महिलाओं में समय से पहले मेेनोपॉज बन सकता है 60 की उम्र के बाद कई बीमरियों की वजह : शोध

अध्‍ययन से पता चलता है कि जो महिलाएं समय से पहले मेेनोपॉज से गुजरती हैं, उनमें 60 के दशक में स्‍वास्‍थ्‍य समस्‍याएं बढ़ जाती हैं। 

Sheetal Bisht
Written by: Sheetal BishtPublished at: Jan 21, 2020Updated at: Jan 21, 2020
महिलाओं में समय से पहले मेेनोपॉज बन सकता है 60 की उम्र के बाद कई बीमरियों की वजह : शोध

हाल ही में हुए एक अध्ययन से पता चलता है कि जो महिलाएं समय से पहले मेनोपॉज या रजोनिवृत्ति का अनुभव करती हैं, उनके 60 के दशक में सही समय पर मेनोपॉज से गुजरने वाली महिलाओं की तुलना में तीन गुना अधिक स्‍वास्‍थ्‍य समस्‍याओं से गुजरने की संभावना होती है।  महिलाओं में मेनोपॉज एक ऐसा पड़ाव है, जिससे हर महिला को गुजरना पड़ता है।

कैसे किया गया अध्‍ययन? 

ह्यूमन रिप्रोडक्‍शन जर्नल में प्रकाशित अध्‍ययन के मुताबिक, शोधकर्ताओं द्वारा किए गए इस अध्ययन में 5107 महिलाओं को शामिल किया, जो 11,258 ऑस्ट्रेलियाई महिलाओं के राष्ट्रीय अध्ययन का हिस्सा थीं। ये 1996 में 45-50 वर्ष की थीं और जिनका 2016 तक फॉलोअप किया गया था।

इसके बाद शोधकर्ताओं ने देखा कि जो महिलाएं 50 या 51 वर्ष की उम्र से पहले मेनोपॉज से गुजरती हें, उनमें पहले से ही होने वाली व्यक्तिगत स्‍वास्‍थ्‍य समस्‍याओं के अलावा, अधिक अन्‍य स्‍वास्‍थ्‍य समस्‍याओं का भी सामना करना पड़ सकता है। जिसे मल्टीमॉर्बिडिटी के रूप में जाना जाता है।

Early Menopause

पिछले तीन वर्षों में 11 में से किसी भी स्वास्थ्य समस्या के निदान या उपचार के लिए कई महिलाओं की रिपोर्ट ली गई। जिसमें डायबिटीज, हाई ब्‍लड प्रेशर, हृदय रोग, स्ट्रोक, गठिया, ऑस्टियोपोरोसिस, दमा, डिप्रेशन, चिंता और ब्रेस्‍ट कैंसर शामिल था। यदि महिलाओं में इन स्थितियों में से दो या अधिक समस्‍याएं थी, तो उन्‍हें मल्टीमॉर्बिडिटी माना जाता था।

50-51 वर्ष की उम्र में मेनोपॉज का अनुभव करने वाली महिलाओं की तुलना में, समय से पहले मोनोपॉज वाली महिलाओं में 60 वर्ष की आयु तक दो बार मल्टीमॉर्बिडिटी विकसित होने की संभावना थी।

इसे भी पढें: सोयाबीन तेल का करते हैं इस्तेमाल तो हो जाएं सावधान, मस्तिष्क में हो सकते हैं जेनेटिक बदलाव: रिसर्च

डॉ. जियाओलिन जू, जिन्होंने क्वींसलैंड यूनिवर्सिटी में अपनी पीएचडी थीसिस के हिस्से के रूप में शोध किया था और अब झेजियांग यूनिवर्सिटी, चीन में एक रिसर्च प्रोफेसर है, ने कहा- "हमने अध्‍ययन में पाया कि समय से पहले मेनोपॉज के साथ 71% महिलाओं में 60 साल की उम्र में मल्टीमॉर्बिडिटी यानि कई स्‍वास्‍थ्‍य समस्‍याएं विकसित हुई थी, जबकि जिन्होंने 50-51 वर्ष की उम्र में मेनोपॉज का अनुभव किया, उन महिलाओं में यह 55% पाया गया।"

इसे भी पढें: बूढ़े लोगों के लिए चाय पीना हो सकता है फायदेमंद, डिप्रेशन से रहता है बचाव: रिसर्च

डॉ. जू ने कहा: "हमने यह भी पाया कि समय से पहले मेनोपॉज कई पुरानी स्थितियों की एक उच्च घटना के साथ जुड़ा हुआ है।" उन्‍होंने कहा, अध्ययन से पता चलता है कि केवल मल्टीमॉर्बिडिटी के विकास का संबंध है और यह इंगित नहीं करता है कि समय से पहले मेनोपॉज कई स्‍वास्‍थ्‍य समस्‍याओं के विकास का कारण बनती है।

शोध, समय से पहले मेनोपॉज का अनुभव महिलाओं में स्वास्थ्य समस्याओं के विकास को धीमा करने का एक उपाय का सुझाव देता है। जिसमें उन्‍हें आहार और व्यायाम, धूम्रपान से बचने, शरीर के वजन को कंट्रोल रखने, मानसिक रूप से उत्तेजक गतिविधि से जुड़ना और कैंसर के लिए नियमित जांच करने का सुझाव है। 

Read More Article On Health News In Hindi 

Disclaimer