इस आसान से योगासन द्वारा सिर्फ खड़े रहकर भी बढ़ा सकते हैं अपना स्टैमिना, जानें फायदे और तरीका

स्टैमिना बढ़ाने के साथ-साथ ये योगासन आपको बैलेंस बनाने, शारीरिक रूप से स्वस्थ रहने, तनाव और चिंता को दूर करने में भी मददगार है।

Anurag Anubhav
Written by: Anurag AnubhavPublished at: Feb 11, 2020Updated at: Feb 11, 2020
इस आसान से योगासन द्वारा सिर्फ खड़े रहकर भी बढ़ा सकते हैं अपना स्टैमिना, जानें फायदे और तरीका

अगर आप काम करते हुए बहुत जल्दी थक जाते हैं या मेहनत वाले काम करने पर आपकी सांस बहुत जल्दी फूलने लगती है, तो इसका अर्थ है कि आपका स्टैमिना कम है। स्टैमिना का अर्थ है किसी भी काम को लगातार करने की शारीरिक या मानसिक क्षमता। आमतौर पर हम इसका अर्थ फिटनेस ही समझते हैं। स्टैमिना बढ़ाने के लिए लोग तरह-तरह की दवाओं, मल्टीविटामिन कैप्सूल्स, पाउडर आदि का सहारा लेते हैं। मगर इनके बहुत सारे साइड इफेक्ट्स भी होते हैं। अगर आप सुरक्षित तरीके से बिना ज्यादा मेहनत किए अपना स्टैमिना बढ़ाना चाहते हैं, तो हम आपको बता रहे हैं बहुत आसान या योगासन।

क्यों जरूरी है स्टैमिना बढ़ाना?

स्टैमिना बढ़ाना आज के समय में इसलिए जरूरी हो गया है क्योंकि हर क्षेत्र में लगातार कॉम्पटीशन बढ़ता जा रहा है। सबसे आगे रहने के लिए आपको लोगों से अतिरिक्त मेहनत करनी पड़ती है। इसके अलावा एक सच्चाई यह भी है कि आजकल के खानपान और लाइफस्टाइल के कारण लोग पहले की अपेक्षा काफी सुस्त हो गए हैं। जिस तेजी से हमारे आसपास सुविधाएं बढ़ती जाती हैं, उसी तेजी से हम उनके आदी होते जाते हैं और शारीरिक मेहनत घटाते जाते हैं। अगर कोई व्यक्ति शारीरिक मेहनत नहीं करता है, तो उसका स्टैमिना कम होना तय है।

इसे भी पढ़ें: एक्सरसाइज के समय ये 5 आदतें बढ़ा देंगी आपकी परफॉर्मेंस, कम समय के वर्कआउट में मिलेंगे ज्यादा फायदे

कैसे करें योगासन

  • सबसे पहले योगा मैट बिछाकर बिल्कुल सीधा खड़े हो जाएं और पैरों के बीच 1 फुट का अंतर रखें।
  • अब अपने दोनों हाथों को सीने के सामने मिलाते हुए नमस्ते करने की पोज में लाएं।
  • इसी पोजीशन में रहते हुए धीरे-धीरे अपने दाएं पैर को मोड़ते हुए अपनी बांई जांघ से टिका लें।
  • इस तरह से आपके शरीर का पूरा वजन एक पैर पर आ जाएग। इस दौरान संतुलन बनाए रखें वर्ना आप गिर भी सकते हैं।
  • इस पोजीशन में रहते हुए 30-30 सेकंड की गहरी सांस लें और धीरे-धीरे छोड़ें।
  • जब आप थक जाएं, तो दूसरे पैर से भी यही योगासन करें।
  • दोनों पैरों से इस योगासन के 3-3 सेट करें।

क्यों फायदेमंद है ये योगासन

इस योगासन के दौरान आपके पूरे शरीर का भार एक ही पैर पर आ जाता है। इसलिए आपका बैलेंस सुधरता है और आपके पैरों की मजबूती बढ़ती है। इसके अलावा इस योगासन में आपके शरीर की लगभग सभी मांसपेशियों पर दबाव पड़ता है और पूरे शरीर में ब्लड सर्कुलेशन बढ़ जाता है, इसलिए ये योगासन पूरे शरीर के लिए फायदेमंद है। योगासन के दौरान जब आप गहरी-गहरी सांसें लेते हैं, तो आपके फेफड़ों में शुद्ध ऑक्सीजन की मात्रा बढ़ती है और ये ऑक्सीजन सेल्स तक पहुंचकर आपके स्ट्रेंथ को बढ़ाती है। रोजाना सिर्फ 15-20 मिनट समय निकालकर अगर आप ये एक योगासन कर लेते हैं, तो आपका स्टैमिना बहुत अच्छा हो जाएगा।

इसे भी पढ़ें: कमजोर हो गई हैं जोड़ों की हड्डियां तो मजबूती के लिए कैल्शियम की गोली नहीं, ये 4 प्राकृतिक उपाय अपनाएं

मस्तिष्क के लिए भी फायदेमंद है ये योग

सुबह पार्क में या खुली छत में अगर आप ये योगासन करते हैं, तो आपके शरीर में दिनभर एनर्जी बनी रहती है और आपका मस्तिष्क दिनभर एक्टिव रहता है। दरअसल इस योगासन के द्वारा सुबह की ताजी ऑक्सीजन आपके फेफड़ों में पहुंचती है, तो आपकी तंत्रिकाएं एक्टिव हो जाती हैं। ऑक्सीजन की अच्छी आपूर्ति से आपकी मस्तिष्क कोशिकाएं स्वस्थ रहती हैं। इसलिए ये योगासन आपको चिंता, तनाव, डिप्रेशन जैसी मानसिक समस्याओं से भी बचाता है।

Read more articles on Yoga in Hindi

Disclaimer