International Day of Yoga 2020: योगासनों से पहले क्यों जरूरी है पद्मासन? जानें इसका सही तरीका और स्वास्थ्य लाभ

International Day of Yoga 2020: योगासनों के अभ्यास से पहले मन को शांत और स्थिर करने के लिए आपको पद्मासन का अभ्यास करना जरूरी है।

Anurag Anubhav
Written by: Anurag AnubhavPublished at: Mar 17, 2020
International Day of Yoga 2020: योगासनों से पहले क्यों जरूरी है पद्मासन? जानें इसका सही तरीका और स्वास्थ्य लाभ

International Day of Yoga 2020: योगासन आपको स्वस्थ रखने का सबसे आसान और सुरक्षित विकल्प हैं। हालांकि कुछ योगासनों को करने के लिए आपको एक्सपर्ट की मदद लेनी पड़ती है, मगर ज्यादातर योगासनों को करना आसान होता है और आप बिना किसी एक्सपर्ट की मदद से इन्हें घर पर भी कर सकते हैं। योगासनों के नियमित अभ्यास से आप शारीरिक रूप से तो फिट रहते ही हैं, साथ ही इसके ढेर सारे मानसिक लाभ हैं, जिनके कारण दुनियाभर में योगासनों को महत्व दिया गया है।

अगर आप इनके स्वास्थ्य लाभों के कारण योगासन करना चाहते हैं, तो बहुत अच्छी बात है। मगर सभी योगासनों से पहले पद्मासन या कमलासन का अभ्यास जरूरी माना जाता है। योगासनों से पहले ये आसन क्यों जरूरी है, इसके कई कारण हैं। आइए आपको बताते हैं इसका कारण, लाभ और करने का सही तरीका।

योगासनों से पहले क्यों जरूरी है पद्मासन?

पद्मासन को सभी योगासनों से पहले करने की सलाह इसलिए दी जाती है कि योगासन सिर्फ फिजिकल या मेंटल एक्टिविटी नहीं है, बल्कि एक तरह की साधना है। प्राचीन समय में ऋषि-मुनि और उनके शिष्य आदि स्वस्थ रहने के लिए योग साधना करते थे। चूंकि इसे हर तरह की मनोस्थिति में नहीं किया जा सकता है, इसलिए योगाचार्य सलाह देते हैं कि कोई भी व्यक्ति जो योगासन करना चाहता है, उसे पहले पद्मासन करना चाहिए। पद्मासन से मन और मस्तिष्क शांत हो जाते हैं।

इसे भी पढ़ें: तेज दौड़ने, पंजों को मजबूत बनाने और पैरों की थकान मिटाने के लिए 5 मिनट में करें ये 3 योगासन

क्या हैं पद्मासन के लाभ?

  • पद्मासन करने से आपकी एकाग्रता शक्ति बढ़ती है।
  • पद्मासन के दैनिक अभ्यास से आपकी याद करने की क्षमता (याददाश्त) बढ़ती है।
  • इस आसन को करने से आपके रीढ़ की हड्डी सीधी होती है और बॉडी पॉश्चर सुधरता है।
  • इस आसन को करने से तनाव, चिंता और अवसाद जैसी मानसिक समस्याओं में लाभ मिलता है।
  • गुस्से को कंट्रोल करने और मन के विकारों को दूर करने के लिए पद्मासन का अभ्यास किया जा सकता है।
  • पद्मासन को नियमित करने से आपकी चिड़चिड़ेपन की समस्या दूर हो जाती है और मन की चंचलता कम होती है।
  • पद्मासन आपके शरीर में हैप्पी हार्मोन्स रिलीज करता है, जिससे आप दिनभर ऊर्जावान बने रहते हैं।
Watch Video: गर्भवती महिलाओं के लिए योग - पद्मासन

कैसे करें पद्मासन का अभ्यास?

  • सबसे पहले योगा मैट पर बैठ जाएं और मन को शांत होने दें।
  • अब अपने दाएं पैर को मोड़कर बाईं जांघ पर रख लें और बाएं पैर को मोड़कर दाईं जांघ पर रख लें या जहां भी आप कंफर्टेबल हों, वहां रख लें।
  • केवल इस बात का ध्यान रखें कि आपके पैर के तलवे आपके पेट को छूते हुए होने चाहिए।
  • इसके बाद दोनों हाथों को ज्ञान मुद्रा में करके सही से बैलेंस बनाएं।
  • आंखों को बंद करें और सांसों को भीतर खींचें और बाहर करें।
  • इस समय आपका पूरा ध्यान अपनी आती-जाती सांसों पर होना चाहिए। दूसरी सभी चीजों से अपना मन हटाकर सांसों पर केंद्रित करें।
  • 5-10 मिनट इस तरह अभ्यास करने के बाद आप कोई भी योगासन कर सकते हैं।

पद्मासन करते समय जरूरी बातें

पद्मासन देखने में बहुत आसान लग सकता है और संभवतः होता भी है। मगर इसे करने के लिए आपको थोड़ी तैयारियां करनी पड़ती हैं। जैसे जिस जगह पर आप योगासन करने जा रहे हैं, वो बिल्कुल शांत और शीतल होनी चाहिए, जिससे कि आपको किसी तरह की शारीरिक समस्या न हो और ध्यान न भटके। इसके अलावा यह भी ध्यान रखें कि पद्मासन का अभ्यास खाली पेट में किया जाना चाहिए। यही कारण है कि इसे करने का सबसे सही समय सुबह का होता है। लेकिन अगर आप शाम को भी इस आसन का अभ्यास करना चाहते हैं, तो कम से कम खाने के 2 घंटे बाद ही करें।

Read more articles on Yoga in Hindi

Disclaimer