दिनभर में कितना खाएं नमक? जानें नमक के सेवन पर WHO की नई गाइडलाइन और अधिक नमक खाने के नुकसान

हाल ही में WHO ने नमक को लेकर कुछ गाइडलाइन जारी की है, जिसमें उन्होंने बताया है कि हमें दिन में कितने ग्राम नमक का सेवन करना चाहिए।

Garima Garg
Written by: Garima GargPublished at: May 14, 2021Updated at: May 14, 2021
दिनभर में कितना खाएं नमक? जानें नमक के सेवन पर WHO की नई गाइडलाइन और अधिक नमक खाने के नुकसान

खाने में अगर नमक ना पड़े तो खाना स्वादिष्ट नहीं लगता। खाने में बेहद अहम भूमिका निभाता है नमक (Salt)। ऐसे में अगर पता चले कि हम दिन में दोगुने नमक का सेवन कर तो क्या हो। जी हां डब्ल्यूएचओ ने हाल ही में एक अध्ययन किया है, जिसमें उन्होंने पता लगाया कि लोग दिन में लगभग कितना नमक का सेवन करते हैं। साथ ही इस बात का भी पता लगाया कि अधिक सोडियम के कारण विश्व में कितने लोग मर रहे हैं। WHO ने आंकड़ों के साथ जानकारी साझा करते हुए ये भी बताया कि हमें दिन में कितने ग्राम नमक का सेवन करना चाहिए? ऐसे में उन्होंने कुछ नई गाइडलाइंस जारी की है। आज का हमारा लेख डब्ल्यूएचओ की उन नई गाइडलाइंस पर ही है। आज हम आपको अपने इस लेख के माध्यम से बताएंगे कि आखिर दिन में कितने ग्राम नमक का सेवन करना चाहिए। साथ ही जानें कि अधिक नमक के सेवन से सेहत को क्या-क्या नुकसान (Side Effects of Salt) हो सकते हैं? पढ़ते हैं आगे... 

डब्ल्यूएचओ के मुताबिक, एक व्यक्ति दिन में 2 गुना नमक का सेवन कर रहा है। विशेषज्ञ मानते हैं कि व्यक्ति को अपनी डाइट में सोडियम और पोटेशियम की संतुलित मात्रा जोड़नी चाहिए। अगर कोई व्यक्ति कम पोटेशियम और ज्यादा सोडियम का सेवन करता है तो यह सेहत के लिए हानिकारक साबित हो सकता है। ऐसा इसलिए क्योंकि ज्यादा सोडियम हमारे शरीर में कई समस्याओं को पैदा कर सकता है। जैसे दिल की समस्या, ब्लड प्रेशर की समस्या या स्ट्रोक जैसी समस्या। वहीं सोडियम के ज्यादा सेवन से हड्डियों में भी कमजोरी आ जाती है।

इसे भी पढ़ें- सफेद नमक से ज्यादा गुणकारी होता है हिमालयन साल्ट, न्यूट्रीशिनिस्ट से जानें इसके फायदे-नुकसान

क्या कहते हैं डब्ल्यूएचओ के आंकड़े

डब्ल्यूएचओ के आंकड़ों के मुताबिक, अधिकतर लोग नियमित रूप से 9 से 12 ग्राम नमक यानी सोडियम ग्रहण कर रहे हैं। इन आंकड़ों के आधार पर विश्व में हर साल लगभग 3 मिलियन लोग सोडियम के कारण पैदा होने वाली बीमारियां से मर रहे हैं। संगठन ने यह जाना कि अगर नमक (सोडियम) की खपत को ही अनुशंसित स्तरों तक हटाया जाए तो विश्व में लगभग 2.5 मिलियन लोगों की मरने से रोक उनकी जान बचाई जा सकती है।

डब्ल्यूएचओ के नई दिशा निर्देश

संगठन द्वारा जारी किए गए नए दिशा निर्देशों का लक्ष्य है खाद्य पर्यावरण में सुधार लाना। साथ ही जीवन को बचाना। ऐसे में संगठन ने 60 से अधिक फूड कैटेगरी (जिनमें सोडियम लेवल ज्यादा होता है), उनके लिए नए मानदंड तैयार किए हैं। नए मानदंडों के अनुसार, अगर आलू के चिप्स का पैकेट 100 ग्राम है तो उसमें सोडियम की मात्रा भी 100 ग्राम ही होनी चाहिए। उससे अधिक सोडियम का इस्तेमाल आलू के चिप्स में नहीं होगा चाहिए। वहीं अगर पेस्ट्री की बात करें तो उसमें 120 ग्राम सोडियम तथा प्रोसेस्ड फूड में सोडियम की मात्रा 30 मिग्रा निर्धारित की गई है।

WHO द्वारा जारी की गई गाइडलाइंस को पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें...

ज्यादा नमक खाने से होने वाले नुकसान

1 - जो व्यक्ति अपनी डाइट में अधिक सोडियम को जोड़ता है वह हाई बीपी की समस्या का शिकार हो सकता है। बता दें कि अधिक नमक शरीर में रक्त के प्रभाव की मात्रा को बढ़ाता है, जिसके कारण दिल और धमनियों पर ज्यादा दबाव पड़ता है।

इसे भी पढ़ें- 5 प्रकार के होते हैं नमक, जानें सेहत के लिए कौन सा नमक है सबसे ज्यादा फायदेमंद

2 - जिन लोगों को गुर्दे की पथरी की समस्या है वे अधिक नमक का सेवन ना करें। बता दें कि अधिक नमक के सेवन से मूत्र मार्ग में कैल्शियम बढ़ने लगता है और गुर्दे की पथरी का साइज भी बढ़ जाता है। इससे अलग यदि किसी व्यक्ति को गुर्दे की पथरी नहीं है तो अधिक नमक के सेवन से वह व्यक्ति भी पथरी का शिकार हो जाता है।

नोट - ऊपर बताए गए बिंदुओं से पता चलता है कि डब्ल्यूएचओ द्वारा जारी की गई गाइडलाइंस सेहत को कई समस्याओं से फायदा पहुंचा सकती हैं। ऐसे में यह हमारी जिम्मेदारी है कि हम अपने दैनिक आहार में नमक की मात्रा को 5 ग्राम से ज्यादा ना जोड़ें।

Read More Articles on healthy diet in Hindi

Disclaimer