बूढ़े लोगों के लिए चाय पीना हो सकता है फायदेमंद, डिप्रेशन से रहता है बचाव: रिसर्च

चाय पीने की आदत बुढ़ापे में आपके लिए फायदेमंद हो सकती है क्योंकि नई रिसर्च के अनुसार ये डिप्रेशन से बचाती है।

Anurag Anubhav
Written by: Anurag AnubhavPublished at: Jan 21, 2020Updated at: Jan 21, 2020
बूढ़े लोगों के लिए चाय पीना हो सकता है फायदेमंद, डिप्रेशन से रहता है बचाव: रिसर्च

डिप्रेशन एक ऐसी समस्या है, जिसका खतरा बड़ी उम्र के लोगों को ज्यादा होता है। रिपोर्ट्स बताती हैं कि 60 साल से ज्यादा उम्र के 7% से ज्यादा लोग डिप्रेशन का शिकार हैं। आमतौर पर इस उम्र के लोगों में डिप्रेशन का कारण पैसे की चिंता, सम्मान की कमी, रिश्तों की उलझनें, पार्टनर से अनबन, कम्यूनिटी और सोसायटी का दबाव आदि होते हैं। लेकिन हाल में National University of Singapore (NUS) और शंघाई की Fudan University ने बूढ़े लोगों में डिप्रेशन को लेकर एक नई रिसर्च की है। इस रिसर्च के अनुसार रेगुलर चाय पीने से बुढ़ापे में डिप्रेशन से बचा जा सकता है। हालांकि शोधकर्ताओं ने चाय का मेंटल हेल्थ पर क्या असर पड़ता है, इस बारे में कोई राय नहीं रखी है।

चाय में होते हैं कई फायदेमंद तत्व

चाय दुनियाभर में पॉपुलर पेय है, जिसे हर उम्र के लोग पीते हैं। नैशनल यूनिवर्सिटी ऑफ सिंगापुर के द्वारी की गई एक अन्य रिसर्च में यह पाया गया था कि चाय में कुछ ऐसे गुण होते हैं, जो ब्रेन के कुछ फंक्शन्स को एक्टिवेट कर देते हैं। ये रिसर्च एजिंग (Ageing) नाम के जर्नल में छापा गया है। दरअसल चाय में कैटेचिन (catechin), एल-थियानाइन (L-theanine) और कैफीन (caffeine) होता है, जो आपके मूड और कार्डिवोस्कुलर हेल्थ के लिए तो फायदेमंद हैं ही, कुछ रिसर्च के अनुसार ये कैंसर से भी बचाते है।

इसे भी पढ़ें: जानिए आपके ब्लड ग्रुप के अनुसार कौन सी चाय है आपके लिए ज्यादा फायदेमंद

13,000 लोगों पर किया गया शोध

इस रिसर्च के लिए शोधकर्ताओं ने 13,000 लोगों के डाटा का अध्ययन किया। ये डाटा चीन के लोगों में 2005 से 2014 के बीच इकट्ठा किया है। इन सभी प्रतिभागियों की उम्र 60 साल से ज्यादा थी। शोधकर्ताओं ने इन लोगों के चाय पीने की आदत के साथ-साथ स्मोकिंग, शराब पीने, डेली एक्टिविटीज, सामाजिक मेल-मिलाप आदि से संबंधित डाटा इक्ट्ठा किया था। इसके साथ ही शोधकर्ताओं ने इस बारे में भी लोगों से पूछा कि वे आमतौर पर एक दिन कितने कप चाय पीते हैं। इन सभी के आंकड़ों के आधार पर शोधकर्ता इस निष्कर्ष पर पहुंचे कि रेगुलर चाय पीना 60 साल के बाद डिप्रेशन के खतरे से बचाता है।

शहरों में रहने वाले लोग ज्यादा हैं डिप्रशन का शिकार

शोधकर्ताओं ने इस शोध में यह भी पाया कि शहरों में रहने वाले उम्रदराज लोग डिप्रेशन का शिकार ज्यादा होते हैं, जबकि गांवों और कस्बों में रहने वाले बूढ़ों में डिप्रेशन का खतरा कम होता है। इसके साथ ही जो लोग सामाजिक गतिविधियों में एक्टिव रहते हैं, साथ ही रोजाना चाय पीते हैं, उनका मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य अन्य की अपेक्षा बहुत अच्छा रहता है।

इसे भी पढ़ें: 'डिप चाय' के साथ कहीं आप भी तो नहीं पी रहे प्लास्टिक? जानें क्यों नुकसानदायक हो सकती है 'टी बैग' वाली चाय

कौन सी चाय पीना है फायदेमंद

इस शोध के प्रमुख शोधकर्ता Qiushi कहते हैं, "इस रिसर्च के दौरान हमने जो डाटा इकट्ठा किया उसमें कई तरह की चाय शामिल हैं। मगर हमने पाया कि ग्रीन टी, ब्लैक टी और ओलौंग टी का सेवन इस उम्र में ज्यादा फायदेमंद होता है और ये चाय डिप्रेशन के खतरों से लड़ने में ज्यादा कारगर साबित होती हैं।"

Read more articles on Health News in Hindi

Disclaimer