सोयाबीन तेल का करते हैं इस्तेमाल तो हो जाएं सावधान, मस्तिष्क में हो सकते हैं जेनेटिक बदलाव: रिसर्च

नए अध्‍ययन के अनुसार, सोयाबीन तेल का सेवन आपके ऑटिज्म, अल्जाइमर रोग, चिंता और डिप्रेशन जैसी न्यूरोलॉजिकल स्थितियों को भी प्रभावित कर सकता है।

Sheetal Bisht
Written by: Sheetal BishtPublished at: Jan 20, 2020Updated at: Jan 20, 2020
सोयाबीन तेल का करते हैं इस्तेमाल तो हो जाएं सावधान, मस्तिष्क में हो सकते हैं जेनेटिक बदलाव: रिसर्च

अमेरिका में यूनिवर्सिटी ऑफ कैलिफोर्निया रिवरसाइड (यूसीआर) के शोधकर्ताओं ने अध्‍ययन में पाया, ''सोयाबीन के तेल का सेवन करने से न केवल मोटापा और मधुमेह हो सकता है, बल्कि "न्यूरोलॉजिकल स्थितियों को भी प्रभावित करता है।" शोधकर्ताओं ने इस अध्‍ययन में उल्‍लेख किया है कि सोयाबीन तेल का उपयोग फास्ट फूड फ्राइंग के लिए किया जाता है, जिसमें डिब्बाबंद खाद्य पदार्थों शामिल हैं। यह अध्‍ययन शोधकर्ताओं द्वारा चूहों पर किया गया था। 

यह अध्ययन, एंडोक्रिनोलॉजी पत्रिका में प्रकाशित किया गया था। जिसमें शोधकर्ताओं नें चूहों को तीन अलग-अलग हाई फैट भोजन खिलाया, जिसमें सोयाबीन तेल, सोयाबीन तेल को लिनोलेइक एसिड के साथ और नारियल तेल शामिल था। 2015 में, एक ही शोध दल ने भी पाया कि सोयाबीन तेल चूहों में मोटापा, मधुमेह, इंसुलिन प्रतिरोध और फैटी लीवर को प्रेरित करता है। वहीं एक समूह द्वारा 2017 के एक अध्ययन से पता चला है कि अगर सोयाबीन का तेल लिनोलिक एसिड के साथ होता है, तो यह कम मोटापा और इंसुलिन प्रतिरोध को प्रेरित करता है।

Soyabean Oil Linked Brain

हालांकि, नवीनतम अध्ययन में, शोधकर्ताओं सहित अध्‍ययन के पहले लेखक पूनमजोत देओल के अध्ययन सहित, मस्तिष्क पर मॉडिफाइड और अनमॉडिफाइड सोयाबीन तेल के प्रभावों के बीच कोई अंतर नहीं पाया। उन्होंने हाइपोथैलेमस पर मस्तिष्क के एक क्षेत्र, जहां कई महत्वपूर्ण प्रक्रियाएं होती हैं, पर तेल के स्पष्ट प्रभाव पाए।

यूसीआर के एसोसिएट प्रोफेसर और अध्ययन के प्रमुख लेखक मार्गरिटा कुर्रस-कोलाज़ो ने कहा, "हाइपोथैलेमस आपके मेटाबॉलिज्‍म के माध्यम से शरीर के वजन को नियंत्रित करता है और शरीर के तापमान को बनाए रखता है। इसके साथ ही यह आपके प्रजनन और शारीरिक विकास के लिए महत्वपूर्ण है।"

इसे भी पढें: मछली का तेल रेगुलर इस्तेमाल करने से पुरुषों में बढ़ती है शुक्राणुओं की संख्या, बेहतर होती है फर्टिलिटी

टीम ने निर्धारित किया कि सोयाबीन के तेल से चूहों में जीन की संख्या सही ढंग से काम नहीं कर रही है। ऐसा ही एक जीन "लव" हार्मोन, ऑक्सीटोसिन का उत्पादन करता है। सोयाबीन के तेल से चूहों में, हाइपोथैलेमस में ऑक्सीटोसिन का स्तर नीचे चला गया।

शोधकर्ताओं ने लगभग 100 अन्य जीनों की खोज की, जो सोयाबीन तेल के आहार से प्रभावित थे। उनका मानना है कि यह खोज न केवल एनर्जी मेटाबॉलिज्‍म के लिए है, बल्कि मस्तिष्क के उचित कार्य और आत्मकेंद्रित या पार्किंसंस जैसी बीमारियों के लिए भी रामबाण हो सकती है।  

Brain Changes

हालांकि, शोधकर्ताओं ने कहा कि इसके कोई सबूत नहीं है कि तेल इन बीमारियों का कारण बनता है। टीम ने केवल सोयाबीन तेल पर लागू होने वाले निष्कर्षों पर ध्यान दिया।

यूसीआर के टॉक्सिकोलॉजिस्ट और सेल बायोलॉजी के प्रोफेसर फ्रांसेस स्लेडेक ने कहा, "अपने टोफू, सोयमिल्क, एडेम या सोया सॉस को बाहर न फेंके, क्‍योंकि कई सोया उत्पादों में केवल तेल की थोड़ी मात्रा होती है, और बड़ी मात्रा में स्वास्थ्यवर्धक यौगिक जैसे आवश्यक फैटी एसिड और प्रोटीन भी होते हैं।"

इसे भी पढें: हुक्‍के का जहरीला धुआं बनता है दिल की बीमारियों का कारण, बढ़ जाता है स्‍ट्रोक और हार्ट अटैक का खतरा

शोधकर्ताओं ने अभी तक अलग नहीं किया है कि हाइपोथैलेमस में पाए जाने वाले परिवर्तनों के लिए तेल में कौन से रसायन जिम्मेदार हैं। हालांकि, उन्होंने दो उम्मीदवारों: लिनोलेइक एसिड को खारिज कर दिया है, क्योंकि मॉडिफाइड तेल ने आनुवांशिक व्यवधान भी पैदा किया है और स्टिजमास्टरोल - एक कोलेस्ट्रॉल जैसा रसायन, जो सोयाबीन तेल में स्वाभाविक रूप से पाया जाता है।

Read More Article On Health News In Hindi 

Disclaimer