज और रोकथाम में भी बहुत लाभदायक होती है। जीं हां पाइल्‍स या बवासीर से बचने और इसे अधिक बिगड़ने से बचाने के लिए मूली से बेहतर कोई दूसरा विकल्‍प नहीं हैं।

इसे भी पढ़ें : बवासीर के लिए आयुर्वेदिक उपचार

radish

बवासीर के लिए मूली

मूली के नियमित और सही इस्तेमाल से पाइल्स की समस्या को कुछ महीनों में दूर किया जा सकता है। साथ ही मूली के नियमित सेवन से पाइल्स की समस्या बढ़ती भी नहीं है। आजकल लाखों लोग पाइल्‍स की समस्‍या से परेशान है और कोई ऐसा उपाय चाहते हैं जिससे वे अपनी इस समस्‍या से निजात पा सकें। तो मूली इस मामले में काफी कारगर हो सकती है। परंतु इसका यह मतलब नहीं है कि आप मूली को आहार में शामिल करके डॉक्‍टर की बताई हुई दवाइयां खाना बंद कर दें। दवाइयों के साथ इस घरेलू उपाय की मदद से आप कुछ ही दिनों में इस समस्या से राहत पा सकते हैं।

क्‍या है पाइल्‍स या बवासीर

बवासीर या पाइल्स ने एक आम बीमारी का रूप ले लिया है। इस रोग में गुदे में छोटे-छोटे मस्से जैसे बन जाते हैं। जो समय के साथ आकार में बड़े हो जाते है और इसमें हर समय दर्द और जलन बनी रहती है। पाइल्स के मरीजों के साथ सबसे बड़ी समस्या ये है कि वह इसका जिक्र अपनों यहां तक कि डॉक्टरों से भी करने में कतराते हैं। लेकिन डॉक्टर से सलाह लेकर उसका सही इलाज कराना बहुत जरूरी है।

आखिर मूली ही क्‍यों

बवासीर के रोगियों को अक्‍सर मूली खाने की सलाह दी जाती है क्‍योंकि इसमें बहुत अधिक मात्रा में घुलनशील फाइबर पाये जाते हैं जो मल को मुलायम करने और पाचन क्रिया को दुरस्‍त रखने में मदद करती है। इसमें वाष्पशील तेल भी होता है, जो पाइल्‍स के दौरान पैदा होने वाले दर्द और सूजन को कम करता है। इसके अलावा मूली ठंडक देने का काम करती है, जिससे जलन में भी राहत मिलती है।

कैसे करें मूली का उपयोग

पाइल्स के मरीजों को कच्ची मूली का सेवन ही करना चाहिए। आप चाहें तो इसे घिसकर खा सकते हैं। यानी 100 ग्राम मूली को घिस कर उसमें 1 चम्‍मच शहद मिलाकर, दिन में इसे दो बार खाएं। या फिर इसका रस निकालकर पी सकते हैं। आप मूली का 1 गिलास रस निकाल कर उसमें चुटकी भर नमक मिलाएं और दिन में दो बार पियें। या फिर आप चाहें तो सफेद मूली का पेस्‍ट बना कर उसमें थोड़ा दूध मिलाएं। इस पेस्‍ट को संक्रमित जगह पर लगाएं जहां पर दर्द और सूजन है।

मूली का पाउडर

आप चाहें तो इसके पाउडर को भी प्रयोग में ला सकते हैं। इसके लिए मूली की पत्त‍ियों को छाया में सुखाकर घर पर ही उसका चूर्ण बना सकते हैं।  रोजाना इस पाउडर का एक चम्‍मच नियमित रूप से लेना चाहिए। एक महीने के नियमित सेवन से आपको फर्क नजर आने लगेगा।

ऐसे अन्य स्टोरीज के लिए डाउनलोड करें: ओनलीमायहेल्थ ऐप

Image Source : Getty
Read More Articles on Home Remedies Diseases
in Hindi

Disclaimer