बच्चों की गर्दन में दर्द के हो सकते हैं ये 5 कारण, जानें दर्द दूर करने के उपाय

कई कारणों से बच्‍चों की गर्दन में दर्द हो सकता है, इसे नजरअंदाज न करें बल्‍क‍ि फौरन लक्षण पहचानकर इलाज करवाएं

Yashaswi Mathur
Written by: Yashaswi MathurUpdated at: Aug 26, 2021 16:10 IST
बच्चों की गर्दन में दर्द के हो सकते हैं ये 5 कारण, जानें दर्द दूर करने के उपाय

कई कारणों के चलते बच्‍चों की गर्दन में दर्द हो सकता है ज‍िसका इलाज समय पर करना जरूरी है। आज के समय में खराब लाइफस्‍टाइल के चलते छोटे-छोटे बच्‍चे गर्दन दर्द की श‍िकायत ल‍िए डॉक्‍टर के पास आते हैं, दर्द को दूर करने के ल‍िए आप कई उपाय अपना सकते हैं पर पहले कारण जानना जरूरी है। अगर किसी बीमारी के चलते बच्‍चे के गर्दन में दर्द है तो डॉक्‍टर टेस्‍ट के जर‍िए इसका पता लगा सकते हैं पर क‍िसी खराब आदत के कारण गर्दन में दर्द बढ़ रहा तो आपको बच्‍चे के बैठने की आदत, गलत पॉश्‍चर आद‍ि चीजों का ध्‍यान रखना होगा। इस लेख में हम बच्‍चों की गर्दन में दर्द के कारण और उपायों पर चर्चा करेंगे। इस व‍िषय पर ज्‍यादा जानकारी के ल‍िए हमने लखनऊ के केयर इंस्‍टिट्यूट ऑफ लाइफ साइंसेज की एमडी फ‍िजिश‍ियन डॉ सीमा यादव से बात की।

neck rash

(image source:childrenscolorado)

1. मैनिंजाइटिस (Meningitis) 

द‍िमाग और रीढ़ की हड्डी को सुरक्ष‍ित रखने के लि‍ए एक परत होती है ज‍िसे मेन‍िंगेस कहा जाता है जब इसमें सूजन आ जाती है तो उस बीमारी को हम मैंन‍िजाइट‍िस कहते हैं। इस बीमारी में गर्दन में रैशेज या सूजन नजर आ सकती है। बैक्‍टीर‍ियल या वायरस संक्रमण के कारण ये बीमारी होती है। इस बीमारी में बच्‍चे को बुखार भी आ सकता है, अन्‍य लक्षणों में स‍िर का दर्द और खाने में तकलीफ हो सकती है। अगर ऐसे लक्षण नजर आ रहे हैं तो तुरंत आपको डॉक्‍टर के पास जाना चाह‍िए।

इसे भी पढ़ें- किन स्थितियों में जरूरी है शिशु का वजन चेक करना? एक्‍सपर्ट से जानें श‍िशु के सही वजन की पूरी जानकारी

2. गैजेट्स का ज्‍यादा इस्‍तेमाल करना (Using gadgets)

using gadgets

(image source:wixstatic.com)

गैजेट्स का ज्‍यादा इस्‍तेमाल करने से बच्‍चों की गर्दन में दर्द हो सकता है। गैजेट्स जैसे लैपटॉप या मोबाइल को ज्‍यादा समय तक चलाने से गर्दन में दर्द हो सकता है। बच्‍चे सही गैजेट्स को इस्‍तेमाल करते समय सही पॉश्‍चर नहीं अपनाते ज‍िसके चलते उनकी गर्दन में दर्द हो सकता है। इस समस्‍या से बचने के ल‍िए आपको बच्‍चे की आंखों के लेवल पर ड‍िवाइस को रखवाना है, अगर आंखों के नीचे ड‍िवाइस होगा तो स‍िर में या गर्दन में दर्द होना स्‍वाभाव‍िक है। 

3. लाइम ड‍िसीज (Lyme disease) 

pain in neck

(image source:injuredcalltoday)

लाइम ड‍िसीज एक तरह की फैलने वाली बीमारी है जो एक से दूसरे में हो सकती है। ये बीमारी बोरेल‍िया बर्गडोरफेरी नाम के बैक्‍टीरिया के काटने से होती है। ये बीमारी होने पर भी गर्दन में दर्द हो सकता है। गर्दन में दर्द के अलावा बुखार, स‍िर में दर्द, कमजोरी, मांसपेश‍ियाें में दर्द आद‍ि की समस्‍या हो सकती है। इस बीमारी से बचने के ल‍िए बच्‍चे को घास पर बैठने से मना करें, बाहर जाते समय बच्‍चे को फुल स्‍लीवस के कपड़े और जूते पहनाएं। 

4. गलत तरीके से सोना (Sleeping in a wrong position)

अगर रात के समय बच्‍चा गलत तरीके से सोता है तो भी उसकी गर्दन में दर्द हो सकता है। आपको ये ध्‍यान रखना है क‍ि बच्‍चे की गर्दन पर ज्‍यादा दबाव न पड़े। अगर अक्‍सर बच्‍चे की गर्दन में दर्द रहता है तो आप उसे पतला तक‍िया दें। कोश‍िश करें क‍ि तक‍िए की जरूरत न हो पर अगर बच्‍चे को नींद न आए तो पतला तक‍िया दे सकते हैं। आप बच्‍चे के ल‍िए मार्केट से ऑर्थो प‍िलो भी ले सकते हैं।

5. गलत पॉश्‍चर में बैठना (Sitting in a wrong position)

wrong position

(image source:eastgippslandosteopathy)

गलत पॉश्‍चर में बैठने के कारण भी बच्‍चे की गर्दन में दर्द हो सकता है। कुछ बच्‍चे पूरे द‍िन लैपटॉप या डेस्‍क पर पढ़ते हैं ऐसे में आपको उनको समझाना चाह‍िए क‍ि पढ़ने के बीच ब्रेक भी जरूरी है। गलत पॉश्‍चर से स्‍पाइन पर दबाव पड़ता है और गर्दन में दर्द हो सकता है। हमेशा ध्‍यान दे क‍ि आपका बच्‍चा बैठते समय अपनी पीठ सीधी रखे, इससे पॉश्‍चर नहीं ब‍िगड़ेगा और गर्दन में दर्द की समस्‍या भी नहीं होगी।

इसे भी पढ़ें- ध्‍यान न देने पर गंभीर हो सकती है बच्‍चों में गले के खराश की समस्‍या, जानें इससे बचाव के 5 उपाय

इन बातों का ध्‍यान रखें (Points to keep in mind)

  • अगर बच्‍चे की गर्दन का दर्द ठीक नहीं होता है तो डॉक्‍टर एक्‍स-रे या एमआरआई के जर‍िए ये चेक करते हैं क‍ि बीमारी या दर्द का क्‍या कारण है।
  • आपको हर साल बच्‍चे का फुल बॉडी चेकअप करवाना चाह‍िए, इससे पता चलेगा क‍ि कहीं कोई परेशानी तो नहीं है। 
  • बच्‍चे को हर द‍िन कम से कम आधा घंटा योगा करवाएं ज‍िससे बच्‍चे के शरीर में दर्द न हो और बीमारी उसे छू न पाए। 
  • बच्‍चे के गैजेट्स इस्‍तेमाल करने का समय फ‍िक्‍स कर दें, अगर आप ध्‍यान नहीं देंगे तो बच्‍चे क‍िसी भी पोज‍िशन में बैठकर टीवी या मोबाइल, लैपटॉप चलाएंगे। 

गर्दन का दर्द ठीक करने के उपाय (How to treat neck pain in kids)

haldi for neck

(image source:wellthy.care) 

  • गर्दन का दर्द ठीक करने के ल‍िए आप हल्‍दी का इस्‍तेमाल कर सकते हैं। बच्‍चे को रोजाना एक ग‍िलास दूध में हल्‍दी डालकर दें ताक‍ि उसकी गर्दन का दर्द जल्‍द दूर हो जाए।
  • गर्दन का दर्द दूर करने के लि‍ए आप बच्‍चे की गर्दन पर हल्‍दी का लेप भी लगा सकते हैं। हल्‍दी में एंटी-इंफ्लामेटरी गुण होते हैं ज‍िससे दर्द दूर होता है। 
  • आप बच्‍चे को की गर्दन पर अदरक का पेस्‍ट भी लगा सकते हैं, या अदरक का पानी प‍िलाने से भी गर्दन का दर्द दूर होता है।
  • अदरक का पानी बनाने के ल‍िए दो कप पानी को गरम करें, इसमें अदरक कूटकर डालें और शहद म‍िलाएं और बच्‍चे को दें तो दर्द से राहत म‍िलेगी। 
  • लैवेंडर ऑयल के फायदे भी गर्दन के दर्द को दूर करने के ल‍िए काफी हैं, लैवेंडर ऑयल में आप कोकोनट ऑयल म‍िक्‍स करें या ऑल‍िव म‍िला सकते हैं और इसे गर्दन पर लगा लें। इससे दर्द दूर हो जाएगा।
  • गर्दन में हो रहे दर्द को दूर करने के ल‍िए आप गरम या ठंडे पानी से बच्‍चे की गर्दन पर स‍िकाई कर सकते हैं या नमक की थैली का इस्‍तेमाल भी कर सकते हैं।  
  • गर्दन का दर्द दूर करने के ल‍िए आप एप्‍पल साइडर व‍िनेगर का भी इस्‍तेमाल कर सकते हैं। एप्‍पल साइडर व‍िनेगर में एंटी-इंफ्लामेटरी गुण होते हैं उसे आप गर्दन पर लगाएंगे तो दर्द दूर होगा।

वैसे तो इन उपायों को अपनाने से गर्दन का दर्द दूर हो जाएगा पर अगर गर्दन का दर्द दूर न हो तो डॉक्‍टर को जरूर द‍िखाएं, क‍िसी बीमारी की आशंका होने पर अगर जल्‍द इलाज करवाया जाए तो बीमारी को बढ़ने से रोका जा सकता है। 

(main image source:cdnparenting)

Read more on Children Health in Hindi 

Disclaimer