बाल झड़ने की समस्या (हेयर फॉल) रोकने के लिए रोजाना करें इन 3 प्राणायाम का अभ्यास, मिलेगा फायदा

आज के समय में बाल झड़ने की समस्या से लाखों लोग पीड़ित हैं, बालों को झड़ने से रोकने के लिए आप नियमित रूप से इन 3 प्राणायाम का अभ्यास कर सकते हैं। 

Prins Bahadur Singh
Written by: Prins Bahadur SinghUpdated at: Aug 18, 2021 16:05 IST
बाल झड़ने की समस्या (हेयर फॉल) रोकने के लिए रोजाना करें इन 3 प्राणायाम का अभ्यास, मिलेगा फायदा

आज के समय में आधुनिक जीवनशैली और खानपान की वजह से लोग तमाम समस्याओं का शिकार हो रहे हैं। एक तरफ जहां आधुनिकता ने जीवन को आसान और सरल बनाया है तो वहीं इसकी वजह से शरीर और सेहत पर नकारात्मक असर भी पड़ते हैं। आधुनिक जीवनशैली और खानपान की वजह से सेहत से जुड़ी कई समस्याएं होती है जिनमें बालों का झड़ना (Hair Fall) भी एक प्रमुख समस्या है। हालांकि बाल झड़ने की समस्या के कई कारण होते हैं लेकिन खानपान और लाइफस्टाइल का भी असर इसपे होता है। तनाव, चिंता और पाचन से जुड़ी समस्याओं की वजह से लोग कम उम्र में ही इस समस्या के शिकार हो रहे हैं। बाल झड़ने की समस्या में योग और प्राणायाम बहुत फायदेमंद माना जाता है। नियमित रूप से कुछ योगासनों और प्राणायाम का अभ्यास करने से आप बाल झड़ने की समस्या कंट्रोल कर सकते हैं। बाल झड़ने की समस्या का हमारे शारीरिक स्वास्थ्य और मानसिक स्वास्थ्य से सीधा कनेक्शन है। ऐसे में आप इन 3 प्राणायाम का नियमित अभ्यास कर बाल झड़ने की समस्या (हेयर फॉल) से छुटकारा पा सकते हैं। आइये जानते हैं इनके बारे में।

बाल झड़ने की समस्या के कारण (What Causes Hair Fall?)

Pranayama-to-control-hair-loss

(Image Source - Freepik.com)

आमतौर पर बाल झड़ने की समस्या के पीछे आनुवांशिक कारणों को जिम्मेदार माना गया है। लेकिन आज के समय में खानपान और जीवनशैली की वजह से भी कम उम्र में बाल झड़ने की समस्या काफी लोगों में देखी जा रही है। कई लोगों में बीमारियों की वजह से भी बाल झड़ने की समस्या होती है। बाल झड़ने के पीछे कुछ मुख्य कारण इस प्रकार से हैं।

  • जेनेटिक्स की वजह से बाल झड़ने की समस्या।
  • थायराइड, एनीमिया, खोपड़ी की दाद, और एनोरेक्सिया की वजह से बाल झड़ना।
  • कुछ दवाओं के सेवन से बाल झड़ने की समस्या।
  • कैंसर की वजह से बाल झड़ने की समस्या।
  • प्रदूषण, खानपान और खराब लाइफस्टाइल से बाल झड़ने की समस्या।
  • मानसिक बीमारी, डिप्रेशन आदि की वजह से बाल झड़ने की समस्या।

बाल झड़ने की समस्या में करें इन 3 प्राणायाम का अभ्यास (Pranayama to Control Hair Fall)

बाल झड़ने की समस्या के पीछे तनाव और मानसिक बीमारियों को भी प्रमुख कारण माना गया है। तनाव, चिंता, एंग्जायटी और डिप्रेशन जैसे मानसिक अवसाद के कारण लोगों में बाल झड़ने की समस्या होती है। मानसिक समस्याओं से छुटकारा पाने के लिए रोजाना प्राणायाम का अभ्यास फायदेमंद होता है। प्राणायाम का नियमित अभ्यास न सिर्फ तनाव और चिंता जैसी मानसिक समस्या से मुक्ति देता है बल्कि शरीर को भी स्वस्थ रखने में बहुत फायदेमंद होता है। प्राणायाम के अभ्यास से पूरे शरीर में खून का संचार अच्छी तरीके से होता है। बालों के झड़ने की समस्या से निजात दिलाने और बालों के विकास के लिए इन 3 प्राणायाम का नियमित अभ्यास फायदेमंद होता है। 

इसे भी पढ़ें : सुखासन योग करने से क्या फायदे मिलते हैं और इसे कैसे किया जाता है? एक्सपर्ट से जानें इस योगासन के बारे में

Pranayama-to-control-hair-loss

(Image Source - Freepik.com)

1. बाल झड़ने की समस्या में अनुलोम-विलोम प्राणायाम का अभ्यास (Anuloma Viloma or Alternate Nostril Breathing)

अनुलोम-विलोम प्राणायाम का अभ्यास फेफड़ों को स्वस्थ रखने के साथ ही बाल झड़ने की समस्या में भी फायदेमंद होता है। अनुलोम-विलोम प्राणायाम को नाड़ी शोधन प्राणायाम भी कहा जाता है। इसका नियमित अभ्यास करने से तनाव और चिंता जैसी मानसिक समस्याओं में भी फायदा मिलता है। अनुलोम-विलोम का अभ्यास करने से शरीर में खून का संचार भी सही ढंग से होता है और बालों व खोपड़ी को पोषण देने का भी काम करता है। आप अनुलोम-विलोम प्राणायाम का नियमित अभ्यास कर बाल झड़ने की समस्या में फायदा पा सकते हैं। इस प्राणायाम का अभ्यास हाई ब्लड प्रेशर, हर्निया और दिल से जुड़ी गंभीर बीमारियों में नहीं करना चाहिए।

अनुलोम-विलोम प्राणायाम करने का तरीका (How to Do Anuloma Viloma Pranayama?)

अनुलोम-विलोम प्राणायाम का अभ्यास करने के लिए आप इन स्टेप्स को फॉलो कर सकते हैं।

  • सबसे पहले योगा मैट या चटाई पर साफ व हवादार जगह में बैठें।
  • इसके बाद पद्मासन की मुद्रा में आ जाएं।
  • अपने दाहिने हाथ की सबसे छोटी उंगली और अंगूठे के सहारे नाक को पकड़ें।
  • अब बाएं हाथ को घुटने के ऊपर रखें।
  • इसके बाद एक नाक को बंद करके तेजी से गहरी सांस लें।
  • अब धीरे-धीरे दूसरी नाक से सांस बाहर निकालें।
  • अब दूसरी नाक को बंद करके यही प्रक्रिया उलटे तरफ से दोहराएं।
Pranayama-to-control-hair-loss
(Image Source - Freepik.com)

2. कपालभाति प्राणायाम (Kapalbhati Pranayama)

कपालभाति प्राणायाम सांस को नियंत्रित करने का सबसे शक्तिशाली प्राणायाम होता है। कपालभाति का नियमित अभ्यास आपके मस्तिष्क को ऑक्सीजन पहुंचाने में मदद करता है। इसका नियमित अभ्यास शरीर की तंत्रिका तंत्र के लिए फायदेमंद माना जाता है और शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने में भी मदद करता है। कपालभाति का अभ्यास करने से तनाव और डिप्रेशन जैसी समस्याओं में भी बहुत फायदा मिलता है। कपालभाति प्राणायाम का अभ्यास डायबिटीज और मोटापे की समस्या में फायदेमंद माना जाता है। तनाव और मानसिक समस्याओं के कारण बाल झड़ने की समस्या में आप कपालभाति का अभ्यास कर सकते हैं।

कपालभाति प्राणायाम का अभ्यास करने का तरीका (How to Do Kapalbhati Pranayama?)

  • कपालभाति प्राणायाम का अभ्यास करने के लिए हवादार जगह पर योगा मैट या चटाई बिछाकर बैठ जाएं।
  • अब आप अपने दोनों पैरों को मोड़ते हुए पद्मासन लगा लें।
  • पद्मासन की स्थिति में आने के बाद अपनी सांस को जोर से बाहर की तरफ निकालें।
  • इसके बाद धीरे से अंदर की तरफ सांस लें।
  • लगभग 5 मिनट तक बिना रुके हुए इसी तरह सांस अंदर और बाहर करते रहें।
  • शुरुआत में इस तरह से सांस अंदर और बाहर करना थोड़ा मुश्किल हो सकता है।

3. भस्त्रिका प्राणायाम (Bhastrika Pranayama)

भस्त्रिका प्राणायाम, प्राणायाम का सबसे प्रमुख प्रकार है। इस प्राणायाम का नियमित अभ्यास शरीर के पित्त, कफ और वात दोष को दूर करने में भी बहुत उपयोगी माना जाता है। भस्त्रिका प्राणायाम का रोजाना अभ्यास करने से आपके शरीर का खून और तंत्रिका तंत्र दोनों शुद्ध होते हैं। बालों को झड़ने से रोकने और उनके विकास के लिए भस्त्रिका प्राणायाम का अभ्यास बहुत फायदेमंद माना जाता है। भस्त्रिका प्राणायाम का अभ्यास करने से पेट की चर्बी को भी कम करने में फायदा मिलता है। शरीर को डिटॉक्स करने के लिए भी भस्त्रिका प्राणायाम का अभ्यास बहुत फायदेमंद होता है। 

भस्त्रिका प्राणायाम का अभ्यास करने का तरीका (How to Do Bhastrika Pranayama?)

भस्त्रिका प्राणायाम का अभ्यास करने के लिए आप इन स्टेप्स को फॉलो कर सकते हैं।

  • सबसे पहले किसी शांत और हवादार जगह पर वज्रासन की स्थिति में बैठ जाएं।
  • अब अपने दोनों हाथों को ज्ञान मुद्रा में रखें।
  • इसके बाद जोर से अंदर की तरफ सांस खींचे और बाहर करें।
  • दोनों नाक से 10 बार ऐसे सांस अंदर और बाहर करें। 
  • खाली पेट रोजाना इस प्रक्रिया को 5 बार दोहराएं।
Pranayama-to-control-hair-loss
(image Source - Freepik.com)
 

इन प्राणायाम का नियमित अभ्यास करने के अलावा बालों को झड़ने से रोकने के लिए आपको स्वस्थ आहार की आवश्यकता होती है। नियमित रूप से स्वस्थ और संतुलित आहार का सेवन करें। इसके अलावा गंदगी और प्रदूषण भी बालों को नुकसान पहुंचाते हैं इसलिए अपने बालों को झड़ने से बचाने के लिए उन्हें नियमित रूप से सही तरीके साफ जरूर करें।

(Main Image Source - Freepik.com)

Read More Articles on Yoga in Hindi

Disclaimer